महाराज जी का कहना है कि कॅरोना का प्रकोप 30 अप्रैल के बाद से कम हो जाएगा

सती अनुसूइया के तीन पुत्र ऋषि चंद्रमा, ऋषि दत्तात्रेय व ऋषि दुर्वासा की तपो भूमि आजमगढ़ रही है। सबसे बड़े पुत्र ऋषि चंद्रमा की तपोभूमि सिलनी घाट एक सिद्ध पीठ है जहां पर महंत बम बम गिरी महाराज जी जो खुद भी एक पहुचे हुए संत है। महाराज जी का कहना है कि कॅरोना का प्रकोप 30 अप्रैल के बाद से कम हो जाएगा। जहां पूरा विश्व हिल गया है वहीं भारत मे उसका प्रभाव बहुत कम है। कारण कई है जिसमे बड़ा कारण है होलिका दहन में प्रयुक्त रेड़ के पेड़ से बहुत से वायरस समाप्त हो जाते है और फिर नवरात्रि में हवन ने भी वायरस के प्रभाव को कम कर दिया है। हवन बहुत ही लाभकारी है क्योंकि हवन के माध्यम से देवताओं को ताकत मिलती है जिससे वो हमारा कल्याण करते है। कोरोना को समाप्त करने के लिए बहुत से संत महात्मा साधना में लगे हुए है, हां लोगो को सरकार के बताए हुए नियम का अवश्य पालन करना चाहिए जिससे कोरोना बढ़ने न पाए।