सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समाज को पत्रकारों सेे दूरी बनाने के बजाये उनके नजदीक आने की जरूरत है

रायबरेली। यूपी जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन उपजा द्वारा एक वृहद खिचड़ी भोज का आयोजन किया गया। जिसमें जनपद के पत्रकार, चिकित्सक, समाज के गणमान्य नागरिक, जनप्रतिनिधि एवं अतिथिगण उपस्थित रहे। कानपुर रोड स्थित आरएस काम्प्लेक्स में यूपी जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन उपजा द्वारा वृहद खिचड़ी भोज का आयोजन किया गया। इस अवसर पर पत्रकारिता से सम्बन्धित सुझाव और लेखन प्रक्रिया के बारे में लोगों अपने-अपने सुझाव साझा किये। कार्यक्रम का संचालन एसोसिएशन के प्रांतीय उपाध्यक्ष/जिलाध्यक्ष राधेश्याम लाल कर्ण ने किया। इस अवसर पर सहायक सूचना निदेशक प्रमोद कुमार ने कहा कि पत्रकारों को हमेशा निष्पक्ष पत्रकारिता के माध्यम से समाज को जागरूक करते रहना चाहिए। उन्होने कहा कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है समाज में जो घटित होता है पत्रकार अपनी पत्रकारिता के माध्यम से लोगो तक पहुंचाता है। आज समाज को पत्रकारों सेे दूरी बनाने के बजाये उनके नजदीक आने की जरूरत है स्वयं और परिवार में रचनात्मक, सकारात्मक, आपसी प्रेम भाव में वृद्धि लाने की आवश्यकता है। पूर्व विधायक स्व. अखिलेश सिंह की धर्मपत्नी श्रीमती वैशाली सिंह ने एसोसिएशन को शुभकामनायें देते हुए कहा कि इस प्रकार के आयोजनों से समाज में भाईचारा व आपसी सद्भाव बढ़ता है और लोगो केा एक-दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है। श्रीमती सिंह को धार्मिक पुस्तक देकर सम्मानित भी किया गया।
 जनपद के वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डा. मनीष मिश्रा ने एसोसिएशन को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि इस प्रकार के आयोजनों से समाज में एक अच्छा संदेश जाता है। इस मौके पर डा. मिश्रा को एसोसिएशन द्वारा पुस्तक देकर सम्मानित किया गया। जनपद के शिक्षाविद् एवं न्यू स्टैण्डर्ड ग्रुप आफ स्कूल्स के प्रबंधक शशिकान्त शर्मा ने भी अपनी शुभकामनाये देते हुए कहा सभी के सहयोग से ही समाज सेवा को किया जा सकता है और मुझे सभी का सहयोग हमेशा प्राप्त होता रहा है जिससे मुझे समाज सेवा करने हेतु प्रेरणा मिलती है। कार्यक्रम को मानस संत सम्मेलन समिति के अध्यक्ष गणेश गुप्ता, वरिष्ठ पत्रकार आर.के. त्रिवेदी, रघुनाथ द्विवेदी, इन्द्रकुमार वर्मा ने भी अपने उद्बोधन में पत्रकारों को अपने-अपने अनुभवों से अवगत कराया। धन्यवाद ज्ञापित एसोसिएशन के महामंत्री संजय सिंह एवं कार्यक्रम संयोजक रमेश चन्द्र श्रीवास्तव ने किया।
कार्यक्रम को वरिष्ठ अधिवक्ता एवं पत्रकार मिलिंद द्विवेदी, व्यापारी नेता अतुल गुप्ता, मानव सेवा मण्डल के अध्यक्ष राजेन्द्र अवस्थी, महेन्द्र अग्रवाल, वरिष्ठ होमियोपैथी चिकित्सक डा. रमेश श्रीवास्तव, अरविन्द श्रीवास्तव, डा. विजय श्रीवास्तव, लोकदल आरएलडी के प्रदेश मीडिया प्रभारी जावेद अहमद, स्वामी जितेन्द्र भारतीय, अरविंद श्रीवास्तव, गुरजीत सिंह तनेजा, सुभाष पाण्डेय, समाजसेवी स्नेहलता त्रिवेदी, समाजसेवी कमल श्रीवास्तव, रोहनिया ब्लाक प्रमुख पति अनुराग पाण्डेय, सभासद एस.पी. सिंह ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किये।
इस अवसर पर अधिवक्ता संजीव कुमार श्रीवास्तव, वीरेन्द्र सिंह, आर.डी. शुक्ला, अर्जुन सिंह, गंगा नारायण बाजपेयी, महेश श्रीवास्तव, अशोक शुक्ला, अवधेश कुमार, मनोज श्रीवास्तव, बलजीत सिंह मोंगा एडवोकेट, सुरेश त्रिवेदी, दुर्गेश शुक्ला, पत्रकार विजय करन द्विवेदी, पत्रकार आकाश आनन्द, गुरमीत सिंह तनेजा, कौशल कुमार श्रीवास्तव, एडवोकेट सरवर आलम, बद्री विशाल सिंह, पत्रकार मुकेश श्रीवास्तव, पत्रकार अशोक सिंह, रामसजीवन चैधरी, रामनरेश गौड़, आर.के. शर्मा, प्रद्युम्न शर्मा, रोहित मिश्रा, राहुल मिश्रा, केशवानंद शुक्ला, जय नारायण मिश्रा, अनुज मौर्या, सारिका शुक्ला, प्रियंका कक्कड़, आनन्द कर्ण, अविनाश कर्ण, राहुल श्रीवास्तव, पवन गुप्ता, अजीत कर्ण, रवि मिश्रा, श्रवण कुमार, चन्द्रसेन भारती, सुशील चन्द श्रीवास्तव, अर्जुन यादव, राशिद, सुरेश चन्द श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे। इस मौके पर सूचना विभाग द्वारा आये हुए पत्रकार, चिकित्सक, समाज के गणमान्य नागरिक, जनप्रतिनिधि एवं अतिथिगणों को उत्तर प्रदेश संदेश, सूचना पंचाग आदि सरकार की उपलब्धियों वाली पुस्तके वितरित की गयी।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति