सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

युवा, तकनीक और भविष्य से झांकते कुछ सवाल

नयी तकनीक और वैज्ञानिक उपलब्धिया काफी चर्चा में रही। इनमे से सबसे प्रबल चर्चित थी सोफिया, सऊदी अरब की नयी नागरिक जोकि एक ए-1 यानि की कृत्रिम बुद्धिमता वाला एक रोबोट है।
सोफिया एक नये युग की शुरूआत है या मानवता के अंत का संकेत, यह एक ऐसा विवाद जो शायद कभी अंत ना हो। मगर यह बात तो तय है कि तकनीकी विकास हमारे जीवन में अब एक अभिन्न स्थान है जो निरन्तर बढ़ रहा है। आज हमारे जीवन में प्रत्येक श्रेणी में तकनीक का अभूतपूर्व प्रसार हो रहा है। हमारे दिन-प्रतिदिन की गतिविधियाश्, हमारे जीवन की लय, सब कुछ तकनीक औ उसके उपकरणों पर निर्भर है। सोते-जागते, उठते-बैठते हर जगह किसी न किसी रूप में तकनीक हमारे जीवन में मौजूद है। जहा पुराने लोग नयी पीढ़ी के इस नये नशे को घड़ी-धड़ी बुरा-भला कहने से भी नही चूकते वहीं नयी पीढ़ी भी अपने मोबाइल, लैपटाप और मैसेज के बीच भागती जिन्दगी में झूमते नजर आते हैं।
ऐसा नही है कि तकनीक के पुजारी इसकी बुराइ्रयों से अनजान है। और ऐसा भी नही है कि तकनीक के विरोधी पूरी तरह से इससे अछूते हैं। सत्य यह है कि आज के युग में तकनीक से बचना नामुमकिन है। या फिर तभी मुमकिन है जबकि हम हिमालय पर जाके सन्यास लेने के इच्छुक हो। यदि आप को भौतिक युग में रहना है, जीवन यापन करना है तो तकनीक से दोस्ती लाजिमी है। कम या ज्यादा, यह शायद व्यक्तिगत पसंद हो, मगर तकनीक की उपयोगिता और सर्वभौतिकता अविवादित है।
मगर यह भी उतना ही बड़ा सत्य है कि तकनीक और उसके विभिन्न चेहरो की परछाईया एक ऐसा अंधा कुआ है जिसमें फंसकर हम सभी खासकर युवा पीढ़ी अपने वक्त, रिश्तों और यहा तक कि मानवता के अमूल्य भावनाओं और पलो से भी वंचित होती जा रही है। तकनीक का जाल हमारे वक्त और भावनात्मक संतुलन, दोनों पर ही एक ऐसा बोझ जो न निभाये निभता है और न हटाये हटना है।
अनुचित नही होगा कि तकनीक ही हमारी परतंत्रता का सबसे बड़ा कारण है जिसका शिकंजा हमारे जीवन, हमारे मन और हमारी आत्मा पर कसता जा रहा है।
उपाय है संयम! हमें और हमारी युवा पीढ़ी को यह याद रखने की जरूरत है कि तकनीक अंततः एक मानव सृजित गुलाम है जो हमारे सुविधा उपयोग के लिए बनाया गया है। इसे गुलाम से बढ़कर अपना मालिक बनाने की अनुमति देना हमारी घोर मूर्खता होगी। संयमित उपयोगी व समझदारी से इस पर नियंत्रण हमारी मानसिक, शारीरिक एवं अध्यात्मिक सेहत के लिए आवश्यक है। यदि हम चाहते है कि तकनीक हमारे जीवन को सुगम बनाती रहे व हम इसका भरपूर लाभ ले सके, जो हमें स्व अनुशासन को अपनाना होगा हमें यह याद रखना होगा कि अति सर्वत्र वर्जयेत और यदि तकनीक की अति की वजह से हमारे जीवन का नाश होता है तो वह तकनीक की नहीं हमारी गलती है।
अंततः यह हम पर भी निर्भर करता है कि हम निर्जीव तकनीक को जीवंत दुनिया में कैसे रहने देना चाहते है। क्या हम उसे अपना सर्वस्व सौपकर मानवता की बर्बादी के बीज बोना चाहते हैं या फिर हम समझदारी से बुद्धिमत्ता से उसका सदुपयोग करते हुए अपना ही नहीं बल्कि समस्त मानवता की प्रगति और विकास में सहयोग करना चाहते है। अंततः हमारे भविष्य का फैसला तकनीक पर नहीं, हम पर निर्भर है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति