सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्लान्टेशन एस्ट्रोलाॅजी

प्लान्टेशन एस्ट्रोलाॅजी कोई नई विधा नही है। बल्कि संसार की अन्य प्राचीन सभ्यताओं और संस्कृतियों में ज्योतिष के आधार पर वृक्षारोपण और उनके ग्रहों के उपचारात्मक व तांत्रिक उपयोगों का वर्णन मिलता है। प्रस्तुत लेख मे विभिन्न लग्नों राषियों और कुछ विषेष ग्रह योगों में जंमे जातक के अनुकूल वृक्षों के वृक्षारोपण उनकी सेवा, उनके विभिन्न उपयोगों द्वारा जीवन की कुछ जटिल समस्याओं से मुक्ति पाने के उपायों का वर्णन किया गया है। वृहत्संहिता, वृहत्जातक, होरासार, नारद संहिता, भविश्ष्य पुराण, गरूड़, स्कंद पुराण, जैमिनी गनन माला, जैमिनी गनन प्रदीपिका आदि ज्योतिष व धार्मिक ग्रन्थ में ग्रहों और वृक्षो के मध्य निम्न संबध दिखाया गया है।
सूर्य:-सेब, गाजर, अनार,़ बेल, बादाम चैलाई, ,लौंग, अदरक, खजूर, जौ, गेहू, संतरे, मदार।
चन्द्रमा:- अंगूर, खरबूजा, लौकी, गन्ना, खीरा, ककड़ी, खिरनी, मंगल, बेर, झर बेरी, चावल मूली, नारियल, कद्दू, लौकी, टिण्डा, दूधदार वृक्ष, अंगूर, सलाद, खरबूजा, बंदगोभी खीरा, अलसी, पलाष, चंदन, हरसिंगार, बेला।
मंगल:- गेंहू, टमाटर, सेब, लाल मिर्च, मसूर, चैलाई, अजवाइन, चना, शलजम, एरंड, खैर, लाल चंदन, अजमोद, जीरा, गाजर, अखरोट, चमेली।
बुध:-मूंग, पालक, अमरूद, आवंला, धनिया, सौफ, सोया, पेठे वाला कददू, तोरई, खीरा, लटजीरा।
गुरू:-मक्का, चना, पपीता, केला, पका आम, मीठी ईख, गन्ना, नीबू, बेल काबुली चना, मटर दाल, खरबूजा, हल्दी, पीली सरसों, अरहर, चुकंदर, रसभरी, सेब, शहतूत आड़ू, अनार अंगूर, पुदीना, केसर, जायफल, पीला नीबू, अंजीर, गेंहू, पहाड़ी बादाम, जैतून, पीपल, गेंदा।
शुक्र:- मौसमी, संतरा, आम का पेड़, खट्टे फल व खट्टे रसदार, फल चावल, आलू, दूधदार वृक्ष ईमली, कैथा, राजमा, सेम, हरी मटर, तरबूज, पान, जीरा, सिंधाड़ा, कमलगट्टा, गूलर, पालक, फलियां, कुम्हड़ा, बनफषा, गुलाब के पौधे व फूल, रात की रानी, कमल, सफेद तिल।
शनि:-जामुन, चुकदंर, बेर, बबूल, कांटेदार पेड़, सूखे फलदार वृक्ष, अखरोट, बादाम, यूकेलिप्टस, काली मिर्च, काला चना, बैगन, उर्द, परवल, किवांच, शमी, कदंब, चिलबिल, शीषम, साखू।
राहू:- काला तिल, जौ, नारियल गोला, मूली, राई, जंगली पेड़ व फल, बेर ईमली, झरबेरी, मुलैठी, कड़वे फल, करैला, जायफल काला नमक, धतूरा, दालचीनी, गर्म मसाले नशीले वृक्ष व पौधे भंाग, कुचला, अफीम, चंदन बड़हल, कटहल आदि।
केतु:-केला, नारियल, बाजरा, काकुन, कुष, बीन्स, लोबिया, तोरई दालचीनी, ककड़ी, कमल ककड़ी, बेलें।
कुछ वृक्ष स्त्री है। कुछ पुरूष व कुछ नपुंसक।
पुरूष वक्ष:- केला कददू, पेठा कददू, भंाग, कुचला, अफीम, सेब, गाजर, अनार,़ बेल, बादाम खजूर, जौ, गेहू,मदार, गन्ना, खीरा, अंगूर, खरबूजा, गेंहू, टमाटर, सेब, मसूर चना, एरंड, खैर, एरंड, लाल चंदन, अजमोद, अखरोट मूंग, पालक, अमरूद, परवल, बरगद, नीम, आवंला अमरूद, जैतून, मक्का, चना, पपीता, केला, पका आम, मीठी ईख, गन्ना, नीबू, बेल काबुली चना, मटर दाल, खरबूजा, पीपल, सेब, षहतूत आड़ू, अनार अंगूर, अंजीर केसर, संतरा, आम का पेड़, कैथा, राजमा, आलू, जामुन, चुकदंर, बेर, बबूल, कांटेदार पेड़, सूखे फलदार वृक्ष, अखरोट, बादाम, यूकेलिप्टस, काली मिर्च, काला चना, बैगन, उर्द, परवल, साखू, सीसम, जायफल, कायफल, करैला, टिण्डा।
स्त्री वृक्ष:- बीन्स, लोबिया, तोरई, लौकी, ककड़ी, कमल ककड़ी, बेले चंदन मूली, राई, झरबेरी, मुलैठी, सरसों, मिर्च,चैलाई, लौंग, अदरक, ककड़ी, खिरनी, बंदगोभी पलाष, हरसिंगार, बेला अलसी, चैलाई, अजवाइन, शलजम, जीरा, चमेली, लटजीरा, तोरई, धनिया, सौफ, पालक, हल्दी, पीली सरसों, अरहर, चुकंदर, रसभरी, गेंदा। पुदीना, षहतूत पालक, फलियां, कुम्हड़ा, बनफशा, गुलाब के पौधे व फूल, रात की रानी, कमल, सेम, हरी मटर, तरबूज, पान, जीरा, सिंधाड़ा, कमल गट्टा, दूधदार वृक्ष ईमली, खट्टे फल व खट्टे रसदार, फल चावल, किवांच, शमी, कदंब, चिलबिल।
लग्न व चन्द्र राशि के अनुसार वृक्षारोपण:-
लग्न व चन्द्र राशि के अनुसार वृक्षारोपण व उनका पोषण जीवन कई प्रकार की शारीरिक मानसिक रोगों तथा समस्याओं का नाश करता है।
1. यदि लग्न या राशि सिंह हो तो सूर्य का पेड़ गंेहू, बेल या मदार लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।
2. यदि लग्न या राशि कर्क हो तो चन्द्र का पेड़ खिरनी, पलाश, बेला या लतायें व दूधदार पेड़ लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।
3. यदि लग्न या राशि मेष या वृश्चिक हो तो मंगल का पेड़ मिर्च खैर नीम या मदार लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।
4. यदि लग्न या राशि मिथुन या कन्या हो तो बुध का पेड़ लटजीरा, अमरूद या आंवला, तुलसी लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।
5. यदि लग्न या राशि धनु या मीन हो तो गुरू का केला, पपीता, केला पीपल लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।
6. यदि लग्न या राशि वृष या तुला हो तो शुक्र का पेड़ अशोक, शरीफा, गुलाब, संतरा, नीबू, मुसम्मी, लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।
7. यदि लग्न या राशि मकर या कुंभ हो तो शनि का पेड़ शीसम, बरगद, साखू, शमी, युकेलिप्टस, चिलबिल, बेल या मदार लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।
8. यदि लग्न या राशि कुंभ हो तो राहू का पेड़ बेर, घतूरा, ईमली, पाकर, विशाल जंगली वृक्ष लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।
9. यदि लग्न या राशि वृश्चिक हो तो केतु का पेड़ केला, नारियल, केला, पाॅम या ताड़ क्रिसमस ट्री लगायें और उन्हें नित्य जल चढायें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति