सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हाॅरर किंग रामसे ब्रदर्स

हिन्दी थ्रिलर और हाॅरर फिल्मों का इतिहास रामसे की फिल्मों के बगैर लिखना संभव नही है। रामसे वास्तव मे रामसिंघानी है। जो विभाजन के पूर्व कराची और लाहौर मे इलेक्ट्राॅनिक्स की दुकान चलाते थे, विभाजन के बाद फतेहचन्द्र यू रामसे अपने बेटों के साथ बम्बई चले आये और बम्बई की लैमिंगटन रोड पर उन्होने इलेक्ट्राॅनिक्स की दुकान खोली फिल्मी दुनिया की चकाचैंध से प्रभावित होकर उन्होने शो बिजनेस मे कदम रखा और उन्हांेने 1954 मे शहीदे आजम भगत सिंह, 1963 मे रूस्तम सोहराब और 1970 मे एक नन्ही मुन्नी लड़की थी बनाई। बदकिस्मती से सभी फिल्में पिट गयीं और रामसे भारी कर्ज मे आ गये तभी उन्हें एक नया विचार आया एक नन्ही मुन्नी लड़की थी में एक सीन था जिसमे पृथ्वीराज कपूर अपने चेहरे पर एक डरावना चेहरा लगा कर चोरी करते है फिल्म पिटने के बावजूद भी वह दृश्य काफी चर्चित हुआ जिससे उत्साहित होकर उन्होने आधे घंटे मे ही रेडियो के देर रात प्रोग्राम मे आगामी फिल्म दो गज जमीन के नीचे बनाने की घोषणा की। 1975 में आई मात्र 15 कलाकारों वाली व एक महीने मे बनी कम बजट की यह फिल्म हिट हो गई उसके साथ ही रामसे इन्डस्ट्री मे पूरी तरह स्थापित हो गये, आगे चलकर इन्होंने पैंतालिस सालों मे 32 से अधिक हाॅरर फिल्में बनाई उनकी पहली फिल्म दो गज जमीन के नीचे उनके लिये व हिन्दी भुतहा फिल्म उद्योग के लिये मील का पत्थर साबित हुयी उन दिनांे जब एक औसत हिन्दी फिल्म एक साल मे करीब 50 लाख की लागत से बनती थी गज जमीन के नीचे मात्र साढे तीन लाख की लागत से 40 दिन में शूट हो गई रामसे अपनी पत्नी सातों बेटों, बहुओं व बेरोजगार कलाकारों की छोटी सी टीम के साथ किराये की बस से महाबलीपुरम के सरकारी गेस्ट हाउस पहुँचे और 12 रूपये रोज के हिसाब से आठ कमरे किराये पर लिये फिल्मों के विभिन्न विभाग उनके बेटों ने संभाले। लोकेशन पर शूटिंग होने के कारण उन्होंने सेट पर कोई पैसा नही खर्च किया कलाकारों के कपड़े भी कलाकारों के लाये अपने ही थे कैमरे किराये पर लिये फिल्म पहले सप्ताह हाउसफुल गई जिससे रामसे को 45 लाख रूपये की आय हुयी 1975 में आई उनकी अगली फिल्म अंधेरा भी हिट रही 1978 में अनिल धवन, इम्तियाज खान, शक्ति कपूर को लेकर दरवाजा बनाई जो सिल्वर जुबली हिट हुयी उन्होने 1979 में सचिन, ओमशिवपुरी पद्य़मिनी कपिला को लेकर और कौन बनाई उसी वर्ष उनकी फिल्म हवेली आई 1980 में उन्होने प्रेमकिशन, प्रेमनाथ और देवकुमार को लेकर गेस्ट हाउस बनाई जिसमें कटे हुये खूनी पंजा के सीन बेहद हिट रहा 1980 में ही उनकी नवीन निश्चल, विद्या सिंहा, काजल किरन व विनोद मेहरा प्रेम चोपड़ा, ओम शिवपुरी, जैसे सितारों से सजी फिल्म सबूत आई 1981 में उनकी चार फिल्में सन्नाटा, दहशत, घुंघरू की आवाज, और होटल आई सन्नाटा में दीपक पाराशर, सारिका, भरत कपूर, महमूद, विनोद मेहरा और होटल में प्रेमकिशन नवीन निश्चल, राकेश रोशन बिंदिया गोस्वामी, रंजीत जैसे मँझे कलाकार थे। दहशत में नवीन निश्चल, सारिका, ओमशिवपुरी थे 1984 में रामसे की सबसे बड़ी हिट और सर्वाधिक डरावनी फिल्म पुराना मंदिर आई जिसने हाॅरर फिल्मों में नया इतिहास रच दिया जो आज भी उतनी ही हिट है। प्रदीप कुमार, मोहनीश बहल, आरती अग्रवाल, पुनीत इस्सर, सदाशिव अमरापुर से सजी इस फिल्म ने देश के कई शहरों में सिल्वर जुबली बनाई सामरी के रूप में अजय ने बेमिसाल अभिनय किया 1985 में उनकी थ्री डी टेकनिक से सजी सामरी आई, 1985 मंें उन्होने शत्रुहन सिंहा, परवीन बाॅबी, दीप्ति नवल, प्रेम चोपड़ा,को लेकर टेलीफोन बनाई रामसे ने 1986 में तहखाना, डाकबंगला 1987 में डाकबंगला, 1988 में उनकी एक और डरावनी फिल्म वीराना आई जो बेहद हिट रही 1989 में आई पुरानी हवेली और शैतानी ईलाका पिट गयीं लेकिन 1990 में उनकी फिल्म बंद दरवाजा ने पुनः उनकी पुरानी सफलता को दोहराया राम गोपाल वर्मा की रात मे नये तरीके के हाॅरर से प्रभावित होकर उन्होंने ए नाइटमेयर आॅन एलम स्ट्रीट की तर्ज पर महाकाल बनाई जो बुरी तरह पिट गई उनकी अगली फिल्म आखिरी चीख भी पिट गई। तब रामसे ब्रदर्स जी हाॅरर शो बनाने लगे जिसमें वे बेहद कामयाब रहे 1999 में उनकी फिल्म खोज आई डैनी, किमी काटकर, ऋषि कपूर, नसीरूददीन अभिनीत यह फिल्म हिट रही सन 2000 के बाद रामसे की दो भुतहा फिल्में आत्मा और घुटन आई दोनो ही औसत रही 2014 में रामसे फिर एक भयानक फिल्म नेबर्स लेकर आये वैम्पायर पर बनी यह बेहद डरावनी फिल्म मार्केटिंग के अभाव में गुमनामी में खो गई लेकिन रामसे आज भी उसी शानो शौकत और बुलंदी के साथ खड़े हैं। किसी भी निर्माता निर्देशक की सभी फिल्में हिट नही होती सफलता असफलता का चक्र चलता ही रहता है। लेकिन उनके पिछले 45 सालों में 32 हाॅरर फिल्मों के योगदान को भुलाया नही जा सकता।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति