सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

12वाँ अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव

सिटी मोन्टेसरी स्कूल, लखनऊ के फिल्म्स डिवीजन के तत्वावधान में विश्व का सबसे बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव (आई.सी.एफ.एफ.-2020) 15 से 23 अप्रैल तक सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम, लखनऊ में आयोजित किया जा रहा है। इस नौ-दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव में प्रदर्शन हेतु अभी तक 102 देशों की लगभग 1898 शैक्षिक बाल फिल्मों की प्रविष्टियाँ प्राप्त हुई हैं, जिनमें से चुनिन्दा बाल फिल्मों का निःशुल्क प्रदर्शन किया जायेगा। इसके अलावा, विभिन्न देशों की सर्वश्रेष्ठ बाल फिल्मों को चयनित कर 10 लाख रूपये के नकद पुरस्कारों से सम्मानित किया जायेगा। उक्त जानकारी सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने दी है। 
 श्री शर्मा ने बताया कि बताया कि यह बाल महोत्सव भावी पीढ़ी के चरित्र निर्माण एवं वसुधैव कुटुम्बकम् को समर्पित है। बाल फिल्मोत्सव के 9 दिनों में रोजाना फिल्म जगत की दिग्गज हस्तियाँ, बाल कलाकार एवं विभिन्न क्षेत्रों की प्रख्यात हस्तियाँ किशोरों व छात्रों के उत्साहवर्धन हेतु पधारेंगे। श्री शर्मा ने बताया कि इस अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में रोजाना दो शो होंगे जिसमें प्रथम शो प्रातः 9.00 बजे से एवं दूसरा शो दोपहर 12.00 बजे से होगा। बच्चों की सुविधा के लिए विदेशी बाल शिक्षात्मक फिल्मों का हिन्दी व अंग्रेजी रूपान्तरण भी साथ-साथ दिखाया जायेगा। शैक्षिक बाल फिल्मों का प्रदर्शन सी.एम.एस. कानपुर रोड कैम्पस के मेन आॅडिटोरियम के अलावा 7 मिनी आॅडिटोरियम में एक साथ किया जायेगा। 
 श्री शर्मा ने बताया कि यह अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव सभी के लिए पूर्णतया निःशुल्क है। इसके अलावा, लखनऊ एवं आसपास के क्षेत्रों के स्कूली बच्चों को आयोजन स्थल तक लाने एवं वापस उनके स्कूल तक छोड़ने हेतु बसों की निःशुल्क व्यवस्था की जा रही है। इन बाल फिल्मों को देखने के लिए लखनऊ के आसपास स्थित इच्छुक स्कूलों के प्रबंधक या प्रधानाचार्य आई.सी.एफ.एफ.-2020 के फेस्टिवल डायरेक्टर श्री वी. कुरियन से उनके मोबाइल नंबर 94150-15039 पर सम्पर्क कर अग्रिम बुकिंग कर सकते हैं। 
 श्री शर्मा ने बताया कि इस नौ-दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव में 102 देशों की शैक्षिक बाल फिल्मों का प्रदर्शन किया जायेगा, जिनमें अफगानिस्तान, अल्जीरिया, अर्जेंटीना, अर्मेनिया, आस्ट्रेलिया, आस्ट्रिया, अजरबैजान, बांग्लादेश, बेलारूस, बेल्जियम, बेनिन, बोलीविया, ब्राजील, बुल्गारिया, कनाडा, चिली, चीन, कोलंबिया, कांगो, कोस्टा रिका, क्रोएशिया, क्रोटिया, साइप्रस, चेक गणराज्य, इक्वाडोर, मिस्र, एस्टोनिया, इथियोपिया, फ्रांस, जार्जिया, जर्मनी, घाना, ग्रीस, ग्वाटेमाला, हांगकांग, हंगरी, भारत, इंडोनेशिया, ईरान, इराक, आयरलैंड, इजरायल, इटली, आइवरी कोस्ट, जापान, कजाकिस्तान, केन्या, कोरिया, कोसोवो, किर्गिस्तान, लातविया, लेबनान, लिथुआनिया, लक्समबर्ग, मैसेडोनिया, मलावी, मलेशिया, माली, माल्टा, मैक्सिको, मोल्दोवा, मोरक्को, म्यांमार, नेपाल, न्यूजीलैंड, नाइजीरिया, नार्वे, ओमान, पाकिस्तान, फिलिस्तीन, पेरू, फिलीपींस, पोलैंड, पुर्तगाल, प्यूर्टो रिको, कतर, रोमानिया, रूस, रवांडा, सेनेगल, सर्बिया, सिंगापुर, स्पेन, श्रीलंका, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, सीरिया, ताइवान, थाईलैंड, नीदरलैंड, टोगो, टयूनीशिया, तुर्की, युगांडा, यूक्रेन, संयुक्त अरब अमीरात, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका, उरूग्वे, उजबेकिस्तान, वेनेजुएला, वियतनाम तथा जाम्बिया आदि प्रमुख हैं।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति