सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रायबरेली जिले के विकास के लिए 3 अरब 84 करोड 31 लाख की योजनाओ की मंजूरी

लोकप्रिय प्रदेश सरकार के दिशा निर्देशांे में जनपद का साफ नियत, सही विकास, सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास सूत्रवाक्य के साथ निरंतर विकास हो रहा है। प्रदेश के स्टाम्प तथा न्यायालय शुल्क, पंजीयन एवं नागरिक उड्डयन व प्रभारी मंत्री जनपद नन्द गोपाल गुप्ता 'नन्दी' ने रायबरेली जनपद के सर्वागीण विकास के लिए कृषि, गन्ना, पशुपालन, सहकारिता, सड़क एवं पुल, स्वास्थ्य, शिक्षा, महिलाओ को आत्मनिर्भर बनाना, किसानो के उत्थान, ग्रामीण पेयजल, दुग्ध विकास, अनुसूचित जाति, जन जाति उत्थान, लघु एवं सीमान्त कृषको, चिकित्सा, अल्पसंख्यक कल्याण, ग्रामीण स्वच्छता, आदि जिला योजना वर्ष 2019-20 की संरचना हेतु 38431.00 लाख (3 अरब 84 करोड़ 31 लाख) धन आवंटन की स्वीकृति/अनुमोदन जनप्रतिनिधियो, अधिकारियो, सांसद, विधायको की उपस्थिति में जिला योजना समिति की बैठक में किया गया। प्रभारी मंत्री नन्दी ने कहा कि जन प्रतिनिधियो का भरपूर सहयोग लिया जाये। प्रदेश सरकार जिस मकसद के साथ काम कर रही है उसमें गरीब किसान, कमजोर की मदद मुख्य है उनकी योजनाएं उन तक अधिकारी पहुॅचाये। योजनाएं अच्छी है तथा सफल हो रही है। समय सीमा के अन्तर्गत कार्य सम्पादित किये जाये। योजनाओ का क्रियान्वयन इस तरह करे कि सरकार के सूत्रवाक्य साफ नियत सही विकास, सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास के साथ ही गरीब की पूरी मदद हो तथा गरीब को मदद महसूस भी है। उन्होंने कहा कि जो आय व्यय हुआ है जमीन पर दिखना चाहिए, निगरानी और सत्यापन व क्रियान्वयन ठीक से हो ताकि किसी भी प्रकार की शिकायत का मौका न आये, विकास कार्य युद्धस्तर पर पूरे होकर देश व समाज का विकास निरंतर हो।
प्रभारी मंत्री ने कहा कि प्रदेश के युवा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में राज्य सरकार लोक कल्याण के प्रति समर्पित होकर बगैर किसी भेदभाव के समाज के सभी वर्गों के लिए कार्य कर रही है। इसके लिए शासन-प्रशासन को संवेदनशील और जवाबदेह बनाया गया है। वर्तमान सरकार प्रदेश को विकसित एवं समृद्ध बनाने के लिए विकास योजनाओं का लाभ समाज के अन्तिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए कृतसंकल्पित है। बैठक में विभागवार प्रस्तावित कृषि विभाग हेतु 26 लाख, गन्ना विकास 3.61 लाख, लघु सीमान्त कृषको को सहायता हेतु 1500 लाख, पशुपालन 400.77 लाख, वन 1195.86 लाख, रोजगार कार्यक्रम 6717.21 लाख, पंचायती राज 1897.60 लाख, निजी लघु सिंचाई 2000 लाख, सड़क एवं पुल 4500 लाख, प्राथमिक शिक्षा 266.20 लाख, माध्यमिक शिक्षा 1330.04 लाख, ऐलोपैथिक चिकित्सा 1040.24 लाख, आयुर्वेदिक 83.88, होम्योपैथिक 305.78 लाख, ग्रामीण स्वच्छता 5310.36 लाख, नगर विकास 547.46 लाख, समाज कल्याण 6300.00 लाख, विकलांग कल्याण 120.80 लाख, महिला कल्याण 700.00 लाख, सामुदायिक ग्राम्य विकास 416.92 लाख सहित अन्य कई विभागो सहित परिव्यय हेतु कुल 38431 लाख का अनुमोदन किया गया। जिलाधिकारी नेहा शर्मा तथा मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने प्रभारी मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता 'नन्दी' तथा आए हुए सभी अतिथियो का जिला योजना वर्ष 2019-20 के अनुमोदनार्थ जिला योजना समिति के सदस्यो का स्वागत एवं आभार प्रकट किया तथा उन्होने मंत्री और सदस्यो व अधिकारियो से कहा कि शासन की मंशा के अनुरूप विकास कार्यो को कराया जाएगा। बैठक मंे जिलाधिकारी नेहा शर्मा व मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार डीडीओ, पीडी, डीएसटीओ ने जिला योजना वर्ष 2019-20 के अनुमोदनार्थ जिला योजना समिति की बैठक को अन्य महत्वपूर्ण सुझावो विचारो से भी अवगत कराया। इस मौके पर एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, उमेश द्विवेदी, डा0 मनो कुमार पाण्डेय पूर्व मंत्री, विधायक राम नरेश रावत, धीरेन्द्र बहादुर सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह, जिला महामंत्री देवेन्द्र सिंह, जिलाध्यक्ष रामदेव पाल, पूर्व जिलाध्यक्ष दिलीप यादव, सभासद पूनम तिवारी आदि सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि व अधिकारीगण उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने किया।
लैपटाप का वितरण
इस मौके पर प्रभारी मत्री व जनप्रतिनिधियों द्वारा तहसील सदर के लेखपालों को लैपटाप वितरण भी किये गये तथा उनसे कहा कि लैपटाप का प्रयोग भली-भांति करें। जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने कहा कि लैपटाप सभी तहसील के लेखपालों को तहसील स्तर पर वितरण किये जायेगे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति