सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भटकती आत्मा

कालपी के नवाब हसीमुददीन खाँ की बेटी मलिका किश्वर जहाँ लखनऊ के बादशाह मुहम्मद अली शाह के शहजादे अमजद अली शाह की बेगम बन कर आई थीं। गोमती नदी के तट पर बना बेहद खूबसूरत महल छतर मंजिल उनका रिहाइशी महल था। छतर मंजिल बड़ी खुशगवार जगह थी। चारों ओर फैली हरियाली, नदी के मनमोहक नजारे, आस पास बनी जन्नत जैसी बेइन्तहा खूबसूरत इमारतें और महल मनमोह लेते थे। पूरब में करीब ही गोमती के किनारे बसा मोती महल, उससे कुछ दूर आगे खुर्शीद मंजिल (वर्तमान लामाटीनियर गर्लस कालेज) था उससे आगे एक घना जंगल था जिसे बीच से एक कच्चा गलियारा पूरब को जाता था दांये हाथ पर नवाब सआदत अली का मकबरा था और पश्च्छिम मे कुछ दूर पर एक उंचे टीले पर विालायती ढंग की खूबसूरत रेजीडेंसी बनी हुयी थी। उत्तर में नदी के उस पार बादशाह बाग (वर्तमान विष्वविद्यालय) जिसमे नवाब साहब के आराम के लिये कुछ इमारतें बनी हुयी थी। छतर मंजिल के सामने दायीं ओर कोठी दर्शन विलास थी। छतर मंजिल के पूर्वी छोर पर नवाब साहब और पश्छिमी छोर पर उपरी मंजिल पर बेगम साहिबा और निचली मंजिल पर नवाब साहब की मां बेगम जनाबे आलिया रहती थीं। महल मे कुल मिला कर साठ बड़े और हवादार कमरे और जनाने और मर्दाने महल मे दो-दो हाल दस्तरखान और नवाब और उनकी बेगम के सोने के लिये थे। महल के बीच में बड़ा सा दालान था जिसमे संगमरमर का बेहद खूबसूरत फव्वारा लगा हुआ था जनानी ड्योढी के बाहर और सदर दरवाजे पर पिस्तौलबंद और करौली बंद तातारी औरतों का पहरा रहता था। बेगम साहिबा के पास पन्द्रह कमरे थे जिनमे बारह कमरे में बेगम साहिबा की जरूरत का सामान और किनारे के तीन कमरों में उनकी खास कनीजे रहती थी। कनीजों के कमरे मे डोर से बंधी घंटिया लटकी रहती थी डोर का दूसरा सिरा बेग साहिबा के कमरे रहता था बेगम साहिबा को जब जरूरत होती थी वे डोर खीच कर कनीजों को बुला लेती थी। बेगम को ब्याह कर आये अभी दो ही महीने हुये थे। कि उनको महल मे अजीब सी आवाजो, आहटों का आभास होने लगा था, अगले महीने बेगम के वालिद और उनकी वालिदा कालपी से मिलने आये। नवाब साहब ने उन्हें लालबाग की चैलख्खी कोठी मे ठहराया गया। अभी उनको आये हुये सप्ताह भी नही बीता था कि जाडे़ की एक रात अचानक बेगम साहिबा की नींद खुल गई। शमादान मे शमा जल रही थी बेगम साहब को अहसास हुआ कि उनके पलंग के दांयीं ओर कोई खडा़ है उन्होंने उस ओर देखा तो वहाँ पर बेशकीमती सफेद रंग के कपड़े 20-22 साल की युवती खड़ी दिखी उसका चेहरा दूसरी ओर था उसके काले घने खुले बाल कमर तक लहरा रहे थे उसके बदन से गुलाब के इत्र की भीनी सी खुषबू आ रही थी उन्हें यह देखकर हैरत हुयी कि कमरे के दरवाजे बंद थे तो यह अंदर आई कैसे बेगम ने हिम्मत करके पूछा कौन हो तुम, वह खमोश रही बेगम साहिबा ने दुबारा पूछा, वह खामोश ही रही बेगम साहिबा को गुस्सा आ गया उन्होंने सिरहाने तिपाई पर रखा गिलास उस पर फेंक कर मारा यह देख कर उनकी आंखें हैरत और दहशत से फटी रह गइ्र्र कि गिलास उसे ना लग कर उसके जिस्म से आर-पार हो गया अचानक हवा का एक तेज झोंका आया दरवाजे भड़ाक से खुल गये शमा बुझ गई। बेगम चीख कर बेहोश हो गई उनकी चीख सुनकर कनीजें दौड़ती हुयी आयीं उन्हें होश मे लाया गया उनकी बात सुन की सारे महल की छानबीन की गई परन्तु उस लड़की का कुछ पता नही चला। सुबह एक मनहूस खबर आई कि बेगम के माता-पिता जो चैलख्खी कोठी में ठहरे थे दोनों अचानक सोते सोते ही मौत की आगोश मे चले गये बेगम पर गाज गिरी सारा महल शोक मे डूब गया। कोई भी उनकी मौत का कारण नही बता सका शाही हकीम का ख्याल था कि उनकी मौत दहशत के कारण हुयी थी, पूरे शाही सम्मान से उनको दफनाया गया। इसके कुछ दिन बाद एक रात बेगम साहिबा को कही दूर से कई लोगों के गाने बजाने की आवाजें आती सुनाई दी उन्होंने अपनी खास कनीज एलू जान को बुलाकर उसका पता लगाने को कहा महल मे इतनी रात मे कौन गा बाजा रहा है। उसने लौटकर बताया कि ये आवाजें महल से नही कही बाहर से आ रही हैं। बेगम बेचैन होकर एलू जाॅन के साथ महल की छत पर पहुंची अमावस होने के कारण छत पर घना अंधेरा था एलू जाॅन हाथ मे लैम्प लिये रास्ता दिखाती हुयी आगे आगे चल रही थी। बेगम ने चारों और गौर से देखा तो गोमती नदी के उस पार बादशाह बाग (वर्तमान लखऩऊ विष्वविद्यालय) में रोशनी दिखी वहीं से गाने बजाने की आवाजें आ रही थीं।
अगली दोपहर जब नवाब साहब दस्तरखान पर आये तो बेगम साहिबा ने उनसे रात के बादशाह बाग के गाने बजाने के बारे मे पूछा तो नवाब साहब को बड़ी हैरानी हुयी क्योंकि उनकी जानकारी मे बीती रात बादशाह बाग में ऐसा कोई जलसा नही था अगले दिन उन्होने बादशाह बाग के मुलाजिम को तलब करके उस रात के जलसे के बारे मे पूछा तो उसने हैरानी से कहा हुजूर बेगम साहिबा को जरूर कोइ्र्र गलतफहमी हुयी है। वहाँ हर रात मैं खुद रहता हूँ वहां तो कई रोज से किसी ने पैर नही रखा हैं। उसकी बात का यकीन ना करके नवाब साहब ने खुद पूरे बाग का मुआयना किया किन्तु उन्हें जलसे का कोई निशान नही मिला ऐसा लगता था कि जैसे महीनों से वहाँ किसी के पैर नही पड़े हैं। इस घटना के तीन-चार माह बाद एक रात बेगम साहिबा के नींद नही आ रही थी अचानक उनके कानों में किसी औरत के रोने की हल्की-हल्की आवाज सुनायी दी आवाज इतनी धीमी थी कि उसकी दिशा का अदांजा लगाना मुशकिल था उन्होंने अपनी कनीजों को तलब कर आवाज का पता लगाने को कहा पर कुछ ना मिला अब बेगम साहब को अकेले में अजीबो-गरीब अहसास होने लगे कभी अकेले मे उन्हें बड़ी धबराहट होती कभी किसी के हंसने या फुसफुसाने या रोने की या किसी के लंबी-लंबी सांस लेने का अहसास होता था किन्तु कोई नजर नही आता था। एक बार बेगम साहिबा एक शादी मे शरीक होने दिलकुशा कोठी गई वापसी मे काफी रात हो गई वे अपने शाही काफिले के साथ पूरब के जंगल (वर्तमान हजरतगंज) के रास्ते वापस आ रही थीं। कि अचानक उनकी बग्घी का पहिया टूट गया बेगम सहिब बग्घी छोड़कर कुछ सिपाही व मशालची पालकी लेकर छतर मंजिल को चलीं कुछ दूर जाने पर बेगम साहिबा को दूर सड़क पर सफेद बेषकीमती कपडे पहने एक युवती नजर आई जिसके काले घने खुले बाल कमर तक लहरा रहे थे बेगम साहिबा को उसकी केवल पीठ ही दिख रही थी ऐसा लग रहा था कि जैसे वह चल नही रही थी बल्कि हवा मे उड़ रही थी। फिजा में गुलाब की खुशबू फैल गई बेगम साहिबा चीख पड़ी वही है, देखो वही है, सबने देखा किन्तु कनीजों व कहारों को कुछ नही दिखा, अचानक वह गायब हो गई बेगम साहिबा चीख की बेहोश हो गयीं। आनन-फानन मे उन्हें महल पहुंचाया गया जहाँ उन्हें होश तो आ गया किन्तु दिल से डर नही गया। हकीम साहब ने फरमाया कि हूजूर मुझे तो यह कोई उपरी चक्कर लगता है। बेगम साहिबा पर जरूर किसी प्रेतनी का साया है। तुरन्त पुरानी मस्जिद के मौलाना को खबर दी गई उन्होंने पानी दम भर कर बेगम साहिबा के पिलाया और बांधने को तावीज दी उनकी दुआयें रंग लाई दो दिन मे बेगम साहिबा बिलकुल ठीक हो गयीं। इसके कुछ माह बाद एक पूनम की रात बेगम साहिबा छत पर खाना खाकर अकेली टहल रही थीं। चारों ओर खिली चांदनी फैली हुयी थी नजारा बेहद दिलकश था। पूरब मे मोती महल चाँदनी रात मे मोती की तरह चमक रहा था पीछे खूबसूरत रेजीडेंसी खमोशी से खड़ी थी चांदनी रात मे गोमती नदी का पानी चांदी की तरह चमक रहा था। मंद-मंद ठंडी हवा के झोंके तन-मन को सूकून और ताजगी प्रदान कर रहे थे। वे इन नजारों मे खोई हुयी थीं कि तभी उन्हें किसी के रोने की आवाज सुनाई दी। कोई औरत बेहद दर्द भरी आवाज मे रो रही थी। अचानक उन्हें नदी वाले बुर्ज पर बैठी एक औरत दिखाई दी जिसने बेशकीमती सफेद रंग के कपड़े पहने थे। उसके घने काले खुले बाल कमर तक लहरा रहे थे। वह छतरी पर घुटनो मे सिर छुपाये रो रही थी। बेगम ने पास जाकर बड़ी हिम्मत जुटाकर पूछा कौन हो तुम यहां कैसे आई क्या गम है, तुम्हे उस औरत ने सिर घुमा कर बेगम साहिबा की ओर देखा वह 20-22 साल की बेहद खूबसूरत युवती थी निसके गाल और ठुड्डी पर तिल थे। उसके गले पर एक ताजा घाव था जिससे खून बह रहा था। तभी वह औरत खिलखिला कर बेहद डरावनीं ढंग से हंसी और मुड़कर बुर्ज से गोमती नदी मे कूद गई बचाओ-बचाओं कोई उस औरत को बचाओ बेगम की आवाज सुनकर सब छत पर पहुंचे तो बेगम बेहोश पड़ी थी उन्हें होश मे लाया गया वह थरथर कांपते हुये बड़बड़ा रही थीं। औरत कूद गई उसे बचाओ उनके हुक्म से रात मे ही नदी मे तैराको, मल्लाहों ने खूब तलाश किया किन्तु ना कोई लाश मिली ना किसी के कूदने के निशान उसी बुर्ज के नीचे इलाहीबख्ष नाम के एक पहरेदार कोठरी थी जो अपनी डियूटी से लौट कर सोने की तैयारी की रहा था उसने भी ना किसी को गिरते देखा ना किसी कि गिरने की आवाज सुनी थी। अगले दिन दरबार मे किसी ने राय दी कि चैक के बड़ी काली जी के मंदिर के पुजारी बड़े पहुंचे हुये तांत्रिक हैं, उनसे ही बेगम साहिबा का इलाज करवाना मुनासिब होगा। नवाब साहब का बुलावा पाकर वे महल मे आये और जनानी डयोढी मे जमीन गोबर से षुद्ध करके उस पर गाय के घी का आटे का दिया जलाकर किसी मंत्र का जाप करने लगे कुछ देर बाद जाप खतम करके उन्होंने बताया कि बेगम साहिबा पर महल की एक 20 साल पुरानी प्रेतनी का साया है। करीब 20-25 साल पहले पुराने नवाब साहब ने अंगूरी नाम की बेहद खूबसूरत तवायफ निकाह करके उसे बेगम नरगिस महल का खिताब दिया था उस तवायफ के रज्जाक नामक एक मुलाजिम से अवैध संबध हो गये थे जब नवाब साहब को इसका पता चला तो वे आगबबूला हो गये नवाब साहब ने रज्जाक का सर कलम करवा दिया और अंगूरी को इसी महल मे कहीं जिदा दीवार मे चुनवा दिया उसी की भटकती रूह बेगम साहिबा को तंग कर रही है। उन्होंने बेगम साहिबा से शाही बगीचे से कुछ गुलाब के फूल बिना गिने लाने को कहा पंडित जी ने उन फूलों को सवा सेर काले तिल की ढेरी पर रखा और फिर उन्होंने किसी मंत्र का जाप करके फूलों पर तीन फूंके मारी तभी एक करिश्मा हुआ जिसे देखकर सभी दंग रह गये। फूल फर्श से एक बालिश उपर हवा मे उड़ने लगे और ड्योढी, बरामदा, गलियारा, बगीचा पार करके महल के पीछे बनी एक दीवार पर जाकर जमीन पर गिर गये फिर पंडित जी की निगरानी पर वह दीवार तोड़ी गई। तो उसमे से बेशकीमती सफेद पोशाक और जेवर पहने एक औरत का कंकाल निकला पंडित जी की सलाह पर उसे पूरे इस्लामी तरीके से उसे दफनाया गया चालीसवां और कुरानखानी हुयी तब से छतर मंजिल में फिर कोई रूह नही दिखाई दी बेगम साहिबा कुछ दिनों बिलकुल सामान्य हो गयी और अगले साल उन्होंने एक बेटे को जन्म दिया दिया।
यह रहस्य-रोमांच कहानी पूर्णतः काल्पनिक है!


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति