सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शुभ और अशुभ घटनायें अपने संकेत पहले ही दे जाती हैं

अंग्रेजी मे एक कहावत है ‘कमिंग इवेन्टस कास्ट देयर शेडोज बिफोर’ भविष्य होने वाली शुभ और अशुभ घटनायें अपने संकेत पहले ही दे जाती हैं। जो शकुन, स्वपन, अंग फड़कना, छिपकली गिरना या किसी अन्य पारिवाीरक, समाजिक दुर्घटना के रूप मे हो सकती है। यह बात उन लोगों पर भी लागू होती है जिनके पास जंमपत्री या जंम संबधी आंकड़े उपलब्ध नही है। वे इन घटनाओं को जानकर अपने दुर्भाग्य दायक ग्रह को जान कर स्वयं या किसी ज्योतिषी से अपना उपचार कर सकते हैं। लखनऊ के एक प्रसिद्ध कपड़े के व्यापारी जो अपने भारी व्यापारिक घाटे और  कर्जे से परेशान थे किसी बाबानुमा ज्योतिषी के पास गये और लौटकर मुझसे बताने लगे बाबा ने कहा कि तुम्हारा बृहस्पति खराब है। जिसके कारण तुम परेशान हो मैने कहा कि हर ग्रह के अशुभ होने के खास लक्षण होते हैं। जैसे गुरू खराब हो तो पेट, लीवर, आन्त के रोग, संतानहीनता, धनाभाव, पुत्र बाधा या पुत्राभाव आदि होता है। मैने कहा कि आपके उपर इन में से कोई भी बात लागू नही होती है। वास्तव मे आपका बुध (व्यापार) और मंगल (कर्जा व संपत्ति कारक) खराब है। जो कर्जा और व्यापार में घाटा और मकान बिकवा रहा है। मैने वर्षों पूर्व उनका हाथ देख कर बताया था कि आप करोड़ों कमायेंगें किन्तु आपको भारी घाटा होगा और आप कर्ज में डूब कर दीवालिया हो जायेंगे दरअसल उनके दायें हाथ में बुध पर्वत पर तिल था जो बुघ (व्यापार) के शत्रु गह मंगल (कर्ज) द्वारा तबाही का संकेत दे रहा था इस लेख में विभिन्न ग्रहों के शुभ व अशुभ संकेतों को प्रस्तुत किया जा रहा है।
सूर्य:- शुभ सूर्य, सरकारी नौकरी, पुत्रवान, उत्तम नेत्रदृष्टि, सम्मान, पुरूस्कार, दीर्घायु पिता, हडडी और हृदय रोग से मुक्त रखता है। अषुभ सूर्य उपरोक्त चीजों का अभाव देता है। रोशनी देने वाले उपकरण बल्ब आदि बार बार खराब होंगे घर में सूरज की रोशनी नही आयेगी रोशनदान, खिड़कियां बंद हो जायेंगी सरकारी नोटिस या जुर्माने लगेंगे। धूप में खड़ा रहना, रोषनदान में कोई सामान रख देना या उसमें चिड़िया का घोंसला बना लेना, फसल या पेड़ सूख जाना, अचानक सर टकरा जाना, जोड़ों में दर्द व अकड़न, बदनामी, मुदकमें में हार, बार-बार थूकना, पुत्र का बीमार या चोटग्रस्त हांे जाना, आग से जलना, सोने या ताम्बे की वस्तु खो जाना।
चन्द्रमा:- दीर्घायु बड़ी बहन व माता से सुख, जलस्थान नदी, तालाब के निकट स्थान, घर में दुधारू पशु या दूध देने वाले या सफेद रंग के फूल वाले पेड़ों का होना। अशुभ चन्द्रमा हो तो घर के नल या पानी की टंकी से पानी बहे, दूध फट जाय, भयानक स्वपन आयें, स्त्रियों को मासिक रोग व कफ, अतिसार, जुकाम, खांसी, भय आदि दिमागी रोग हो, अतिनिद्रा, आलस्य, सींग वाले पशु या जलीय जन्तु से चोट आदि।
मंगल:- घर की भूमि धंस जाय या मकान का हिस्सा गिर जाय, दीवार टूट जाय या घर में आग लग जाय बिजली के उपकरण या बल्ब बार बार खराब हों, छोटी चोट या दुर्घटना, सर्जरी, ताम्बे की वस्तु खो जाना, अकारण शत्रुता, बह्मराक्षस का कोप, गुस्सा आना। हवन या अन्य अग्नि ना जल, गैस, स्टोव आदि खराब हो जायंे।
बुध:- सूंघने, सुनने या बोलने की शक्ति कम हो गाली निकले, शिक्षा, व्यापार में हानि, खाज, खुजली के रोग,यादाश्त मे कमी, पुस्तके खो जाना, पुराने मित्रों से संबध टूटे, कामशक्ति मे कमी। मोबाईल खोये, स्कूल मे प्रवेश ना मिले।
गुरू:- जंेवर खोये, अकारण बदनामी, धार्मिक पुस्तक या मूर्ति अपने हाथों नष्ट हो, संतानहीनता, लीवर व बड़ी आन्त के रोग, पंडित या विद्वान का अपमान हो जाय, असत्य बोले, बह्म या देवकोप, सिर के बाल गिर जाय। 
शुक्र:- पत्नी या महिला से विवाद, यौन रोग, शरीर का कोई अंग सुन्न हो जाय, धनाभाव, अतिकामुकता हो नया व़स्त्र फट जाय, र्दुगंध आये, वाहन खोये या क्षतिग्रस्त हो, चाँदी की वस्तु खोये, शराब पिये।
शनि:- दिन मे नींद आये, गंदे, अपाहिज या भिखारी से विवाद हो, मकान क्षतिग्रस्त हो जाये, जूते चप्पल खो जाय, लोहे से चोट लगे या लौह वस्तु खोये, नौकर से झगड़ा या वह छोड़कर चला जाय, काला पालतू जानवर या मुर्गी मर जाय, तेल गिरे, अंधेरे गंदे कमरे मे रहे, गंदे कपड़े पहने, दाढी, मुछें व सिर के बाल बढें, कपड़ों मे धब्बे लगे। छाता फट जाये, पैर के लगे चोट।
राहू:- सर्प या मरी छिपकली दिखे, धुयें मे रहे, पालतू जानवर खो जाय या मर जाय, यादाश्त कमजोर हो, जरूरी चीजें व कागज खोये, ठगों से हानि, बंधन हो, अकारण शत्रुता पैदा हो, घर की रस्सी टूटे, मरे पक्षी दिखे भूत प्रेत दिखें या कष्ट दें, जादू टोने से पीड़ा, भयानक सपने आयें, घर मे उल्लू, चमगादड़ों का वास हो हाथ पैर के नाखुन टूटे, किसी शवयात्रा मे जाना पड़े, तीर्थ जाकर स्नान या देव दर्शन ना करें, मकान मे काई लगे दीवारें मे धास उगे या घर पुराना, खंडहर या प्रेतग्रस्त हो, घर में कबाड़ जमा हो, नालियां जाम हो, घर में जंगली पेड़ उगें। घर मे कोई पक्षी या पशु आकर मर जाय। भ्रम या गल्तियां करे, अपयश, तबादला, गाली बके, कहीं गिर जाय या फिसल जाये। बुरी खबरें सुनने को मिलें, मुर्गे काटे या चूहा काटे या चूहे कपड़ें काटे, शत्रु तंत्र करें, पैर के नाखुन खराब हो पेट, मूत्र के रोग, अग्नि से जलना, चोट।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति