सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रतिभाशाली हैं झांसी के जिलाअधिकारी रविंद्र कुमार

- पंकज भारती, ब्यूरो चीफ झांसी 

    झांसी जिलाअधिकारी रविंद्र कुमार 2011 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। अतीत में, उन्होंने सिक्किम और उत्तर प्रदेश राज्य सरकार में उप-मंडल मजिस्ट्रेट (एसडीएम), अपर जिला मजिस्ट्रेट (एडीएम), मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ), जिला मजिस्ट्रेट (डीएम) और आयुक्त मनोरंजन कर सहित विभिन्न पदों पर काम किया है। फिर वे भारत सरकार में केंद्रीय पेयजल और स्वच्छता मंत्री, सुश्री उमा भारती के निजी सचिव के रूप में भारत सरकार में तैनात हुए और दिसंबर 2017 से 14 जून 2019 तक वहां काम किया। वर्तमान में वे उत्तर प्रदेश सरकार में तैनात हैं और झाँसी आने से पहले  जिलाधिकारी बुलन्दशहर के रूप में कार्य किया है ।       

    रविंद्र कुमार कुमार ने अलग-अलग रास्ते से दो बार माउंट एवरेस्ट की सफलतम चढ़ाई भी की है और अपनी पर्वतारोहण की यात्रा पर दो प्रेरक पुस्तकें भी लिखी हैं, ब्लूम्सबरी द्वारा प्रकाशित की गयी है । मैनी एवरेस्ट -एन इन्स्पाइरिंग जर्नी ओफ ट्रैन्स्फाॅर्मिंग ड्रीम्स इंटू रीऐलिटी’ और इसके हिंदी संस्करण ‘एवरेस्ट-सपनों की उड़ानः सिफर से शिखर तक’ नामक पुस्तकें ‘एडवांस पाॅजिटिव विजुअलाइजेशन नामक सफलता के लिए एक अभिनव तकनीक के बारे में बात करती हैं। यह भाषण, श्रवण, गंध, स्पर्श आदि जैसी किसी भी अन्य संवेदी धारणा से पहले किसी भी चीज की छवि को पकड़ने के लिए मानव मस्तिष्क की सहज शक्ति का उपयोग करता है। लेखक वैज्ञानिक रूप से अपनी तकनीक को पाठकों को समझाता है और व्यावहारिक रूप से प्रदर्शित करता है और उन्हें प्रेरित करने की कोशिश करता है कि वह कैसे, एक बेसहारा पृष्ठभूमि से आने और जीवन में कई बाधाओं का सामना करने के बावजूद, कम समय में कई मील के पत्थर स्थापित किए। ये दोनों पुस्तकें युवकों के लिए बहुत ही प्रेरक सिद्ध हो रही हैं। अपने अनुकरणीय कार्यों के लिए, जिलाधिकारी रविंद्र कुमार को सिक्किम खेल रत्न पुरस्कार, बिहार- विशेष खेल सम्मान, कश्ती रत्न पुरस्कार, सेलर टुडे सी-शोर पुरस्कार, समुद्र मंथन पुरस्कार सम्मान, जयमंगला काबर पुरस्कार, अटल मिथिला सम्मान, भारत गौरव पुरस्कार सहित कई पुरस्कार और मान्यताएं प्राप्त हुई हैं।

रवींद्र कुमार का जन्म बिहार के बेगूसराय जिले में एक किसान परिवार में वर्ष 1981 में हुआ था। हालांकि बचपन में दुबले-पतले और शारीरिक रूप से कमजोर होने के बावजूद वे शिक्षा में मेधावी थे। गाँव के एक ग्रामीण हिंदी माध्यम स्कूल में अपनी प्रारंभिक शिक्षा के साथ, रविंद्र कुमार ने 1999 में अपने पहले प्रयास में प्प्ज् प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की और फिर, शिपिंग के क्षेत्र में लगभग दशक तक काम किया। अंत में, वह सिविल सेवा परीक्षा पास करने के बाद 2011 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में अपनी वर्तमान नौकरी में बस गए।

पर्वतारोहण के अलावा, उन्होंने बंजी जंपिंग, फ्लाइंग फाॅक्स, पैरा सेलिंग, स्कूबा डाइविंग, स्किन डाइविंग, घुड़सवारी, रिवर राफ्टिंग जैसी कई अन्य खेल और साहसिक गतिविधियाँ भी की हैं। वह अतीत में एक अच्छे तैराक और मैराथन धावक, ‘कराटे में ब्लैक बेल्ट’ भी रह चुके हैं। वह सामाजिक कल्याण के मोर्चे पर भी सक्रिय रहे हैं और अतीत में गरीब और असहाय लोगों की मदद के लिए कई पहल की हैं। वह एक प्रेरक वक्ता भी हैं और उन्होंने भारत के कुछ शीर्ष प्रशिक्षण संस्थानों जैसे मसूरी में आईएएस प्रशिक्षण अकादमी, फरीदाबाद में आईआरएस कस्टम प्रशिक्षण अकादमी और कई अन्य संस्थानों में भी प्रेरक व्याख्यान दिए हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति