सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

किसान मेलें का शुभारम्भ

प्रदेश के कृषि, कृषि शिक्षा-अनुसंधान राज्यमंत्री लाखन सिंह राजपूत ने कृषि विभाग द्वारा डलमऊ, रायबरेली में परम्परागत कार्तिक पूर्णिमा मेला के अवसर पर गंगाघाट रोड, डलमऊ भागीरथी गेस्ट हाउस के सामने 5 दिवसीय विराट किसान मेला का आयोजन 10 नवम्बर से 14 नवम्बर तक आयोजित होने वालें विराट किसान मेलें का शुभारम्भ फीता काटकर व दीप प्रज्ज्वलित करके किया। कृषि राज्यमंत्री ने किसान के विकास व सफलता के लिए कृषि विभाग तथा प्रदेश कृषि नीति द्वारा बताए गए दिशा निदेर्शो व आधुनिक तरीके से कृषि कर कृषि उपज व उत्पादन बढ़ाकर कृषि व किसान विकास समृद्धि मे आगे आए। किसानो के लिए कठिनाई मुश्किलें, बाधाएं आती रहती है परन्तु वह बाधाओ से विचलित हताश न हो। कोई न कोई रास्ता निकालकर कृषि विकास कर अग्रिम स्थान प्राप्त करते है किसानो के विकास, उत्थान तथा उन्नयन के प्रति देश व प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन पूरी तरह से संवेदनशील है। सरकार की परिकल्पना है कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी से अधिक कर समृद्धिशाली व सशक्त बनाना है। अर्थ व्यवस्था में कृषि का रोल है। सरकार द्वारा चलायी जा रही कल्याणकारी, लाभपरक योजनाओ का किसान बढ़चढकर लाभ ले। किसान व्यवसाय से अधिक कृषि अपनी संस्कृति समझे तथा प्रगतिशील किसान बनने की ओर अग्रसर निरन्तर है। किसान विविधीकरण खेती को अपनाएं तथा अपनी उपज बढ़ाए। इसके अलावा कृषि वैज्ञानिको द्वारा नित खोज किए जा रही है आधुनिक खेती कृषि उपकरण यंत्र आदि को भी जाने तथा उसके अनुरूप खेती करे। ऐसी फसलो केा अधिक बोए जिससे कृषि फसल रबी, खरीफ, जायज में उत्पादन मे वृद्धि हो।
 कृषि राज्यमंत्री ने कहा कि जनपद सहित पूरे प्रदेश मे कृषि विकास की असीम व अधिक संभावना है। आधुनिक तकनीकी उन्नतिशील बीज, खाद आदि उपयोग कर उपज बढ़ाए तथा किसान कहने और कहलाने मे गर्व महसूस करे। उन्होंने कहा कि किसान कृषि विविधिकरण के माध्यम से खेती करें और उसकी आय कैसे दोगुनी हो इस पर चिंतनमंथन व कार्य करें। मत्स्त्य पालन, पशुपालन, फूलों की खेती, गौवंश संरक्षण आदि को भी अपनायें। उन्होंने कहा किसान अपना ने धान क्रय केन्द्रो पर देकर अपनी उपज व सरकार द्वारा निर्धारित न्यूतम समर्थन मूल्य के अनुरूप लाभान्वित हो। उप कृषि निदेशक एच0एन0 सिंह व जिला कृषि अधिकारी ने बताया कि जनपद में उन्नतिशील बीज व खाद, कृषि रसायन की कोई कमी नही है। भगवान के बाद किसान को भी भगवान व अन्नदाता के रूप में जाना जाता है। केन्द्र, प्रदेश दोनो सरकारों के साथ ही कृषि विभाग व प्रशासन पूरा का प्रयास है कि किसान भाईयों की मालीहालत ठीक रहे। किसान जागरूक हो तथा अपनी फसल को उपजाकर अपनी आय बढ़ायें। किसी प्रकार की आपदा आती है तो उसका अनुदान बिना किसी भेदभाव के सभी को मिलेगा। फसल बीमा किसानो के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होनंे कहा कि किसान जैविक खादांे का प्रयोग करें। रसायनिक खादो की जहां जरूरत हो वही करे इसके अलावा पानी का पूरी तरह सदुपयोग करे। 
 उपनिदेशक कृषि एच0एन0 सिंह व कृषि वैज्ञानिक डा0 आर0के0 कनौजिया, चेयरमेन नगर पंचायत बृजेश दत्त गौड़, जिला कृषि अधिकारी ने भी अपने सम्बोधन में किसानों के विकास व उनकी आय में वृद्धि के बारे में बताया तथा कहा किसान लक्ष्यों को प्राप्त करने में आगे आएं। किसानों ने महत्वपूर्ण सुझावों आदि से अवगत कराया। इस मौके पर सहायक निदेशक सूचना प्रमोद कुमार आदि सहित गणमान्य जन उपस्थित थे। विराट किसान मेले को कृषि सम्बन्धित लिटरेचर नकली उर्वरक की पहचान वृद्धि, फसल अवशेष चलाने से हानिया, मित्र कीट, प्रमुख फसलों की उन्नतशील खेती एवं एकीकृत नाशीजीव प्रबन्धन आदि के फोल्डर, सूचना विभाग की लोकप्रिय पुस्तिका विकास एवं सुशासन के 30 माह सबका विकास सबका साथ सबका विश्वास आदि भी निःशुल्क वितरित की गयी। विराट किसान मेला व प्रर्दशनी को कृषि राज्यमंत्री ने उद्यान, मत्स्य, वन, कृषि, पशु पालन, भूमि सुधार विभाग की स्टाल को देखा तथा संबंधित को उचित दिशा निर्देश भी दिए। कृषि विभाग का स्टाल बंजरभूमि को किस प्रकार उपचारित कर उपजाऊ भूमि तैयार व तालाब आदि आधुनिक माॅ.डल को सभी लोगों ने प्रशासन की। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति