मैं कलम से सही लिखना बंद नही करूँगा


मुझे जेल भी हो जाये तो भी मैं कलम से सही लिखना बंद नही करूँगा जनता के साथ हो रहे अत्याचार पर चुप नही रहूँगा, हम पूंजीपतियों व सरकारी विभाग के लोगो व प्राइवेट कंपनी में बड़े पदों पर बैठे लोगों की तुलना डेली वर्क करने वालो से नही कर सके क्योकि डेली वर्क करने वालो लोगो की संख्या 60-70 प्रतिशत है। ’किसी की घोषणा से कि कोई मकान मालिक किराएदार से किराया न ले ,बिना काम के कोई तनख्वाह दे, बैंक अपना बकाया किस्त न ले सिर्फ कहने की बात है जब स्वयं सरकार का प्रतिनिधित्व कर रहे लोग घोषणा के बाद डायल102 का घुस लेना नही बन्द कर पा रहे है, जनता को एक जुन की रोटी न देने के कारण मजबूरी में दिल्ली व अन्य जगहों से डेली वर्करों का पलायन होना व पैदल ही घरों में पहुँचना चीख-चीख कर स्वयं बया कर रही है व अच्छे अच्छे नेताओ व जिम्मेदार अधिकारियों का मास्क न पहिनना ही साबित करता है सरकार की घोषणा का कितना अनुपालन हो रहा है सिर्फ सारे कानून जनता पर ही क्यो लागू है।आखिर पूरी जनता पर काबू करने वाला व्यक्ति इस घटनाओं पर अभी तक कार्यवाही क्यो नही कर रहा है जबकि मीडिया लगातार इस बात को दिखा रही है। आप जानते है कि एक बीमा कंपनी भी कोई क्लेम बिना न्यायालय के सरन के नही देती तो ऐसे देश का क्या होगा...?’


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

जन्म कुंडली में वेश्यावृति के योग

भृगु संहिता के उपचार