सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फिल्म कलाकारों के विचार और बच्चों को सलाह

चिल्ड्रन वेलफेयर सेंटर हाईस्कूल एवं क्लारास कालेज ऑफ कामर्स के 39वां वार्षिकोत्सव रंगारंग कार्यक्रम के साथ मनाया गया। कार्यक्रम की शुरुआत मुख्य अतिथियों एवं स्कूल के प्रिंसिपल अजय कौल के हाथों दीप प्रज्ज्वलन से हुई। इस दरम्यान विद्यार्थियों ने जबरदस्त नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को थिरकने पर मजबूर कर दिया। इस अवसर पर कई एक्टर, फिल्म, टीवी एक्टर एवं एक्ट्रेस उपस्थित रहे। इस दौरान कालेज के होनहार छात्रों को अतिथियों तथा प्रिंसिपल ने पुरस्कृत कर उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दीं। फिल्म कलाकारों ने निम्न रूप से अपने अपने विचार व्यक्त किये।
जीवन में तरक्की करने के लिए आप वही लक्ष्य निर्धारित करें,जिसमें आपकी रुचि हो। आप किसी पारिवारिक दबाव में या उनकी परम्परा को निभाने वाला कैरियर न चुनें। मैं फिल्म बैकग्राउंड के कारण नहीं बल्कि मेरा इसमें लगाव था इसलिए अभिनेत्री बनी। - करिश्मा कपूर,फिल्म अभिनेत्री
विद्यार्थियों ने नाट्य के माध्यम से बताया कि मंदिर, मस्जिद भले ही अलग-अलग हों,लेकिन दिल से किया हुआ हर पुण्य का काम उस एक मालिक के पास पहुंचता है। मुझे कार्यक्रम देख कर लग रहा था, जैसे किसी टीवी का रियलिटी शो देख रहा हूं। इस संस्था को 39 वर्ष पूर्ण करने पर बधाई देते हुए अजय कौल को धन्यवाद करता हूं जो इतने बच्चों का भविष्य संवारने का काम कर रहे है।- आदित्य पंचोली, फिल्म अभिनेता
वर्तमान समय में बच्चों को सिर्फ शरीर से ही नहीं दिमाग से भी मजबूत बनने की जरूरत है। बच्चों को हम लोग नहीं सिखाते, बल्कि उनसे हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है। माता-पिता बच्चों को अच्छे संस्कार दें। - दया शेट्टी, टीवी एवं फिल्म अभिनेता
जीवन में सबसे जरूरी अनुशासन है, इसके बिना आप कहीं भी सफलता प्राप्त नहीं कर सकते हैं। इसलिए बच्चों से अनुरोध करता हूं कि भले ही परीक्षा में एक या दो नंबर कम लाएं, लेकिन अनुशासित तरीके से रहें। आप सब बहुत सौभाग्यशाली हैं, जो इस संस्थान में शिक्षा ग्रहण कर रहें हैं.। -दलीप सिंह राणा (खली), रेसलर, हालीवुड व बालीवुड अभिनेता
दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण शिक्षा है उसके साथ खेलकूद भी जरूरी है। आपलोग शौभाग्यशाली हैं,कि ये सभी सुविधाएं एक साथ, एक छत के नीचे मिल रही हैं। मुझे यहां आने के बाद लगा कि मैं किसी फिल्म फेयर अवार्ड में हूं। मैं इस संस्था के अजय कौल को धन्यवाद देना चाहता हूं,जो पूरे देश के बच्चों को शिक्षित करने का वीणा उठाया है।  - चंकी पांडे, फिल्म अभिनेता
ज्ञान ऐसी चीज है,जिसे कोई छीन नहीं सकता है, इसके बल पर आप जीवन की ऊंचाईयों पर पहुंच सकते हैं। पैसा आता जाता रहता है, लेकिन ज्ञान एक वो पूंजी है जो हमेशा आपके पास, आपके साथ रहती और आपके काम आती है। बच्चों की प्रस्तुति देखकर मुझे अपने कालेज के दिन याद आ गए। इनके कोरियोग्राफर और इस संस्था को धन्यवाद एवं शुभकामनाएं देती हूं।  -सोनाली बेंद्रे, फिल्म अभिनेत्री
इस संस्था को बहुत-बहुत बधाई,जिसने एक अविश्वसनीय सफलता के साथ 39 साल की यात्रा तय की। शिक्षा जीवन का एक अभिन्न अंग है, इसलिए हर मां-बाप अपने बच्चों को शिक्षित करें। बच्चे ज्यादेतर देख कर सीखते हैं, अतः आप अपने घर या आस-पास के लोगों के साथ अच्छा बर्ताव करें,जिससे बच्चों के अंदर भी वैसा कार्य करने की प्रवृत्ति निर्माण हो। -सुनील शेट्टी, फिल्म अभिनेता
किसी भी क्षेत्र में जाने के लिए पढ़ाई जरूरी है। ऐसा नहीं कि अभिनेता बनना है,तो बिना शिक्षा के काम चल सकता है। जीवन में ऐसे अनेक अवसर आते हैं, जहां शिक्षा की आवश्यकता पड़ती है। इसलिए हर विद्यार्थी सिर्फ पेशे के लिए ही नहीं बल्कि व्यवहारिक ज्ञान के लिए भी शिक्षा ग्रहण करें। - कृष्णा अभिषेक, कॉमेडियन, फिल्म अभिनेता


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति