सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

योग भारत की सदियो पुरानी ऋषि परम्परा का प्रसाद जिसे पूरा विश्व ग्रहण कर स्वास्थ्य लाभ ले रहा

5वां अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के स्टाम्प तथा न्यायालय शुल्क, पंजीयन एवं नागरिक उड्डयन व प्रभारी मंत्री जनपद नन्द गोपाल गुप्ता 'नन्दी' व रायबरेली की जिलाधिकारी नेहा शर्मा, पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह, विधायक धीरेन्द्र बहादुर सिंह, मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार एडीएम वित्त एवं राजस्व डा0 राजेश कुमार प्रजापति व उनकी पत्नी डा0 श्रेया, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 डी0के0 सिंह, सहायक निदेशक सूचना प्रमोद कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक शशीशेखर सिंह के साथ ही करीब दो हजार से अधिक लोगों ने सामूहिक योगाभ्यास कार्यक्रम में योगासन की विभिन्न मुद्राओं के जरिये जनपदवासियो को स्वस्थ्य और निरोगी रहने का व आरोग्य जीवन मूल मंत्र व आरोग्य स्वास्थ्य के टिप्स व संदेश दियेे । प्रभारीमंत्री नन्द गोपाल गुप्ता 'नन्दी' ने कहा कि सरकार द्वारा योग दिवस पर सामान्य योग अभ्यास क्रम (प्रोटोकाॅल) के सामान्य योग अपनाने को सामुहिक योगाभ्यास कार्यक्रम में कराया जा रहा है। जिसको नियमित रूप से करने से स्वयं, परिवार, समाज व राष्ट्र को स्वस्थ्य, समृद्ध व महान बनाने में योगदान कर सकते है। योग शरीर-मन को सुख पूर्वक स्थिर रखने का मार्ग है इसका मतलब आसन, व्यायाम या प्राणायाम भर नही है यह एक सम्पर्ण स्वस्थ रहने कि प्रक्रिया, विधा है इसमें आठ अंग-यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि होते है।
जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने कहा कि योग के लक्ष्य को पाने के लिए योगाभ्यासी को सभी अंगों का निष्ठा से पालन करना चाहिए। दूसरो से व्यवहार करते हुए जिन नैतिक मूल्यो का पालन करना होता है उसे यम कहा गया है, यम पांच होते है- सत्य, अहिंसा, अस्तेय, अपरिग्रह, ब्रहा्रचर्य, यम वाणी का सत्य होना, वाणी कर्म और विचारो में अहिंसा, ईमानदार होना, चोरी न करना, गैर जरूरत की चीजे तथा जो अपनी न हो उसे संग्रह न करना आदि पालन करने पर जोर दिया गया है। योग में अनुशासन पर भी जोर दिया गया है। अनुशासित व्यक्ति आसानी से योगासन में भली भांति पारंगत हो सकते है। योग में निरंतर हो सकते है। योग में निरंतर अभ्यास से शरीर पर नियंत्रण पा उसे स्वस्थ्य पूर्ण बना सकते है योग स्वस्थ जीवन का आधार है इसे दिनचर्या मंे शामिल करें।
सामंजस्य एवं शांति के संदेश के लिए योग पर आयोजित किये गये जनपद स्तरीय 5वां अन्तर्राष्ट्रीय योग सामूहिक योगाभ्यास कार्यक्रम का शुभारंभ प्रभारीमंत्री नन्द गोपाल गुप्ता 'नन्दी', जिलाधिकारी नेहा शर्मा, विधायक धीरेन्द्र बहादुर, पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित करके किया। जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने जनपद में आयोजित जनपदस्तरीय, ब्लाक स्तरीय, तहसीलस्तरीय व ग्राम पंचायत स्तर तथा अन्य कार्यक्रमों को देश का मान एवं योग की प्रतिष्ठा बढ़ाने वाले योगाभ्यास कार्यक्रमो की प्रंशसा करते हुए कहा कि योग भारत की सदियो पुरानी ऋषि परम्परा का प्रसाद है जिसे पूरा विश्व ग्रहण कर स्वास्थ्य लाभ ले रहा है। जिलाधिकारी नेहा शर्मा, मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार व एडीएम वित्त एवं राजस्व डा0 राजेश कुमार प्रजापति योग शिक्षक डा0 रवि प्रताप सिंह ने सामूहिक योगाभ्यास बताये गये नियमित योग से डायबिटीज उच्च रक्तचाप, सरवाइकल स्पान्डलाइटिस, थाइरायड, आस्टियोरोसिस, पाइल्स आदि बीमारियों से मुक्त में इलाज किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि देश में करीब 21 करोड से अधिकजन उच्च रक्तचाप से पीडित है। नियमित रूप से 10-15 मिनट की अवधि से बद्धाकोणासन योगासन करने, 5 करोड से अधिक डायविटीज जिले मंडूकासन, थायराइड-सर्वागासन, आस्टियोपोरोसिस वृक्षासन करने से ठीक नियंत्रित किया जा सकता है। इसी प्रकार अनमोल विलोम सहित दर्जनों आसान आसन जिससे रोगों को नियंत्रित किया जा सकता है। सूचना विभाग लखनऊ द्वारा लगी मा0 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की चित्रवाली होर्डिंग व एलईडी वैन के माध्यम से अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस का व्यापक प्रचार प्रसार के साथ ही 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जनपदस्तरीय स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में योग दिवस का संदेश दे रही थी। इस मौके पर नगर पालिका अध्यक्ष पूर्णिमा श्रीवास्तव, अनिता श्रीवास्तव, सारिका शुक्ला, नेहा मिश्रा, सितांशी मिश्रा, बीएसए पीएन सिंह, पीडी पे्रमचन्द्र, डा0 एस अस्थाना, जिला आयुर्वेदिक डा0 आशा रावत, प्रचारक श्री रामचन्द्र, अमरेश, प्रतोष, राजिव सिंह, अविनाश सिंह, डा0 प्रिया, डा0 अपर्णा, डा0 अनुभव आदि मो0 राशिद रियाज, चन्द्रसेन भारती, प्रिया गुप्ता, दाउद, शोएब, डीडी कृषि, जिला कृषि अधिकारी, के0के0 श्रीवास्तव, सुरैमलाल, महेश त्रिपाठी, रामेन्द्र, रामप्रकाश सहित अधिकारी व कर्मचारी, शिक्षक, शिक्षिकायें, छात्र-छात्रायें आदि अन्य लोगों ने उपस्थित होकर सामूहिक योगाभ्यास किया। योग अभ्यास कार्यक्रम में प्रभारीमंत्री, जिलाधिकारी, विधायक व अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी, कर्मचारी अधिकांश योग ड्रेस बनियान में चुस्त दुरूस्त, एक्टिव योग मोड में नजर आये योग से संबंधित सभी गतिविधियां सकुशल सम्पन्न करा रहे थे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति