सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रहस्य पंचमुखी हनुमान रूप का

राम रावण युद्ध के दौरान रावण का भाई अहिरावण राम लक्ष्मण को मोह पाश में बाँध पाताल लोक में ले गया। विभीषण ने यह रहस्य समझ हनुमानजी को बताया। पाताल लोक के द्वारपाल मकरध्वज को पराजित कर हनुमान ने पाताल लोक में प्रवेश किया ।पाताल में अहिरावण के प्राण पूजागृह में प्रज्ज्वलित पांच दिशाओं में रखे पांच दियों में बसते थे । जिन्हें एक ही फूंक में बुझाने पर ही अहिरावण की मृत्यु हो सकती थी। तब हनुमान जी ने पंचमुखी रूप धरा। उत्तर दिशा में वराह मुख, दक्षिण दिशा में नरसिंह मुख, पश्चिम में गरूड़ मुख, आकाश की तरफ हयग्रीव मुख एवं पूर्व दिशा में हनुमान मुख। इस रूप को धरकर उन्होंने वे पांचों दीप पांच मुखों से एक ही फूंक में बुझाए इस तरह अहिरावण का वध कर राम, लक्ष्मण को मुक्त कराया। 
 इस पौराणिक कथा का मर्म है। रावण हमारे जीवन का अहंकार है। अहिरावण अहंकार का भाई मोह है। मोह राम लक्ष्मण यानी ज्ञान वैराग्य को मोहित कर पाताल लोक (अधोगती) में बन्दी बना लेता है। ज्ञान और वैराग्य मोह द्वारा मोहित हो जाते है। मोह का मुकाबला सिर्फ साधक का प्रबल वैराग्य ही कर सकता है हनुमानजी प्रबल वैराग्य है। उन्हें राम लक्ष्मण के अहिरावण द्वारा बन्दी बनाए जाने की सूचना विभीषण देते है। विभीषण संत प्रवृति है जो जीव को सावधान करती है। पाताल लोक यानी अनैतिक कर्मो की भूमि का द्वारपाल मकरध्वज है। मकरध्वज का अर्थ जिसके ध्वज में मगर का चिन्ह है। मगर विषय रस में डूबी वासनाएं है। और मकरध्वज इन वासनाओं का मूर्त रूप हैं। अहिरावण मोह) की रक्षा मकरध्वज (वासनाए) ही करता है, क्योकि मोह के मरने पर वासनाएं खुद मर जाती है। हनुमानजी पहले मकरध्वज को पराजित करते है, क्योकि मोह को समाप्त करने के लिए वासनाओं को पहले मारना पड़ेगा। अहिरावण के प्राण पांच प्रज्ज्वलित दीपक में बसे थे। मित्रो पांच दीपक हमारी पांच ज्ञानेंद्रियां है। इन दीपकों में विषय रस की अग्नि होती है। विषयो का रस ही वह ईंधन है जो मोह को प्रज्ज्वलित रखता है। ये ज्ञानेंद्रियाँ इनके रस और तत्व इस प्रकार से है। ज्ञानेंद्रि विषय तत्व-कर्ण शब्द आकाश, त्वचा स्पर्श वायु, नेत्र तेज अग्नि,जिव्हा स्वाद जल,नासिका सुगन्ध पृथ्वी। ये पांच विषय ही समस्त वासनाओं के कारण है। इन विषयों के विकार समाप्त करना ही पांच दीपक बुझाना है। एक फूंक में बुझाने की शर्त इसलिए है, क्योकि जो दीपक बुझ गया वह दूसरे दीपक से फिर जल उठेगा। साधना में सब विषय एक साथ ही छोड़ना पड़ते है यदि एक भी दीपक या विषय भोग बचा रहा तो मोह कैसे जायेगा। पंच मुखी का पहला मुख वराह का है। वराह अवतार की कथा में वराह ने पृथ्वी को दांतों से उठा कर पृथ्वी का उद्धार किया था। अतः वराह मुख को पृथ्वी तत्व के प्रतीक स्वरूप लिया गया। दूसरा मुख गरूड़ का है। जो विष्णु का वाहन है। आकाश में विचरण करने से गरूड़ मुख को आकाश तत्व के प्रतीक स्वरूप लिया गया। तीसरा वानर मुख स्वयम हनुमानजी का है जो वायु तत्व के प्रतीक है। चैथा मुख क्रोधित नरसिंह अवतार का है जो अग्नि तत्व का प्रतीक है। पाँचवा मुख समुद्र मंथन से निकले ह्यग्रीव नामक घोड़े का है। जो समुद्र से उत्पन्न होने के कारण जल तत्व का प्रतीक है। पांचो मुख पशुओं के इसलिए लिए है क्योंकि पशु अपनी इंद्रियों का उपयोग करते है उपभोग नही। वे इंद्रियों द्वारा उतना ही ग्रहण करते है जो जीवन जीने के लिए आवश्यक है। मित्रो इस तरह शुद्ध पंचतत्व युक्त प्रबल वैराग्य की मूर्ती ही पंचमुखी हनुमान की दिव्य मूर्ति हैै। जो शुद्ध पंच तत्व निर्मित पंच मुखों से इंद्रियों की विषय अग्नि ज्ञान वैराग्य सांसारिक मोह से दूर हो कर ईश्वरीय मोह भजन, दर्शन, नाम श्रवण, धूप सुगन्ध, भोग प्रसाद में फंस जाते है। यानी इंद्रियों के विषय दूर नही होते। लेकिन प्रबल वैराग्य जिसमे यम-नियम द्वारा तत्वों की शुद्धि होने से विषय विकार समाप्त हो जाते है । फिर उसे कुछ भी अच्छा या बुरा नही लगता। जो जीवन के लिए आवश्यक है इंद्रियों से उतना ही ग्रहण करता है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति