सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारत को मजबूत स्थिति देगा

भारत पाक शत्रुता का जंम पाकिस्तान निर्माण से पूर्व ही मुस्लिम लीग की अलगाववादी, नफरतपरस्त, शत्रुतापूर्ण, हिंसक राजनीति के कारण हुआ, जो समय-समय पर किसी ना किसी बहाने से हिसंक रूप धारण कर लेती है। कभी बंटवारे, कभी कश्मीर, कभी पूर्वी पाकिस्तान मंे अपने ही नागरिकों के भीषण नरसंहार के बहाने से। 1962 मे भारत की चीन से पराजय और अमरीका से प्राप्त आधुनिक हथियारों के घमंड के बलबूते पर पाकिस्तान 1965 मे कश्मीर हड़पने की साजिश रचने मे लगा था। जनवरी 1965 मे पाक के सीमा सुरक्षा दल ने भारतीय नियंत्रण वाले क्षेत्र मे गश्त लगाना शुरू कर जिस पर कई बार तकरार हुयी 8 अप्रैल 65 को पाक सेना ने आपरेष्श्न डेर्जट फाक्स के तहत कच्छ की भारतीय चैकियों पर हमला कर दिया जिसका भारतीय फौज ने जवाब दिया जून 65 मे ब्रिटिश प्रधानमंत्री हेरोल्ड विल्सन ने समस्या सुलझाने के लिये दोनों देशो मे समझौता कराकर एक ट्रिब्नल बनाया भारतीय सेना को पीछे हटना पड़ा पाक ने गुजरात के कच्छ के रन की 3,500 वर्गमील 9,100 वर्ग किलोमीटर जमीन पर अपना दावा पेश किया बाद मे पता चला कि ट्रिब्नल ने 1968 मे 350 वर्गमील 9,10 वर्ग किमी.. जमीन पाक को प्रदान की। कच्छ की सफलता से भारत सरकार व सेना को कमजोर समझते हुये पाक राष्ट्रपति अयूब खां ने आपरेशन जिब्राल्टर नामक बड़े हमले द्वारा कश्मीर हड़पने की योजना बनाई इस योजना के अनुसार उन्होने 5 अगस्त 65 को 30,000 हजार से 35,000 पाक सैनिको की 10 बटालियनों को कश्मीरी वेशभूषा मे कश्मीर पर कब्जा करने के लिये भेजा जिनका कश्मीरी पुलिस, जनता व भारतीय फौज ने सफाया करना शुरू कर दिया 6 से 22 अगस्त के मध्य भयानक जंग हुयी। शुरू मे पाक को खेमकरन, ऊरी, पूँछ, टिटवाल मे कुछ सफलता मिली लेकिन 15 अगस्त को भारतीय फौज उड़ी से पाक क्षेत्र मे घुसी और हाजीपीर दर्रें के उपर की संखढाल, बेदौर चैकी और  टिटवाल व करगिल क्षेत्र की पाक चैकियों पर कब्जा कर पाक घूसपैठियों के आने के सारे रास्ते बंद कर दिये पाक सेना की भीषण संहार से बौखला कर 1 सितम्बर 1965 को पाकिस्तान ने कश्मीर के छम्ब क्षेत्र व अखनूर पर भारी सेना, तोपो, पैटन व शर्मन, अमरीकी टैंको और एयरफोर्स से हमला कर दिया जिसे उसने आपरेशन ग्रैन्ड सलाम कहा 5 सिंतम्बर तक तो भारत ने रक्षात्मक लड़ाई लड़कर पाक हमलो को नाकाम किया फिर भी पाक सेना के भारी दवाब के कारण 5 सिंतम्बर तक पाक सेना 10-12 मील तक अंदर घुस आई छम्ब क्षेत्र से पाक सेना के दवाब को तोड़ने के लिये 6 सितम्बर को भारतीय फौज ने पाक क्षेत्र के लाहौर, डेरा बाबा नानक व कसूर मे व 7-8 सितम्बर को स्यालकोट घुस कर जवाबी हमला किया भारतीय फौजो ने लाहौर, स्यालकोट के बाहरी क्षेत्र व रावी नदी के पार तक कब्जा कर लिया 3 सितम्बर को स्क्वैड्रन लीडर ट्रेवल कीलर ने अजेय माने वाले अमरीकी सैबर जेट को मार गिराया 6 सितम्बर को इन्डियन एयरफोर्स ने पाक के सरगोधा एयरबेस पर हमला किया जिसमे लगे अत्याधुनिक रडार व जैमर सिस्टमके कारण इन्डियन एयरफोर्स के दर्जनों फाईटर प्लेन नष्ट हो चुके थे यह रडार 200 मील दूर से ही भारतीय विमानों का पता लगा लेता था और उनके हमला करने से पूर्व ही पाक फाइटर प्लेन उन्हें घेर कर मार गिराते थे इस हमले मे सरगोधा का अत्याधुनिक रडार व जैमर सिस्टम हमले पूरी तौर पर नश्ट हो गया 9 व 10 सितम्बर को खेमकरण के असल उत्तर या असल अवतार गांव मे दोनो सेनाओं के बीच विश्व इतिहास का सबसे भीषण टैंक युद्ध हुआ जो द्वितीय विश्व युद्ध के बाद का सबसे बड़ा टैंक युद्ध था भारतीय आॅर्मर रेजीमेंट ने हाॅर्स शू शेप मे अपने टेंकों की मोर्चाबंदी की और पाक टेंकों को आगे आने दिया फिर तीन ओर से घेर कर उन्हें बुरी तरह नष्ट कर दिया जिसमे पाकिस्तान के 97 पैटन व शर्मन टैंक या तो नष्ट कर दिये गये या जब्त कर लिये गये भारत के 32 टैंक नष्ट हुये 8 से 10 सितम्बर के असल अवतार के टैंक युद्ध मे 4 ग्रेनेडियर के क्वाटर मास्टर हवलदार वीर अब्दुल हमीद ने तीन टैंक नष्ट किए 22 सितम्बर 1065 को संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद ने दोनों देशो से बिना शर्त युद्ध विराम करने को कहा जिसे दोनांे देशों ने मान लिया युद्ध थम गया 25 फरवरी 1966 को रूस के ताशकंद शहर मे पाक राष्ट्रपति अयुब खां और भारतीय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी ने समझौते पर दस्तखत किये जिसके अनुसार दोनों देश अगस्त 1965 के पूर्व की सामरिक स्थिति मे पहुँच गये। भारत सरकार ने वीर अब्दुल हमीद, कर्नल तारापोर तथा टेªवल कीलर को सर्वोच्च वीरता का एवार्ड परमवीर चक्र प्रदान किया। 
युद्ध का जमांक-1 सितम्बर 1965। प्रातः-4.00 बजे। छम्ब व अखनूर (जम्मू)
कर्क लग्न-18 अंश पर, लग्न मे बुध 29 अंश, सिंह मे सूर्य 15 अंश, कन्या मे नीच का शुक्र-21 अंश, तुला मे मंगल-14 अंश, चन्द्र-23 अंश, वृश्चिक मे केतु, कंुभ मे वक्री शनि-21 अंश, वृष मे राहू, मिथुन मे गुरू-4 अंश।
नवांश लग्न धनु कुंभ मे मंगल, मीन मे बुध, मेष मे चन्द्र शनि योग, वृष मे राहू, कर्क मे शुक्र, सिंह मे सूर्य, वृश्चिक मे केतु व गुरू।
 चूँकि हमला पाकिस्तान ने किया था अतः उपरोक्त जमांक मे लग्नेश चन्द्र पाकिस्तान और सप्तमेश षनि भारत का प्रतीक है। चन्द्र और शनि दोनों प्राकृतिक शत्रु हैं। अतः भारत पाक में पुरानी शत्रुता होगी चन्द्र शत्रु राशि तुला मे है। अतः पाक की युद्ध मे स्थिति कमजोर होगी तथा सप्तमेश षनि वक्री होकर कुंभ में, जो भारत को मजबूत पोजीशन देगा वक्री होने के कारण प्रारंभ मे भारत को कुछ पराजय का सामना करना पड़ेगा लेकिन वक्री होकर वह मकर का फल देगा जो भी शनि की स्वराशि है। दोनो राशियों मे स्वग्रही शनि प्रबल है। जो षष योग बना रहा है। अतः भारत की विजय निश्चित थी चन्द्र शत्रु राशि तुला मे है। अतः पाक की युद्ध मे स्थिति कमजोर होगी तथा सप्तमेश शनि वक्री होकर कुंभ मे स्वग्रही है। जो भारत को मजबूत स्थिति देगा।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति