सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मानव जीवन में भारतीय संगीत का महत्व

भारतीय संगीत हमारी धरोहर है। संगीत का अर्थ केवल शास्त्रीय संगीत नही है। सुगम संगीत, लोक संगीत का भी बहुत बड़ा महत्व है। शास्त्रीय संगीत में समयानुसार ऋतुओं के अनुसार तथा आजकल विद्वानों ने अनेक रागों की उत्पत्ति की है।
सुगम संगीतः- जिसका अर्थ है सरल संगीत सुगम संगीत। आदि-काल से बडे़ बडे़ संत भक्ति संगीत के रूप में भजन के पद गाकर ईश्वर के दर्शन किये है गुणीजन कहते है कि ईश्वर प्राप्ति का एक मात्र साधन भक्ति संगीत है। 'सूर-सागर' के रचयिता एवं गीत - काव्य के प्रकांड विद्वान महात्मा सूरदास, 'रामचरितमानस' के यशस्वी लेखक गोस्वामी तुलसीदास, हिन्दू मुस्लिम एकता के प्रतीक संत कबीरदास तथा सुप्रसिद्ध कवियित्री भजन गायिका मीराबाई द्वारा भक्तिपूर्ण काव्य के प्रचार से संगीत भगवत् प्राप्ति का साधन बनकर उच्चतम शिखर पर पहुचीं।
लोक संगीतः- लोक संगीत हमारे भारतीय संस्कार से जुड़ा हुआ संगीत है। मनुष्य के जन्म से लेकर मृत्यु तक के गीत गाये जाते है। हमारी भारतीय संस्कृति में 16 संस्कार माने जाते है: -
(1) गर्भाधान
(2) पुंसवन
(3) सीमान्तोनयन
(4) जातकर्म
(5) नामकरण
(6) निष्क्रमण
(7) अन्नप्राशन
(8) चूड़ाकरण
(9) कर्णछेदन
(10) विद्यारम्भ
(11) उपनयन
(12) वेदारम्भ
(13) केशान्त
(14) समावर्तन
(15) विवाह
(16) अंत्येष्टि संस्कार गीत के अलावा हमारे घर के लिए तथा खेती के लिए श्रम गीत बनाये गये है। जैसे कि पहले के समय में हर घर में प्रतिदिन जितनी मात्रा में रोटी के लिए आटे की जरूरत पड़ती है। प्रातः काल भोर मे घर की महिलायें जाता पर उतनी ही मात्रा का गेंहू लेकर पिसाई करती है जिसमें 'जतसार' गीत पाये जाते है। खेतों में कटाई के लिए, बुवाई के लिए, निराई के लिए, रोपनी के लिए, विभिन्न प्रकार के गीत गाये जाते है। पहले के समय में जाति गीत भी गाये जाते थे जैसे कि - 'धोबिया गीत,' 'कहारो का गीत,' 'कोरियों का गीत,' 'मछुवारों का गीत आदि।' परन्तु अब ऐसे गीत नही गाये जाते।
राग और ऋतुओं का सम्बन्ध प्राचीन संगीत में मिलता है भारत के सभी प्रदेषों में ऋतुओं के अनुसार लोकमय गीतो का प्रचलन रहा है अनेक लोकगीत और लोक धुनें शास्त्रीय संगीत में ग्रहण की गयी है। शौपेन हाॅवर का कहना है- 'केवल संगीत ही ऐसी कला है जो श्रोताओं से सीधा सम्बन्ध रखती है। इसे किसी माध्यम की आवश्यकता नही होती है। संगीत और जीवन में लय बहुत ही महत्वपूर्ण है जब तक संगीत में लय बरकरार रहती है संगीत बहुत आनन्दमय लगता है। लय बिगड़ने पर वह अच्छी नही लगती। उसी तरह जीवन भी जब तक एक लय में चलता है वह बहुत ही आनन्ददायक लगता है। संगीत कला में एक विषेश गुण और भी है कि वह मनुष्य के अतिरिक्त पशु-पक्षी को भी आकर्षित करती है। अन्य कला में यह सामथ्र्य नही है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति