बारिश के खुशनुमा मौसम में डीएम, एसपी ने वृक्षारोपण कर अभियान का शुभारम्भ किया

वन महोत्सव सप्ताह व संघन वृक्षारोपण अभियान के तहत जिलाधिकारी रायबरेली, नेहा शर्मा व पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार तथा डीएफओ तुलसीदास शर्मा ने बारिश का खुशनुमा मौसम में वन महोत्सव 1 से 7 जुलाई व संघन वृक्षारोपण अभियान 31 जुलाई तक के मद्देनजर तहसील डलमऊ व थाना डलमऊ में संघन वृक्षारोपण किया गया। डीएम, एसपी ने इमली, पाकड़, पीपल, जामुन, आम आदि के एक दर्जन से अधिक वृक्षो का रोपण किया और पानी भी दिया। डीएम ने जनपद वासियों का आव्हान करते हुए कहा है कि इस दौरान जनपदवासी खूब वृक्षारोपण करंे। वृक्षारोपण व उनका संरक्षण तथा संवर्धन कर जनपद व प्रदेश को हरा भरा बनाएं। वन नीति के अनुसार भूमि पर 33 प्रतिशत वृक्षों का होना अत्यन्त आवश्यक है। इसके लिए अपने घर या आस पड़ोस जहाॅं भी उपयुक्त स्थान हो, अधिक से अधिक छायादार/फलदार वृक्षों का रोपण किया जाए। प्रदेश में वृक्षारोपण महाकुम्भ के अन्तर्गत 22 करोड़ पौधों का रोपण किया जाना है जिसकी सभी अधिकारी समुचित तैयारी करके वृक्षारोपण का कार्य प्रारम्भ करें। सभी अधिकारी पूरी तैयारी व माइक्रो प्लान के तहत वृक्षारोपण करें।
डलमऊ तहसील प्रांगण में जिला वृक्षारोपण व जिला पर्यावरण समिति व जल संरक्षण एवं वर्षा जलसंचयन की बैठक जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने अध्यक्षता करते हुए निर्देश दिये है कि संघन वृक्षारोपण अभियान जो कि 1 जुलाई से 31 जुलाई एवं वन महोत्सव सप्ताह 1 से 7 जुलाई तक मनाया जाना है। जिससे गम्भीरता से लिया जाये। वृक्षो का महत्व जलसंरक्षण व संचयन व पर्यावरण को भली-भांति जाना जाये। प्रेदश में सरकार द्वारा 22 करोड़ वृक्षारोपण महाकुम्भ वर्ष 2019 लक्ष्य एवं क्रियान्वयन के तहत जागरूकता एवं प्रशिक्षण शिवरों के माध्यम से बताया जा चुका है कि जनपद में 2565110 वृक्षारोपण किया जाना है। जिसमें ग्राम्य विकास विभाग द्वारा 1681300 पौधे सहित शेष अन्य विभागों को किया जाना है। जिसकी रणनीति जिला वृक्षारोपण समिति व सभी विभाग बेहतर तरीके से बनाकर जियोटैगिंग की कार्यवाही कराया जाना शुरू करवा दिया गया है। जनपद में जुलाई व वर्षा के समय मंे अधिक से अधिक वृक्षारोपण कर शासन के निर्देशों का कडाई से अनुपालन करें तथा परस्पर बैठ कर सामंजस्य बनाकर निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप वृक्षारोपण करें और उसकी सूचना डीएफओ कार्यालय में दे। जिलाधिकारी ने डीएफओ तुलसीदास शर्मा, मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार, पीडी0 प्रेमचन्द्र, डी0सी0 मनरेगा पवन कुमार सिंह, समस्त खण्ड विकास अधिकारी समस्त एसडीएम सभी जनपद स्तरीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे अधिकारियों को साथ बेहतर सामंजस्य बनाकर जुलाई 2019 के आवंटित रोपण लक्ष्य की प्राप्ति करें। राष्ट्रीय वन नीति व उ0प्र0 वन नीति के अनुसार देश के प्रत्येक राज्य में 33 प्रतिशत भू-भाग पर वनों का विकास और हरितिमा आच्छादन किए जाने का लक्ष्य को प्राप्त करने के सम्बन्ध में अधिक से अधिक वृक्षारोपण किया जाना जरूरी है। प्रदेश के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 9.18 प्रतिशत क्षेत्र वनावरण एवं वृक्षारोपण से आच्छादित है। एक रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश राज्य के वृक्षावरण तथा वनावरण में समेकित रूप से कुल वृद्धि 676 वर्ग किमी0 (वनावरण में 278 वग कि0मी0 एवं वृक्षावरण में 398 वर्ग कि0मी0 क्षेत्रफल वृद्धि) हुई है। इस वृद्धि का मुख्य कारण सरकार द्वारा सफल वृक्षारोपण गतिविधियां तथा संरक्षण हेतु किये गये प्रयास है। वृक्षारोपण किया जाना एक निरन्तर प्रक्रिया है।
जिलाधिकारी के निर्देश दिये कि वे संघन वृक्षारोपण के लिए दिये जा रहे प्रशिक्षण को भली-भांति लेने के साथ ही अधिक से अधिक छायादार फलदार वृक्षो के रोपण के साथ ही पीपल, बरगद, पाकड़ को भी अधिक लगाये क्योकि यह वृक्षों अधिक आक्सीजन उसर्जित करते है। उन्होंने कहा कि जनपद में कुल 2565110 पौधरोपण का लक्ष्य है जिसमें ग्राम्य विकास विभाग 1681300, राजस्व 168130, पंचायती 168130 आवास विकास प्रधिकरण 7680, उद्योग 14386, नगर पालिका व पंचायत 28280, पीडब्ल्यूडी 28714, सिचाई विभाग 26600, रेशम विभाग, 5308, कृषि 53901, पशुपालन, 6650, सहकारिता 6700, उद्योग 9086, विद्युत 5320, डीआईओएस 79514, बीएसए 67252, प्राविधिक शिक्षा 12262, श्रम 3567, स्वास्थ्य 10649, परिवहन, 3680, रेलवे 6652, रक्षा 4630, उद्यान 168116 एवं पुलिस 7680 विभागों द्वारा वृक्षारोपण का लक्ष्य है।