सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विवाह समय निधारण के नाड़ी सूत्र

विवाह समय निर्धारण के नाड़ी विशोंत्तरी दशा के सूत्रो पर लिखा गया यह हिन्दी में लिखा गया संभवतः प्रथम लेख है। भारतीय ज्योतिष चतुः पुरूषार्थ धर्म, अर्थ, काम मोक्ष के सिद्धान्त पर  आधारित है। यह चारों पुरूषार्थ जंमपत्री के  तीन तीन भावों के आधीन आतक है इसके साथ ही यह कुछ ग्रह विशेष तथा राशियों के भी कारक होते हैं। 
1. धर्म- यह जमंाक के 1, 5, 9 भावों अग्नि राशियों तथा गुरू और सूर्य से संबधित होता है।
2. अर्थ-  इसका संबध 2.6. 12 भावों, पृथ्वी तत्व की राशियों व तथा शनि, गुरू, बुध, तथा  सूर्य ग्रहों से होता है।
3. काम- यह 3, 7, 1, भावांे, शुक्र, मंगल ग्रहों और वायु तत्व की राशियों के अन्र्तगत आता है।
4. मोक्ष- इसका संबध 4, 8, 12 भावों, जल राशियों तथा केतु, गुरू ग्रहों से होता है।
 ज्योतिष मे पुरूष जातक मे शुक्र पत्नी का कारक है और स्त्री जातक मे मंगल मतांतर से गुरू विवाह का कारक ग्रह है ज्योतिष मे विशोंत्तरी दशा घटनाओं के समय ज्ञान का सर्वोंत्तम साधन है किन्तु अनुभव से पता चलता है कि जातक ग्रन्थों मे वर्णित विवाह के समय निर्धारण के सामान्य विशोंत्तरी सूत्र लागू नही होते हैं। कुछ ज्योतिष ग्रन्थों मे विशोंत्तरी दशा के विचित्र व रहस्यमय सूत्र प्राप्त होते हैं। जो संस्थान द्वारा प्रयोग करने पर अनुभवसिद्ध और प्राणामिक सिद्ध हुये हैं।
1. द्वितीयेश, सप्तमेश, चतुर्थेश, दशमेश या दशमेश ग्रहों की महादशा या अन्र्तदशा मे जातक का विवाह होता है।
2. 2, 4, 7, 9 भाव मे बैठे ग्रहों की अन्र्तदशा दशा।
3. चन्द्र, शुक्र, नवम भाव के ग्रह की अन्र्तदशा में।
4. सप्तमेश युत शुक्र की अन्र्तदशा में।
5. सप्तमेश के नक्षत्र मे गये ग्रह की अन्र्तदशा दशा।
6. सप्तमेश युत राहू या केतु या शुक्र युत राहू या सप्तम भाव मे गये राहू की अन्र्तदशा मे विवाह होता है।
 प्रसिद्ध जैमिनी ज्योतिषी संजय राठ ने अपनी पुस्तक ‘दि क्रक्स आॅफ वैदिक एस्ट्रोलाॅजी’ में नवंाश चक्र के आधार पर विशोंत्तरी दशा के निम्न सूत्र बताये हैं।
1. नवंाश लग्न मे गये ग्रह या उसे देखने वाले ग्रह या नवंाश लग्नेश से युत या लग्नेश को देखने या नवांश लग्न या लग्नेश पर शुभ अर्गला रखने वाले ग्रह की महादशा मे विवाह होगा।
2. सप्तमेश युत ग्रह या सप्तमेश पर शुभ अर्गला रखने वाले ग्रह की अन्र्तदशा मे विवाह होगा।
3 सप्तम भाव से त्रिकोण (3, 7, 11) मे बैठे ग्रह या उपरोक्त भावेश ग्रह की प्रत्यन्तर दशा मे विवाह होगा इसके अतिरिक्त उन्होने उपपद या सप्तम पद में गये ग्रह या इनके स्वामियों की भी अन्र्तदशा या प्रत्यन्तर दशाा मे विवाह होना बताया है।
  नाड़ी ग्रन्थों के सूत्र
देवेरलम के सूत्र-
1. द्वितीयेश या सप्तमेश जिस राशि मे जाय उस राशि स्वामी ग्रह की अन्र्तदशा या प्रत्यन्तरदशा में।
2. द्वितीयेश या सप्तमेश नवांश मे जिस राशि मे जाय उस राशि स्वामी ग्रह की अन्र्तदशा या प्रत्यन्तरदशा में।
3. शुक्र या चन्द्र से सप्तमेश की अन्र्तदशा या प्रत्यन्तरदशा में।
4. शुक्र या सप्तमेश से युत ग्रहों के नक्षत्र मे गये ग्रह की अन्र्तदशा या प्रत्यन्तरदशा में। 
5. द्वितीयेश या सप्तमेश नवांश मे जिस राशि मे जाय वह राशि स्वामी ग्रह जमंाक मे जिस राशि मे हो उस राशि स्वामी ग्रह जाये अन्र्तदशा या प्रत्यन्तरदशा में।
6. महादशानाथ या शुक्र से 7 वें भाव मे बैठे ग्रह की अन्र्तदशा।
 भारत के राष्ट्रपति ़द्वारा सम्मानित राजस्थान के ज्योतिषी स्व कल्याण दत्त शर्मा जी ने अपनी पुस्तक ‘अनुभूत योगावली’  मे विवाह हेतु विशोंत्तरी दशा के निम्न सूत्र बताये हैं।
1. नवमेश या दशमेश की अन्त्र्तदशा मे विवाह होगा
2. सप्तमस्थ ग्रह की अन्र्तदशा में।
3. बली शुक्र या चन्द्र की अन्र्तदशा में।
4. शुक्र से सप्तमेश या शुक्र से सातवेे भाव में गये ग्रह की अन्र्त दशा मे विवाह होगा।
श्री आर. संथानम द्वारा संपादित और अनुवादित नाड़ी ग्रन्थ ‘डाक्ट्रिन आॅफ शुक्र नाड़ी के भाग्य भाव के अघ्ययन के दौरान मुझे पितृ मरण समय के विशांेंत्तराी दशा के कुछ विचित्र सूत्र मिले जो जो लग्न, चन्द्र लग्न व पितृ कारक सूर्य पर आधारित थे यह सूत्र सामान्य है। और प्रत्यंेक भाव व कारक पर लागू किये जा सकते हैं। उन सूत्रो पर शोध करके 16 सूत्र प्राप्त हुये हैं। अनुभव मे यह 75 प्रतिशत तक सही परिणाम देते है। इन्हें मैं अपने पूज्य पूर्वजों के समर्पित करते हुये ‘परिहार सूत्र’ का सम्मान दे रहा हूँ।
1. लग्न से सप्तमेश की महादशा मे चन्द्रमा से सप्तमेश की अन्त्र्तदशा या चन्द्र से सप्तमेश की महादशा मे लग्न से सप्तमेश की अन्त्र्तदशा।
2. सप्तमेेश से सप्तमभाव मे गये ग्रह का अन्तर।
3. लग्नेश की महादशा मे लग्नस्थ ग्रह का अंतर।
4. सप्तमेश की महादशा मे लाभेश, लग्नेश या पंचमेश का अंतर।
5. शुक्र या मंगल से 7 वें भाव मेगये ग्रह या सप्तमेश की महादशा मे शुक्र से पंचमेश, नवमेश या लाभेश का अंतर।
6. चन्द्रमा से सप्तमेश की महादशा मे शुक्र से सप्तमेश की अन्त्र्तदशा। 
7. चन्द्रमा से सप्तमस्थ ग्रहों की महादशा या सप्तमेश की महादशा मे मे शुक्र से सप्तमस्थ ग्रह की अन्त्र्तदशा
8. चन्द्रमा से लाभेश की महादशा मे शुक्र के लाभेश का अंतर या शुक्र से लाभेश की महादशा मे चन्द्रमा के लाभेश का अंतर।
9. शुक्र से सप्तमेश की महादशा मे लग्न से लाभेश का अंतर।
9. शुक्र से सप्तमेश की महादशा मे लग्न से लाभेश का अंतर।
10. शुक्र से सप्तमस्थ ग्रहों की महादशा मे लग्नेश से सप्तमस्थ  ग्रहों का अंतर।
11. लग्न से सप्तमस्थ ग्रहों की महादशा मे शुक्र या गुरू से सप्तमस्थ ग्रहों का अंतर।
12. लग्नेश की महादशा मे शुक्र से सप्तमस्थ ग्रहों का अंतर।
13. चन्द्रमा से सप्तमेश की महादशा मे शुक्र से युत ग्रह का अंतर।
14. लग्न से सप्तमेश की महादशा मे शुक्र से सप्तमेश का अंतर।
15. चन्द्र से सप्तमस्थ ग्रहों की महादशा मे शुक्र से सप्तमेश का अंतर।
16. लग्न से सप्तमेश की दशाा मे लग्न का अंतर।
 उपरोक्त सूत्र शुक्र नाड़ी मे महर्षि शुक्र द्वारा प्रतिपिादित भाग्य भाव के सूत्रों पर ही अधारित है। इन सूत्रों के ज्ञान का  असली का श्रेय महर्षि शुक्र को ही जाता है।  


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति