सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोरोनाः क्या मंत्र शक्ति रोकेगी महामारी

ज्योतिष डी.एस. परिहार दिल्ली विधान सभा चुनाव में अरविन्द केजरीवाल की जीत की घोषणा की थी वो सत्य साबित हुई थी। करोना वायरस पर उनका सुझाव आपके समझ है।
यह घटना संवत 2017 सन 1958 की है। राजस्थान के जिला टोंक के भासू ग्राम मे चैत शुक्ल नवमी से पुर्णिमा तक विष्णु याग (यज्ञ) का आयोजन किया गया था जिसे सम्पन्न कराने वाराणासी के प्रसिद्ध वैदिक विद्वान प. वेणीराम जी गौड़ आये थे, वे यज्ञ शुरू होने के तीन दिन पहले ही आ गये थे हम लोगों ने उनसे प्रार्थना की कि यहाँ 20-25 मील के आस पास अनेकों गांव मे चेचक की महामारी फैल गई है। अकेले भासू गांव में ही छह माह से लेकर 14 साल के करीब 50 बच्चे रोज मर रहे है। जिससे हमारा यज्ञ के प्रति उत्साह नष्ट हो गया है। पण्डित जी ने कहा, आप लोग ंिचंता ना करे आज रात मैं एक अनुष्ठान करूँगा जिससे आप सबको इस महामारी से छुटकारा मिल जायेगा उन्होंने रात मे नौ बजे गांव के चैराहो पर नवग्रह आदि का पूजन करवा कर दो ब्राह्मणों को अलग-अलग रात भर मंत्र जाप करने का निर्देश दिया और कहा, आप लोग जप पूरा ना होने तक आसन नही छोड़ें रात भर दीपक ना बुझने पाये इसकी भी व्यवस्था की गई जप सम्पन्न हुआ तो प्रातः उन्होंने यज्ञ भी किया दूसरे दिन चमत्कार हो गया जहाँ रोज 50 बच्चे मरते थे वहाँ केवल एक ही बच्चे की मौत हुयी और अगले दिन से आस पास के सभी गांवों से ना केवल महामारी खत्म हो गई बल्कि कोई भी मौत नही हुयी गांव वालो ने आंनदपूर्वक विष्णु यज्ञ सम्पन्न करवाया जब वे विद्वान वापस लौट रहे थे तो मैंने उनसे पूछा के आपने महामारी रोकने के लिये कौन सा अनुष्ठान किया था तो वे बोले मैंने उस रात एक ब्राह्मण को दुर्गा सप्तशती के इस मंत्र का संपुट लगा कर दुर्गा सप्तशती का पाठ करने को कहा था। 
बालग्रहा भिभूतानां बालानां शान्ति कारकम्।
संघातभेदे च नृणां मैत्रीकरणमुत्तम।।
और दूसरे ब्राह्मण को शीतलाष्ठक के इस मंत्र का संपुट लगा कर दुर्गा सप्तशती का पाठ करने को कहा था। 
शीतले त्वं जगन्माता शीतले त्वं जगत्पिता।
शीतले त्वं जगद्धात्री शीतलायै नमो नमः।।
यह दोनो मंत्र शीतला माता (चेचक) के भंयकर प्रकोप को शांत कर देते है। 
साभार-पुस्तक- पढे समझो और करो, प्रेषक- श्री बजरंग प्रसाद शर्मा, ग्राम भासू जिला टांेक, राजस्थान, प्रकाशक-गीताप्रेस गोरखपुर।
महामारी नाशक दुर्गा सप्तशती का अमोघ मंत्र-
दुर्गा सप्तशती के इस मंत्र का संपुट लगा कर दुर्गा सप्तशती का पाठ करने से हैजा आदि कोई भी महामारी शांत हो जायेगी इसके अलावा यदि नौ दिन तक प्रतिदिन नौ माला नवार्ण मंत्र का पाठ करे मध्य मे 101 बार निम्नलिखित मंत्र का जाप करे पुनः नौमाला नवार्ण मंत्र का जाप करे दसवे दिन गाय के दूध की खीर से दो माला का हवन करें तथा गुर्च या गिलोय के टुकड़ों मे घी मिला कर तीन माला हवन करें। तो महामारी निश्चित रूप से शांत हो जोयगी 
ओम जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तुते। 
विविध रोगों तथा उपद्रवों की शान्ति के लिये:-
राम चरित मानस के इस मंत्र का नित्य एक माला का जाप साधक को महामारी से मुक्त रखेगा इसका सामुहिक जाप भी महामारी को शांत कर देगा। 
“दैहिक दैविक भौतिक तापा। राम राज काहूहिं नहि ब्यापा।।
अपील:- मैं डी एस परिहार देश के विद्वान ब्राह्मणों, साधकों तथा यज्ञ कर्ताओं से हाथ जोड़ कर प्रार्थना करता हूँ कि जिस प्रकार आपके महान तपस्वी महर्षि पूर्वजों ने देश और विश्व की रक्षा के लिये अनेकों बार महान तप और अनुष्ठान किये आप लोग भी एक बार फिर विश्व व देश की रक्षा के लिये मंत्र शक्ति, जप हवन आदि से मानवता की रक्षा करें देश के धनाढ्यों से भी प्रार्थना करता हूँ आप लोग सामूहिक यज्ञ, जप आदि करवाने का कष्ट करें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति