सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोई तो सूद चुकाए कोई तो जिम्मा ले, उस इंकलाब का जो आज तक उधार सा है’- कैफी आजमी

भारत धर्म निरपेक्ष देश है। यहाँ विभिन्न धर्मों को मानने वाले रहते है। विभिन्न धर्मों के अनुयायिओं की अपनी जीवन शैली और अपनी संस्कृति व तौर-तरीके हैं। ऐसे में हमें एक-दूसरे की आस्था तथा रीति-रिवाज के किसी भी मामले में दखल नहीं देना चाहिए। हमें सभी धर्मों की संस्कृति व सभ्यता का सम्मान करना चाहिए। अति आधुनिक मशीनीकरण तथा वैश्विक युग में रोजगार-नौकरियों का अभाव दिन प्रति दिन बढ़ता जा रहा है? आर्थिक तंगी से उत्पन्न सामाजिक असुरक्षा के कारण पारिवारिक रिश्ते बिखर रहे हैं। कुदरत समस्याऐं देती हैं तो उसके समाधान भी देती हैं। हमने वैश्विक, राष्ट्रीय, सामाजिक, मानसिक तथा आर्थिक समस्याओं का सार्वभौमिक समाधान वोटरशिप के रूप में न केवल प्रस्तुत किया है वरन् अपने संवदेनशील समर्थकों के सहयोग से इसे हम प्रथम चरण में सारे देश में प्रचारित-प्रसारित भी कर रहे हैं।   
 विश्वात्मा एक व्यक्ति का नाम ही नहीं वरन् यह एक व्यक्ति के जीवन संघर्ष से उत्पन्न एक मानवीय, वैज्ञानिक, सार्वभौमिक तथा युगानुकूल आदर्श जीवन शैली है। विश्वात्मा ने बाल एवं किशोर भरत के नाम से अपने परिवार-जाति के लिए जन्म से लेकर 25 वर्ष तक जीवन जीआ। विश्वात्मा ने देश की सेवा करते हुए युवा भरत गांधी के नाम से 26 से 50 वर्ष तक की सफल जीवन यात्रा की है। युवा भरत गांधी के जीवन संघर्ष से 25 वर्ष पूर्व वोटरशिप विचार का जन्म हुआ था। उसी समय उन्होंने संकल्प लिया था कि वह न तो कोई व्यक्तिगत सम्पत्ति बनायंेगे और न ही किसी बैंक में अपना व्यक्तिगत खाता खोलेंगे। साथ ही वह वोटरशिप मिलने पर ही विवाह करके घर बसायेंगे। इस संकल्प को वह पूरी निष्ठा के साथ आज तक निभा रहे हैं। 
 इसी वर्ष उन्होंने 51 वें वर्ष में प्रवेश किया है। पहले से घोषित अपने संकल्प के अनुरूप वह नये नाम विश्वात्मा के नाम से अखिल विश्व की सेवा के रूप में हमारे समक्ष है। पहले से घोषित विश्वात्मा के रूप में आपकी जीवन यात्रा 51 से 75 वर्ष तक होगी। आगे 76 वर्ष की आयु से वह एक नये नाम के साथ अन्तिम सांस तक प्राणी मात्र के लिए जीने के लिए संकल्पित है। हम भी इस अत्यन्त ही मानवीय, वैज्ञानिक तथा सार्वभौमिक मूल्यों से भरी जीवन यात्रा में विश्वात्मा के सहयात्री ही न बने वरन् उनके जीवन से सीख लेकर यथाशक्ति अपनी रूचि तथा प्रतिभा के अनुसार समाज के विकास में योगदान देने के नये वर्ष 2020 में उजले-उजले संकल्प करें। वर्तमान में वोटरशिप अधिकार कानून बनाने का संकल्प पूरा करने में विश्व परिवर्तन मिशन तथा वी.पी.आई. रात-दिन पूरे मनोयोग से जुटी है। 
 हमारा संकल्प प्रत्येक वोटर को आर्थिक आजादी के तहत वोटरशिप दिलाना है। वर्तमान में वोटरशिप के मायने है - प्रत्येक वोटर के बैंक खाते में सीधे प्रतिमाह छः हजार रूपये डालना है। इसके साथ ही सरकारी कर्मचारी की तरह महँगाई भत्ता अतिरिक्त सरकारी खजाने से प्रत्येक वोटर को देने का हमारा संकल्प है। प्रायः एक परिवार में चार-पाॅच वोटर्स होते हैं। इस हिसाब से प्रत्येक परिवार में वोटरशिप के तहत इतनी धनराशि आ जायेगी कि उसे पैसों की तंगी के लिए आर्थिक गुलामी का जीवन नहीं जीना पड़ेगा। लोग तर्क देते है कि वोटरशिप मिलने से लोग निक्कमे हो जायेंगे। मनुष्य का स्वभाव है कि वह अपनी सामाजिक हैसियत बढ़ाने के लिए दिन-रात मेहनत करता है। वोटरशिप मिलने से चार-पांच वोटरों का एक परिवार का एक सदस्य समाज सेवा के लिए स्वेच्छा से अपना समय तथा प्रतिभा का दान कर सकेगा। इस प्रकार समाज का मार्गदर्शन करने के लिए बड़ी संख्या में समाज सेवी मिल जायेंगे। समाज में सामाजिक कुरीतियों, महिला हिंसा तथा लूट-पाट की घटनायें कम हो जायेगी। 
 राजनीति क्षेत्र में भारी संख्या में युवा समाज की सेवा की भावना से कार्यकर्ता के रूप में आते हैं। किन्तु दिन-रात जुटे रहने वाले इन कार्यकर्ताओं को उनकी पार्टी की ओर से कोई भुगतान नहीं किये जाने से वे गलत तरीके से अपनी आमदनी के रास्ते तलाश करते हैं। वोटरशिप मिलने से राजनीति को भी कैरियर बनाने के लिए युवा वर्ग प्रेरित होगा। वोटरशिप से निश्चित आमदनी होने से युवक-युवतियों का समय पर विवाह हो जायेगा। उनकी ऊर्जा अपने पारिवारिक दायित्वों को पूरा करने में सुनियोजित हो जायेंगी। अपराध जगत में नये अपराधियों तथा नये आतंकवादियों की संख्या में आश्चर्यजनक गिरावट आयेगी। 
 मनुष्य की संवेदनहीनता से उत्पन्न युद्धों तथा आतंकवाद के रूप में विकसित सबसे बड़ी समस्या हमारे समक्ष है, इसका समाधान हम वोटरशिप के लिए विश्व संसद के शीघ्र गठन के रूप में दे रहे हैं। हमारी राष्ट्रीयता वोटरशिप, जय जगत, वसुधैव कुटुम्बकम् तथा विश्व नागरिकता की प्रबल समर्थक है। इसके लिए हमें देश सहित पूरे विश्व के प्रत्येक वोटर की सहमति तथा सहयोग चाहिए। हम पूरे मन तथा आत्मा से पूरी तरह से तैयार हैं। वोटरशिप का विरोध तथा बाधा वे लोग ही कर रहे हैं जो अपने लिए तो सारी सरकारी सुविधायें चाहते हैं लेकिन जब वोटर को सरकारी खजाने से धनराशि देने की बात आती है तो वे मुँह मोड़ लेते हैं। हम अपना रास्ता स्वयं बना रहे हैं। हमारा नारा है - वोटरशिप की जो बात करेगा- वही देश पर अब राज करेगा। 
 युवाओं को उनकी रूचि के अनुसार रोजगार तथा नौकरी न मिलने के कारण वे दिशाहीन तथा कुंठित हो रहे हैं। वे तनाव के कारण डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं। सबसे युवा देश भारत के करोड़ों युवाओं की ऊर्जा को सही दिशा में लगाने के लिए वोटरशिप से बेहतर कोई विचार दुनिया में अब तक नहीं खोजा गया है। हमने अपने जीवन में स्वयं बेरोजगारी की पीड़ा को झेला है। दुनिया की कोई भी सरकार आज के अति मशीनीकरण तथा वैश्विक खुले बाजार में अपने सभी युवाओं को रोजगार तथा नौकरियाँ नहीं दे सकती। वोटरशिप हमारी मांग नहीं वरन् हमारी जिद्द है। हम देश के प्रत्येक वोटर को वोटरशिप देकर ही मानेंगे। अगले चरण में हमारा अभियान दक्षिण एशियाई सरकार बनाकर वोटरशिप की धनराशि को छः हजार से बढ़ाकर पन्द्रह हजार रूपये प्रतिमाह प्रत्येक वोटर को देकर बढ़ाना होगा। प्रत्येक वोटर की समस्याओं के त्वरित निस्तारण हेतु विश्व परिवर्तन मिशन कटिबद्ध है। आप अपनी समस्याओं एवं उनके समाधान के लिए टोल फ्री हेल्प लाइन नम्बर - 9696 123456 पर सम्पर्क करें। यह सुविधा 24 घण्टे उपलब्ध है। आपके सुझाव हमारे लिए आगे बढ़ने की प्रेरणा होंगे।
 वोटरशिप को अपनाओं और गरीबी-बेरोजगारी जैसी आर्थिक समस्याओं को सदैव के लिए अलविदा.कहें! वोटर के एक कदम बढ़ाने से भावी पीढ़ी तथा आगे जन्म लेने वाली पीढ़ियाँ सदैव वोटर्स की ऋणी रहेगी। वोटरशिप को सबसे अधिक प्राथमिकता देकर अपने जीवन में अपनायें। साथ ही अपने इष्ट-मित्रों को भी प्रेरित करें। इस युग की यह सबसे बड़ी मानव सेवा है। वैसे तो हमें अपने व्यक्तिगत, पारिवारिक, सामाजिक तथा आर्थिक जीवन में अनेक समस्याऐं दिखाई देती हैं, हम एक समस्या को हल करते हंै तो दूसरी समस्या हमारे समक्ष आ जाती है। समस्याओं की भीड़ में उलझ जाते हैं।  
 अब हमें वोटरशिप के विचार रूपी युग अवतार को पूरे विश्वास के साथ अपनी सारी समस्याऐं सौंप देनी हैं। हमारा वादा है कि ऐसा करने मात्र से जीवन में सब सरल हो जायेगा। आपका जीवन दिव्य आनंद से भर जायेगा। बस पूरे मन से वोटरशिप का हकदार अपने को इसी क्षण मान लेने भर से जीवन आर्थिक समृद्धि के उल्लास से भर जायेगा। वोटरशिप की यात्रा में आपकी सूक्ष्म भावना देश के प्रत्येक वोटर से जुड़ जायेगी। आपके साथ एक सकारात्मक ऊर्जा का आदान-प्रदान प्रत्येक वोटर के साथ होने लगेगा। जीवन साहस से भर जायेगा। दूसरों के हक की सच्चाई तथा न्याय से भरी लड़ाई लड़ने वाले आप सच्चे हीरो बन जायेंगे। वोटरशिप अभियान की यात्रा में जो आनंद आयेगा, सोचे वोटरशिप की मंजिल पर पहुंचने पर उस आनंद की असीम स्थिति कैसी होगी? वोटरशिप एक सच्चाई है इसे आज नहीं तो कल साकार होना ही है।  
 देश के असली मालिक वोटर को हम सबसे आगे रख कर चल रहे हैं। जन सेवकों अर्थात एम.एल.ए.ध्एम.पी. से अधिक उनको बनाने वाले वोटर की हैसियत होनी चाहिए। देश की सारी प्राकृतिक संसाधनों के मालिक नागरिक या वोटर की आर्थिक तंगी का कारण उसका भाग्य नहीं वरन् गलत कानून हैं। इन गलत कानूनों को खत्म करने तथा सही कानून बनाने की इच्छा शक्ति के अभाव ने वोटरशिप अधिकार कानून को बनने से रोक रखा है। वोटरशिप जैसा मजबूत तथा लोक कल्याणी कानून बनाने के लिए देश के सभी वोटर्स आगे आयेंगे। वोटरशिप से अनेक सरकारी अधकचरी योजनाओं तथा भ्रष्टाचार पर काफी हद तक अंकुश लगेगा। सरकारी कर्मचारियों पर कार्य का बोझ कम होगा। वोटरशिप के लिए पात्र व्यक्ति का चुनाव मात्र वोटर होने से साबित हो जायेगा। 
 राष्ट्रीय सकल आय के आधार पर वोटरशिप की धनराशि भी बढ़ेगी तथा घटेगी। वोटरशिप की धनराशि बढ़ाने के लिए सभी वोटर्स सामूहिक रूप से देश की राष्ट्रीय आय बढ़ाने के लिए स्वतः प्रेरित होंगे। वोटरशिप के साथ ही मंहगाई भत्ता भी सरकारी कर्मचारियों की दर से प्रत्येक वोटर मिलेगा। लोकतंत्र के सबसे बड़े महोत्सव चुनाव में मतदान का प्रतिशत शत प्रतिशत हो जायेगा। वोटरशिप दिलाने की बात करने वाली पार्टी को वोट डाल कर जिताने के लिए सभी वोटर्स घरों से निकल पड़ेगे। बड़े उद्योगपत्तियों द्वारा संचालित कुछ मीडिया तंत्र तथा उसके द्वारा पोषित नेतातंत्र के चंगुल से निकलकर स्वदेशी लोकतंत्र खुली हवा में सांस लेगा। प्रगति हमारा लक्ष्य है, विजय हमारा ध्येय है। वोटरशिप हमारा लक्ष्य है। हमारा कर्म से, धर्म से विश्व में मकाम हो। यही पर क्या, कहीं भी हो, वोटरशिप का सारे जग में विस्तार हो। 
 वोटरशिप अमीर-गरीब को बराबर से उसके वोटर होने के अधिकार के रूप में मिलेगी। वोटरशिप की धनराशि को अमीर वर्ग भी अहंकाररहित होकर पूरे सम्मान के साथ राष्ट्रीय सकल आय से मिलने वाले अपने हिस्से के रूप में सहर्ष स्वीकार करेगा। वोटरशिप के लिए मात्र वोटर होने की पात्रता सिद्ध हो जाने के कारण सरकारी मशीनरी को अनावश्यक रूप से कागजी प्रमाणपत्रों को जांचने तथा बनवाने में जुझना नहीं पड़ेगा। साथ ही किसी सरकारी कर्मचारी को भ्रष्ट होने से भी वोटरशिप रोकेगी। परिवार की सामाजिक सुरक्षा वोटरशिप के द्वारा हो जाने से कोई भी गलत तरीके से अपनी संतानों के लिए धन संग्रह करने के लिए प्रेरित नहीं होगा। दहेज प्रथा पर पूरी तरह से अंकुश लगेगा। क्योंकि बेटियाँ भी 18 वर्ष आयु पूरी करते ही वोटरशिप मिलने के कारण आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हो जायेगी। वोटरशिप के लिए कोई परीक्षा नहीं देनी पड़ेगी। वोटर बनते ही कोई भी बेटा या बेटी माता-पिता के लिए बोझ स्वरूप नहीं रहंेंगे। हर परिवार में बिना शर्त आर्थिक समृद्धि आने से घरेलु कलह पर रोक लगेगी। 
 वर्तमान युग में एटीएम की अति आधुनिक तकनीक के माध्यम से हम देश के प्रत्येक वोटर के बैंक खाते में सीधे वोटरशिप की धनराशि आसानी से पहुंचा सकते हैं। बिचैलियों का कोई दखल नहीं रहेंगा। आम जनता का जीवन विकसित देशों के नागरिकों की तरह आधुनिक सुविधाओं से परिपूर्ण होगा। प्रत्येक वोटर के परिवार में पैसा आने से बाजार में ग्राहकों की संख्या अचानक बढ़ जायेगी जिससे खुदरा तथा थोक बाजारों में फिर से रौनक लौट आयेगी। वोटर की क्रय शक्ति बढ़ने से आम आदमी की मांग के अनुसार नये-नये उत्पादनों का निर्माण होगा। देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होने से आर्थिक मंदी का असर नहीं होगा। वोटरशिप से देश का धन एक-दो प्रतिशत अमीरों की तिजौरी में संग्रहित न होकर देश के अन्तिम व्यक्ति तक प्रवाहित होगा। वोटरशिप लम्बे समय से आर्थिक रूप से पीड़ितों के दर्द को सदैव के लिए दूर करने की अचूक दवा है। अब वोटरशिप को आम जनता की आवाज बनाना चाहिए। इसके लिए राष्ट्रीय स्तर पर सीमित संसाधनों के बलबुते निरन्तर कार्य किया जा रहा है। वोटरशिप का लक्ष्य ही हमारा अब एकमात्र जीने का मकसद बन जाये। 21वीं युवा सदी में वोटरशिप के युग का शुभारम्भ होगा। जय जगत, वसुधैव कुटुम्बकम् तथा 21वीं सदी - उज्जवल भविष्य का सार्वभौमिक विचार देने वाले महापुरूषों का सपना साकार होगा।  


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति