सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रिफ्रेश का बटन दबाकर तरो ताज़ा हो गया

हमारी जिन्दगी एक रेलगाड़ी की तरह है, जो कि समय-समय पर अलग-अलग स्टेशनों पर आ कर रुक जाती है। जिन्दगी के अलग-अलग आयाम, अलग-अलग मंजिलों की तलाष करने लगते हैं। किसी बहते हुए पानी की तरह तमाम पत्थरों, कांटों और जंगलों में होता हुआ हमारा लक्ष्य हजारों अनुभवों को अपने मस्तिक में समेट लेता है। जिनकी यादें व्यक्ति की आँखों में आंसू लेकर आतीं हैं, ये आंसू की बूंदें कोई और नहीं बल्कि वही चोट खायी हुयी निर्मल जल हैं, जो अब बह रहे निकले, ऐसा एहसास एक व्यक्ति के हृदय में बहुत सी आत्मसंतुष्टि लेकर आती है और अपने आपको एक व्यक्ति शांत अनुभव करने लगता है। हमारे शरीर की रचना में ईश्वर ने हमें अनेकों अंग दिए हैं, जोकि भौतिक जगत में होने वाले सभी हलचलों को अनुभव करता है और मश्तिष्क में सुरक्षित करने लगता है। हमारी आंखें जो भी देखती हें, उसे चित्र रूप में मस्तिष्क में संकलित करती है। हमारा शरीर स्पर्ष को भी स्मरण करने लगती है। हमारा शरीर अपने आपमें एक जगत है। जो कि सम्पूर्ण ब्रह्याण की रचना करने के लिए पर्याप्त है। जब बच्चा पैदा होता है, तो उसका मस्तिष्क बिलकुल नया होता है। अपने चारों ओर होने वाली आवाजों, चित्रों ओर स्पर्ष को जब प्रथम बार अनुभव करता है, तब वही चित्र, स्पर्ष और आवाज उसके लिए आधार हो जाते हैं, जैसे जहां भी आप आपका जन्म होता है, वहां का जल आपको सबसे अधिक मीठा प्रतीत होता है। क्योंकि शिशुकाल में पहली बार जो पानी की बूंदें आपके मुंह में डाली गयी, आपके लिए वही पानी के स्वाद का आधार बन जाती है और अनेकों वर्षो बाद जब भी आप अपने गांव जायेंगे और वहां का पानी पियेगें तो वह आपको सबसे मीठा प्रतीत होगा या किसी अथवा किसी भी और स्थान का जल जोकि आपके गांव के जल से मिलता-जुलता है, पीने पर आपको खुशी मिलेगी और संतुष्टि मिलेगी। क्योंकि आपके मस्तिष्क में पानी का जो भी स्वाद सुरक्षित है उसका सौ प्रतिशत मिलान हो जाता है। फिर चाहे ही आपके मित्र आपसे कहते हों कि आपके गांव का पानी खारा है।
हाल ही में जब अपने एक कार्य में अपने में कुछ थकावट अनुभव करने लगा, तब मुझे ऐसा लगने लगा कि मेरी उम्र का बढ़ना शुरू हो गया है। और मेरे शरीर की मांसपेशियों वह शक्ति और ऊर्जा का एहसास नहीं कर पा रही हैं, जो कुछ वर्ष पहले मेरे पास हुआ करती थी। मुझे लगने लगा कि यह सब इतनी जल्दी कैसे हो गया। अभी तो जिन्दगी के दो ही अक्षर तो पढ़ पाया अभी हजारों ख्वाहिशें तो अधूरी ही रह गयी हैं। यह बातंे मेरे मन में एक बेचेनी को जन्म देने लगी, कई बार मैंने अपने आपको संभाला और उसे प्रेरित कर अधिक काम करने के साथ ही अथक परिश्रम करने लगा। लेकिन सप्ताहांत मेरे साथ यही होने लगा, तभी मेरे मन में ख्याल आया कि कई वर्ष हो गये हैं क्यों न अपने गांव होकर आयें। मेरे सतर्क मुझसे कह रहे थे, गांव जाकर तुम्हे जरूर अच्छा लगेगा और मेरे साथ ठीक वैसा ही हुआ। गाँव से लौटने के पश्चात् जैसे स्वयं ही रिफ्रेश का बटन दबाकर तरो ताज़ा हो गया हूँ।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति