सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राष्ट्रीय मतदाता जागरूकता दिवस

जिलाधिकारी रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने राष्ट्रीय मतदाता दिवस के मौके पर कलेक्ट्रेट के बचत भवन से निकाली गयी भव्य मतदाता जागरूकता प्रभात फेरी-रैली का शुभारंभ ‘‘मतदाता होने का गर्व मतदान के लिए तैयार‘‘ निर्वाचन आयोग के स्टीकर, टोपी तथा राष्ट्रीय मतदाता जागरूकता दिवस पर खूबसूरत पट्टी डालकर व हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। प्रभात फेरी रैली मंे कलेक्ट्रेट बचत भवन से राष्ट्रीय मतदाता दिवस की खुशी व प्रसन्नता का यूं आगाज किया। जनपद में मतदाता जागरूकता की भव्य रैली मतदाता जागरूकता शहर के विभिन्न स्थलों पर होते हुए पुनः निर्वाचन कार्यालय पर समाप्त हुई। भव्य प्रभात फेरी-रैली में आमजन द्वारा देश तरक्की तभी करेगा, हर वोटर जब वोट करेगा, जन जन को चेताना है, मतदाता को जगाना है, लोकतन्त्र की पहचान है मत, मतदाता और मतदान आदि दर्जनों नारो से रैली स्थलों पर गूंज रहा था।
जिलाधिकारी ने बचत भवन के सभागार में कलेक्ट्रेट के समस्त अधिकारी-कर्मचारियों व उपस्थित जनों को राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर उपस्थित जनों-मतदाताओ को मतदाता जागरूकता की शपथ दिलाई-’’हम भारत के नागरिक, लोकतंत्र में अपनी पूर्ण आस्था रखते हुए यह शपथ लेते है कि हम अपने देश की लोकतांत्रिक परम्पराओ की मर्यादा को बनाये रखेंगे तथा स्वतन्त्र निष्पक्ष एवं शान्तिपूर्ण निर्वाचन की गरिमा को अक्षुण्ण रखते हुए निर्भीक होकर, धर्म, वर्ग, जाति, समुदाय, भाषा अथवा अन्य किसी भी प्रलोभन से प्रभावित हुए बिना सभी निर्वाचनो में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे दिलायी गयी। जिला निर्वाचन अधिकारी/डीएम शुभ्रा सक्सेना ने कहा कि निर्वाचन के प्रत्येक अवसर पर भारत निर्व.ाचन आयोग ने भारत की जनता को विश्वसनीय निर्वाचन प्रदान किया हैं। निर्वाचन प्रक्रिया में लोगो की अधिक से अधिक भागीदारी हो इसके लिए प्रयास करने होंगे। निर्वाचन आयोग तथा जिला प्रशासन का प्रयास है कि प्रत्येक व्यक्ति जिसकी आयु 18 वर्ष हो तथा जिनके पास मतदाता पहचान पत्र न हो उन सभी का मतदाता पहचान पत्र बनाकर आगामी सभी निर्वाचनो में अपने मताधिकार का प्रयोग कर देश की लोक तान्त्रिक व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण में अपना योगदान दे।
 जिलाधिकारी ने कहा कि राष्ट्रीय मतदाता दिवस का मूल मकसद सभी नागरिको को जागरूक कर मतदाता पहचान पत्र बनवाना तथा अपने मताधिकार का प्रयोग कराना है। उन्होने जनपद वासियो से कहा कि आगामी विधानसभा सामान्य निर्वाचन, लोक सभा सामान्य निर्वाचन, नगर पालिका/नगर पंचायत, ग्राम प्रधान आदि होने वाले निर्वाचनों में रिकार्ड मताधिकारो का प्रयोग करेंगे। बच्चें अपने माता पिता अभिभावक, पास पड़ोसियों का जिनका मतदाता पहचान पत्र नही है मतदाता पहचान पत्र बनवाने तथा आगामी वर्ष में होने वाले चुनावों में मतदान कर लोकतंत्र को अधिक मजबूत बनाने में अपनी अहम भूमिका निभायेंगे। लोकतन्त्र को सशक्त और जीवित रखने के लिए हर वर्ग को भाग लेना आवश्यक है। प्रत्येक नागरिक की जिम्मेदारी होती है कि वह स्वयं अपने विवेक से देश हित में मतदान पहचान पत्र अवश्य बनवायें तथा मतदान भी करें साथ ही अपने व्यवहारिक जीवन में मिलने वाले हर व्यक्ति को ऐसे करने के लिए प्रेरित करें। उप जिला निर्वाचन अधिकारी/अपर जिलाधिकारी वि0रा0 प्रेम प्रकाश उपाध्याय ने छात्र-छात्राओं से कहा कि तरक्की, विकास जीवन में अनुशासन का महत्व है। जीवन में अनुशासन नही पाया तो कुछ भी नही कर सकता है, बच्चें की पहली सीड़ी अनुशासन है, बच्चें किसी भी कार्यक्रम में आये तो उसको तन्नमन्यता वह जानने के उद्देश्य से गंभीरता से हिस्सा ले, क्योकि उन्हें जीवन में आगे बहुत कुछ करना है। उन्होंने छात्र-छात्राओं के टीचिंग स्टाफ विशेषकर अध्यापकों से कहा कि वे बच्चों को जिस कार्यक्रम में लाये उसके विषय गहनता के बारे में अवश्य बता दे। उन्होंने कहा कि मतदाताओं के पास ताकत होती है वे सरकारें चुनते है लोकसभा के चुनाव में मतदान कर सांसद चुनकर प्रधानमंत्री व विधानसभा में मतदान कर मुख्यमंत्री चुनने में भी भूमिका रहती है। निर्वाचन आयेाग की कोशिश के बावजूद मतदान का प्रतिशत 50-65 प्रतिशत रहता है। 35 प्रतिशत लोग मत का प्रयोग नही करते है। राष्ट्रीय मतदाता दिवस का उद्देश्य यह भी यह अधिक से अधिक लोग मतदाता बने और अपना शत प्रतिशत मतदान कर अधिक से अधिक मतदान का प्रतिशत बढ़े। 
 इस मौके पर राष्ट्रीय मतदाता दिवस में जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने निर्वाचन कार्यों में सहयोग करने के लिए मास्टर एस0एस0 पाण्डेय सहित छात्र-छात्राओं को प्रशस्ति पत्र व स्मृतिचिन्ह देकर उत्साह वर्धन किया। राष्ट्रीय मतदाता दिवस के मौके पर आये सभी जागरूक जनों व क्षेत्रवासियों ने सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग की चल रही एलईडी वैन के माध्यम से सरकार के लाभपरक कल्याणकारी योजनाओं को जहंा जाना वहीं गंगा यात्रा के बारे में जाना इसके अलावा लखनऊ से आये सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के सांस्कृतिक दलो द्वारा सरकार की उपलब्धियों के साथ ही मतदाता दिवस की महत्वा को भी बताया। 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति