सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एटीएम मे घुसकर चोरी का प्रयास करने वाला अभियुक्त पुलिस की सतर्कता से गिरफ्तार

आजमगढ़। अभियुक्त द्वारा 29/30 की रात मे सेन्ट्रल बैक आँफ इण्डिया शाखा अशरफिया यूनिवर्सीटी मे लगा ए0टी0एम0 मे घुसकर ए0टी0एम0 मशीन तोडकर पैसा चोरी करने का प्रयास किया। परन्तु काफी प्रयास के बाद भी ए0टी0एम0 को तोडकर पैसा चोरी करने मे सफल नही हो पाये। शाखा प्रबन्धक की तहरीरपर थाना मुबारकपुर पर मु.अ.स., 115/2020 धारा 379,511,427 भादवि  पंजीकृत कराया।
पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ प्रो0 त्रिवेणी सिंह द्वारा चलाये गये अभियान के तहत तथा अपर पुलिस अधीक्षक नगर व क्षेत्राधिकारी सदर मो0 अकमल खाँ के कुशल नेतृत्व मे मुबारकपुर व आस-पास के थानो पर आये दिन हो रही चोरी के रोकथाम के दौरान प्रभारी निरीक्षक अखिलेश कुमार मिश्र मय हमराह द्वारा सेन्ट्रल बैक अशरफिया यूनिवर्सीटी के ए0टी0एम0 के पास से ए0टी0एम0 की मशीन को तोडकर पैसा निकालने करने का प्रयास करते समय गिरफ्तार किया गया। जिससे ए0टी0एम0 मे रखे करीब 16 लाख रूपये पुलिस की सतर्कता से चोरी होने से बचाया गया। 
गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ की गयी तो अभियुक्त द्वारा बताया गया कि अभियुक्त गोलू उर्फ गोपाल विश्वकर्मा द्वारा साइकिल से मोहम्मदाबाद, मुबारकपुर आया तो देखा कि ए0टी0एम0 के आस-पास कोई गार्ड नही है, तो  कि इससे अच्छा चोरी करने का मौका नही मिलेगा। इसके एक सप्ताह पहले अभियुक्त मुबारकपुर आकर ए0टी0एम0 के आस-पास घुमकर देखा था जो एकान्त मे था इसके दो दिन पहले भी अभियुक्त आकर रेकी किया था आज शाम को मुबारकपुर आकर ए0 टी0 एम0 के आस पास घुमने के पश्चात समय करीब 9.30 बजे दो व्यक्ति आए पैसा निकालकर चले गये तब मै देखा कि सुन सान हो गया है। अब कोई आ जा नही सकता है। तब मै ए0 टी0 एम0मे घुसकर सटर निचे गिरा दिया व पेंचकश व लोहे की राड से ए0टी0एम0 मशीन को तोडने लगा गोलू उर्फ गोपाल ने सोचा की इसी मे पैसे भी रखे होगे लेकिन काफी तोडफोड के बाद भी पैसे नही मिले तब तक पुलिस जाग गयी और गोलू उर्फ गोपाल को पकड लिए जामा तलाशी के दौरान एक अदद कट्टा .315 बोर व 2 अदद जिन्दा कारतुस .315 बोर का बरामद हुआ तथा ए0टी0एम0 मशीन के पास से ए0टी0एम0 मशीन को तोडने मे प्रयुक्त किया गया एक अदद पेचकश एक अदद हथौडा व एक अदद छेनी बरामद हुआ। पुलिस द्वारा कडाई से पूछताछ किया गया तो बताया कि मोहम्दाबाद थाने के मु0अ0स0--103ध्2020 धारा 379,411,413 भा0द0वि0 मे ट्रैक्टर ट्राली चोरी के मामले मे जेल गया था जेल मे रहने के दौरान ही कई बडे बडे बदमाशो से मुलाकात हुई जो चोरी के ही आरोप मे बन्द थे उनके द्वारा बताया गया कि रोज-रोज चोरी करने से अच्छा है कि कही बैक/ए0टी0एम0 मे लम्बा हाथ मारो जिसमे ज्यादा पैसे मिलेगे। अभियुक्त गोलू उर्फ गोपाल इसी कारण ए0टी0एम0 मे चोरी करने घुसा था लेकिन काफी प्रयास के बाद भी पैसा नही मिल पाया और पुलिस द्वारा गोलू उर्फ गोपाल विश्वकर्मा को पकडा गया। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति