सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पैरालीसिस


 अनेक कारणों जैसे उच्च रक्तचाप, मस्तिष्क रोग, मस्तिष्क स्त्राव, हृदय रोग, रक्ताल्पता, आदि के प्रभाव से कुपित वायु जब शरीर के अधोभाग मे स्थित होकर शिराओं तथा स्नायुओं को सुखा कर सन्धि बन्धनो को शिथिल करती हुयी मनुष्य के दायें या बांये ओर की चेतना एवं क्रिया को नष्ट कर देती है। तो उस अवस्था को पक्षाघात या एकांग्ड. रोग कहते है। इसी प्रकार प्रकुपित वायु के सम्पूर्ण शरीर में व्याप्त होने पर सर्व शरीर की ंिक्रयाशीलता नष्ट हो जाती है। इसे पक्षवर्ध या अंगघात कहते हैं। कभी-कभी प्रकुपित वायु का प्रभाव चेहरे गले और मुख पर होता है इसे मुखाघात या फेशियल पैरालीसिस कहते हैं। केवल एक हाथ या एक पैर अर्थात दाहिनी या बांयी ओर और उसी तरफ मुख पर होने वाले वायु प्रकोप के प्रभाव सें दांयें या बांये ओर के हाथ पैर, चेहरे, जबान निष्क्रिय हो जातेे हैं। इस प्रकार के एकांगघात या अंगघात को पक्षाघात कहते हैं।
 चेष्ठावह संस्थान के विक्षतस्थल के अनुसार अंगघात या पक्षाघात निम्नलिखित 4 प्रकार के होते हैं।
एकांगघात
(मेनोपेलेजिया) मस्तिष्क के शतकीय भाग मे विकृति होने से प्रायः एकांगघात होता है। इस भाग पर नाड़ी तन्तु एक दूसरे से दूर रहते है। अतः विकृति का प्रभाव कम नाड़ी तन्तुओं पर होंने से किसी एक अंग ही को ही घात होता है। यह उध्र्व चेष्ठावह नाड़ी कंदायु अंगघात या अपर मोटर न्यूरान्स पैरालीसिस का ही एक प्रकार है। इसमें वातयुक्त अंग की पेशियां कड़ी नही बल्कि षिथिल हो जाती है। अतः इसे फलैसिड प्रकार का अंगघात भी कहते हैं। यदि विकृति कठिन स्वरूप की होती है। तो पैरालीसिस टैªक्ट कि अनेक तन्तुओं (फाइवर्स) का विनाश हो जाने से स्तब्ध या स्पाष्टिक स्वरूप का अंगघात भी होता है। कभी-कभी विकृति के अधिक व्यापक होने से पंगुता या अधरांगवात या पैराप्लैर्जिया की अवस्था भी उत्पन्न हो जाती है।
2. पक्षबद्ध अर्घांगवात (हेमीन्लैजिया) सेरिब्रल कार्टेक्स से निकलने के बाद नाड़ी तन्तुओं या नर्वस फाइर्बस लो इनटर्नल कैप्सलमेरी होकर जाना पड़ता हैै। इसस्थान में नर्व फाइवर्स या नाड़ी तन्तु उे दूसरे से निकटतम सम्पर्क मे रहते हैं। अतः वहां की विकृति से पक्षबद्ध या हेमीप्लैजिया हो जाता है। अर्थात शरीर के दक्षिण या वाम भाग के प्रत्येक भाग का घात होता है। यह अंगघात स्तम्भयुक्त होता है। इसका प्रभाव मुख पर नही होता है। क्योंकि मुख की नड़ियों के सूत्र इसें अ्रग्रभाग से प्रारंभ होते है। इसलिये इसका प्रभाव मुख से नीचे वाले भाग पर होता है। अर्थात मस्तिष्क के वाम पाश्र्व के तन्तुओं कि विक्षत होने से विकृति दक्षिण भाग के अंगों पर और विक्षत मस्तिष्क दाहिने भाग के तन्तुओं में होने पर वाम भाग के अंगों मे विकृति दिखाई देती है। युवाओं मे इसका कारण रक्तवाहनियों मे रक्त जमने के कारण होती है। इसके अलाचा धमनी संकोचक के कारण रक्तावरोध होने से भी तन्तुओं का विनाश होता है। मस्तिष्कावरण शोथ।
3. मस्तिश्काबुर्द (ब्रेन टयूमर) के दवाब से भी इन्टरनलकैप्सूल के तन्तुओं के विनाष होने से अधांर्गवात की अवस्था उत्पन्न होती है। छोटे बच्चो मे जंमकालीन अघात, राकमान्तिक मसूरिका या आन्त्रिक ज्वर के उत्सर्ग से यह रोग हो सकता है। मध्यम मस्तिश्क मे विकृति होंने से निरूद्ध भाग मे अधांर्गवात की अवस्था उत्पन्न होती है। किन्तु साथ ही उसी दाये या वाम भाग की नेत्रचेश्टिनी आक्युलोमीटर नाड़ी का भी घात हो जाता है। इसे बेबर्स सिन्ड्रोम कहते हैं। पोन्स की विकृति के फलस्वरूप भी इस प्रकार का विपरीत पाष्र्वीय अंगघात होता है। इसमे समकक्ष की सप्तम नाड़ी तथा छठी नाड़ी का घात होता है।
4. सर्वांगघात (डाइप्लैजिया) यह जंमजात रोग है। इसेा प्रभाव सम्पूर्ण षरीर पर होंता है। इस अवस्था मे पैरामिडिल डैªक्ट या तो पूरी तरह लुप्त होंती हैं या सुशुम्ना तक ही पहुँचती है। कभी कभी यह ग्रीवा तक भी आ जाता है। घातक प्रभाव कुछ अंगों पर अधिक कुछ पर कम होता है। यह प्रभाव दोनो दांये बांये अंगों पर ही पाया जाता है। यह स्तम्भ्ज्ञयुक्त वात है।
4. अधरांगवात (पैराप्लैजिया) यह सुशुम्ना नाड़ी की विकृति का परिणाम है। सुशुम्ना से निकल कर दोनो अधोषाखा को सप्लाइ करने वाली नाड़ियों के घात सन्धिओं मे प्रकुपित व्याप्त होकर मुख को पीड़ित करती है। जिससे यह रोग होता है। इसे अर्दित पक्षाघात कहते हैं। इसमे मुख का बांया या दांया भाग टेढा हो जाता है। गर्दन भी मुड़ जाती है। सिर कांपने लगता है। आवाज नही निकलती है। आंख, नाक, बाल, कान, दान्तों मे भी विकृति आ जाती है
साथ ही विकृत पाष्र्व में गले मे पीड़ा, भोजन, जल निकलने में कठिनाई होती है। इसकी पूर्व अवस्था मे सारा षरीर रोमांचित  एवं कम्पयुक्त होता है। आंखे मलिन रहती हैं मुख की त्वचा सुन्न रहती है तोद होता है। मत्था और हनु जकड़ जाते है। अधरांगवात दो प्रकार का होता है।
1. सामान्य अधरांगवात-
इसमे मुखमंडल की विकृति नही होती है।मुखके नीचे दांयी या बांयी ओर आधे कंधों नीचे विकृति आती है।
2. विषिश्ठ अधरांगवात-
इसमे दांये य बांये आधे अंगों के साथ मुखमंडल मे भी विकृति आती है।
 आजकल लोंगों को पक्षाघात स्त्री या पुरूशों में उच्चरक्तचाप अत्याधिक रक्तस्त्राव, मस्तिश्क रक्तस्त्राव, ब्रेन टयूमर, अति रक्ताल्पता, हृदय रोग, दिमागी षोथ, मस्तिश्कावरण षोथ, षरीर पर विषेश अघात की अवस्था मे षरीर के दांये ओर अंगों हाथ, पैर, मुख, पेट, पसली, कमर या इसी प्रकार षरीर के बांये अंगों मे अधरांगवातउस भाग की मांस पेषियां, स्नायुतन्तु सभी कार्यहीन हो माते हैं। कभी कभी वायु प्रकोप के कारण उपरोक्त अंगों के साथ सारे षरीर की क्रियाषीलता बन्द हो जाती है। इसे सर्वांगघात कहते हैं।
चिकित्सा- 
1. एकौशध चिकित्सा।
2. लहसुन कन्द कल्प 4 ग्राम मक्खन 10 ग्राम 2 बार खिलायें।
3. रस लहसुन कन्द कल्प को तिल के तेल भून की 6 से 10 ग्राम की मात्रा मे सुबह षाम खिलायें साथ ही अनार का रस एक कप रोज दें।
4. बतख का मांस 100 से 150 ग्राम 250 मि.ली- दूध और दषमूल क्वाथ 20-25 मि.ली. सुबह षाम।
5. मांस रस 14 से 25 मि.ली. दषमूल क्वाथ 20 मि.ली. सुबह षाम नाष्ते के बाद दें।
6. भोजन बंद कर दें महारास्नादि काढा 25 मिली  सुबह षाम नाष्ते के बाद दें। अनार का रस 100 मि.ली मुसम्मी का रस 150 मि.ली. मिला कर सुबह षाम 1 माह तक दें।
मिश्रित योग-
1.वृहत वातचिन्तामणि रस, ब्राहृमी वटी 1-1 गोली मधु से सुबह षाम दें।
2. महास्नादि काढा 25 मि.ली., समीर पन्तरा रस 60 सु 120 मि.ली. मधु से सुबह षाम 200 अनार का रस के साथ दें।
3. महाबलादि क्वाथ 20 मि ली एकांग वीर रस 120 ग्राम मधु से सुबह षाम दें व अनार का रस 150 मि.ली मुसम्मी का रस 100 मि.ली. मिला कर दें।
4.  माश मोदक 30 ग्राम, दषमूल क्वाथ 25 मि.ली. व अनार का रस 200 मि.ली सुबह षाम दें।
5. मिल मेल 15 मिली. रसोत कन्द 2 ग्राम सेधंा नमक 1 ग्राम दो बार सुबह षाम दें।
6. रसराज रस 10 मि ग्रा. मधु से सुबह षाम दें। योगराज गुगुल 2-2 गोली सुबह षाम। अनार का रस 150 मि.ली मुसम्मी का रस 100 मि.ली. मिला कर 2 बार दें।
7. कस्तूरी 15 मि ग्रा, लहसुन 1 ग्राम, तिल तेल 15 मि.ली. दो बार सुबह षाम दें और अनार का रस 200 मि.ली. सुबह षाम दें। 
8. महायोगराज गुगुल 1-1 गोली, वृहत वातचिन्तामणि रस 1 गोली महारास्नादि काढा 25 मि.ली सुबह षाम दें। व अनार का रस 150 मि.ली मुसम्मी का रस 100 मि.ली. सुबह षाम दें।
9. योगराज गुगल 2-2 गोली सुबह षाम, महारास्नादि काढा 25 मि.ली सुबह षाम दें। व अनार का रस मुसम्मी का रस 250 मि.ली. सुबह षाम दें। 
10. ग्रंथादि तेल 10 ग्राम, गाय का दूध 200 मिली योगराज गुगल 2-2 गोली सुबह षाम व अनार का रस 200 मि ली सुबह षाम दें।
11. मांस का तेल 10 ग्राम महारास्नादि गुगल 2 गोली दो बार सुबह षाम दें।
12. रसोन पिंड 10 ग्राम, एरण्ड मूल क्वाथ 20 मि ली सुबह षाम दें व अनार व मुसम्मी का रस दोनो 250 मि.ली. सुबह षाम दें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति