सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मैं वापस आऊंगी

लंबी, छरहरी, गोरी चिट्टी रामी चाची जैसे ग्राम टनकपुर की शान हैं। वे बाल विधवा है, पति का सुख उनके भाग्य में सिर्फ थोड़े ही समय के लिए लिखा था। ससुर उनकी शादी से पहले ही  परलोक सिधार चुके थे। उनके पति मां-बाप की बारहवीं संतान थे। एक तो बुढ़ापे की संतान फिर एक-एक कर आठ बच्चे मौत की गोद में समा चुके थे, तीन लड़कियाँ और रामू केवल चार संतान ही बची थी, रामू की माँ के पास पैसे का अभाव न था। कई बीघा खेत खलिहान ढेर से जानवर, गायें, भैंसें, बकरियाँ, सभी कुछ था। रामू को उन्होंने बड़े लाड़-प्यार से पाला। सोलह सत्रह-बरस का होते-होते उसके लिए बारह तेरह बरस की किशोरी सुंदर सलोनी सी बहू ले आई। बहू का नेहर का नाम रूपकंवर था। उनके अति सुंदर रूप के कारण ही शायद माँ बाप ने उसका यह नाम रखा थ। मगर उसके आते ही सासू ने रामू की जोड़ीदार रामी कहते हुए लाड़ से उन्हें रामी पुकारना शुरू कर दिया। रामी की दुबली पतली काया देख सास ने उसे मुटाने का जिम्मा उठा लिया। देखते ही देखते कुछ महीनों में दुधिया रंग पे जो गुलाबी रंगत उतर आई और बदन से कैलेंडर में छपी सीता मैय्या की सूरत सी लुनाई गमकने लगी सास उसकी नून मिर्च से नजर उतारने लगी। गाँव की मिलने-जुलने वाली औरतें आती तो रानी का रूप देख ठगी रह जाती है। सास जब तक जीवित रही बहु को हथेली पर फूल सा रखा। रामू अत्यंत लजीला किशोर था। दिन में वह माँ के सामने रामी से बात करने में भी शरमाता। हाँ रात को दिए की झपझपाती लौ में एकटक उसके रूप का रसपान एक मतवाले भवर की तरह करता। रानी उन नजरों की ताप न सह पाती। शरमाकर वह अपने बड़े-बड़े रसीले नयन रेशमी घनेरी पलकों के परदे में छुपा लेती। किशोर प्यार में एक अनूठा रंग होता है कुछ बचपना कुछ जवानी का मिला-जुला आलम, दोनों के लिए दिन पहाड़  सा बीतता अैर रात पलक झपकते बीत जाती। सास जब कभी बाजार हाट मिलने-जुलने बाहर जाती तो रामू सब काम धाम छोड़कर घर पर ही बना रहता। मगर ऐसे दिन कभी-कभार ही उन्हे नसीब होते।
 एक साल गाँव में हैजे का प्रकोप फैला। परिवार के परिवार उसकी चपेट में आकर उजड़ गये। इसी में रामू भी चल बसा। बेटे की मौत का सदमा बूढी माँ बर्दाश्त न कर सकी, उसने बिस्तर पकड़ लिया, साल बीतते-बीते रामी का संसार में अकेला रोता-कलपता छोड़ वह भी चल बसी। रामी ने सास की जैसी सेवा की उससे वह गाँव में एक आदर्श बहू की तरह स्थापित हो गयी। सास के रहते वह सुरक्षित थी, लेकिन उसके मरते ही गाँव के जवान-अधेड़ यहाँ तक कि कई खुर्राट बुड्ढ़े मर्द भी उन्हें असहाय हालत में देखकर लार टपकाने लगे। कभी उनके रूप जवानी पर कभी उनकी धन-जायदाद पर लोगों की नीयत बिगड़ने लगी। वक्त पड़ने पर एक अबला किस तरह सबला बनकर दिखा सकी है, रामी ने यह कर दिखाया। उसके तीनों नन्दोइयों ने बारी-बारी से उस पर डोरे डालने चाहे, बहला-फुसला कर काबू में करना चाहा, लेकिन रामी ने बेखौफ होकर खुलकर उन्हें जो गालियाँ दी और घर के बाहर का रास्ता दिखलाया उन्होंने फिर पलट कर आने की हिम्मत न की। उसका चंडी रूप देखकर फिर गाँव में किसी को उन्हें छेड़ने की हिम्मत नहीं हुई। जिम्मेदारियों का बोझ उठाते और जिन्दगी की लड़ाई अकेले लड़ते-लड़ते यह एक अत्यंत जुझारू कर्मठ महिला बन गयी। शक्ल देखकर यह अच्छे बुरे आदमी को पहचान लेती। ज्यादा बोलने की उन्हें आदत न थी, किसी तरह की गुस्ताखी या अभद्रता करने की किसी की हिम्मत न होती। लोग उन्हें पीठ पीछे घमंडी, बदमिजाज, अकड़ू और न जाने क्या-क्या कहते लेकिन सामने किसी की मजाल न थी जो उनसे कोई कुछ भी कह सकता। एक अकेली स्त्री के लिए जीना कितना कठिन है, यह वही जान सकती हैं। अकेलेपन की हर पल कचोटती अनुभव जीवन कैसा नीरज, उजाड़ और बदरंग बना देती है। आदमी न जीता है न मरता। सुख-दुख से परे भूत की अंधेरी सुरंग में भटकते हुए उन्हें लगता जैसे वह खुद भूत बनकर रह गयी हो। किसके लिए जियें, क्यों कर जियें, कभी-कभी कोठरी की। दीवारों पे सर पटकती मूक क्रन्दन करती वह मन ही मन पुकार उठती 'हे ईश्वर यह किन पापों की सजा तू मुझे दे रहा है, इसके साथ, अम्मा के साथ मुझे भी क्यों न बुला लिया?' अन्त की पीड़ा ने उन्हें कुछ और कठोर बना दिया थ। ईश्वर के अन्याय का बदला यह दुनिया वालों से लेना चाहती थी कुछ लोग के बरतव से उन्हें समाज के प्रति कड़वाहट से भर दिया। नारी सुलभ, लज्जा, सहृयता, ममता, करूणा जैसी भावनायें पति और सास की चिता में ही जैसे भस्म हो गयी थी। जिसके शरीर के पोर-पोर में कांटों की चुभन हो उसके मुंह से फूल झरें भी तो कैसे। रामी चाची का जो सबसे बड़ा गुण थ, यह था उनका खुले हाथ का होना। 
 यही कारण था कि लोग उनकी कड़ुवाहट को भी झेल जाते। किसी की लड़की की शादी हो या किसी की स्कूल की फीस जमा न हो पा रही हो, किसी का गरीबी के कारण  इलाज न हो पा रहा हो या किसी के यहाँ कंगाली के कारण फाकाकशी हो रही हो रामी चाची स्वयं भगवान का अवतार बन तुरंत बगैर मांगे सबकी मदद करने पहुंच जाती। चिकनी चुपड़ी बातें करने उनको बिल्कुल नहीं आती थी। उनके द्वारा दी गयी मदद को लोग काम निकालते ही बहुत जल्दी बिसरा देते। वाहवाही लूटने वालों मंे अक्सर ये लोग होते, जो वास्तव में करते कुछ नहीं, लेकिन बातों के द्वारा ही अपना सिक्का जमाना खूब जानते हैं।
 रामी चाची से जलने वालों की भी कमी न थी, ये लोग घात लगाये रहते कि कब ऐसी बात उनके खिलाफ हाथ लगे, जिससे ये उन्हें बदनाम कर सकें। कुछ मर्द जो उनके रूप यौवन पर लट्टू थे और जिन्हें ये चारा न डालती उससे तरह-तरह से लालच देते कोई कहता अरी रामी क्यों आपकी कंचन सी काया पर जुल्म कर रही हो, ये मुई तबाह होने के लिये नहीं कोई दूसरो कहता, भई, हमसे तेरा विधवा का वेश नहीं देखा जाता, हमारी बन के देख। राज करेग। मेवा मिठाई खायेगी। रेशम ओर जेवरी के ढेर लगा देंगे तेरे लिए।
 बड़ा दिल फेंक है रे तू। क्या समझता है तू मुझे। मैं ऐसी वैसी नहीं, जा के अपनी माँ बहनों को पहना रेशम जेवर। मेवा मिठाई उन्हें ही खिला, मेरा मालिक मेरे पहनने वाला बहुत छोड़ गया है। यह ही-ही करता अपनी झेंप मिटाने को कह उठता मैं तो यूँ ही ठिठोली कर रह था, भौजी, मगर रामी चाची मरद जात की ठिठोली और बुरी नियत को खूब पहचानने लगी थी। बारिश का दिन था। उनकी छत जगह-जगह से टपक रही थी। पूरे घर में सीलन और ठंडक हो रही थी। वह नीचे जो भी बर्तन रखती जरा देर में भर जाता। जैसे ही वह कटोरा बाहर उलीचने गयी कि बनवारी पटेल ने उन्हें पकड़ लिया। तू मरे हुए की याद में कब तक अपने को सुखाती रहेगी, अरे अपने वेद शास्त्रों में भी तो एक स्त्री के कई-कई पति होने की बात है। अरी इसमें अधरम कैसा, जो तू हमेशा धर्म की बात करती है। आज तो मैं तेरे मुंह से हाँ सुने बगैर टलने वाला नहीं। बनवारी मैं तेरे हाथ जोड़ती हूँ, अपने मरे पति का वास्ता देती हूँ, मुझ पर दया कर और यहाँ से चला जा, तेरा कुछ नहीं बिगड़ेगा, किसी ने तुझे इस वक्त मेरे घर देख लिया तो मैं मुंह दिखाने के काबिल नहीं रहूंगी। वो तो और भी अच्छा है भौजी ये सुंदर चेहरा औरों को दिखाने की जरूरत ही क्या है। ऐसा कहकर वह पशु उन्हें भीतर कोठरी में धकेलने लगा। उन्होंने उसकी कलाई पर भरपूर दांत गड़ा दिये। वह जैसे तैसे ही हाय-हाय करता हाथ पकड़कर नीचे बैठा उन्होंने लपककर पास रखी कुल्हाड़ी उठा ली। उसमें साक्षात् चंडी समा गयी। दांत पीसते हुए बोली मेरे नजदीक अकर तो देख, कुल्हाड़ी से पेट न फाड़ दिया तो अपने बाप की बेटी नहीं।
 डर के मारे बनवारी की आंखें विस्फरित हो गयी। तेजधार, वाली कुल्हाड़ी रामी दोनों हाथ से सिर के ऊपर उठाए वार को तत्पर थी। बनवारी ने चुपचाप चले जाने में ही कुशलता समझी। रामी चाची ने उस पर थूकते हुए कुल्हाड़ी एक तरफ कोने में रख दरवाजे का कुंडा लगा दिया। मगर नींद उनसे कोसों दूर थी कि वह इस तरह भला इन भूखे भेड़ियों से अपने को कब तक और कैसे बचा पायेगी। दूसरे, दिन बनवारी सारे गाँव में कहता फिर रहा था कि रामी एक बदचलन औरत है, उसे गाँव से निकाल देना चाहिए। कल उसने खुद अपनी आंखों से उसके घर से एक मरद को निकलते हुए देखा रामी चाची गाँव से चली जाएंगी तो उनकी मदद कौन करेगा। जहाँ अपना स्वार्थ आगे आ रहा था, यहाँ गाँव वाले चुप थे लेकिन इतनी हिम्मत किसी में न थी कि सब जानते बूझते भी बनवारी के खिलाफ बोलते। रामी चाची ने सब सुना और उनका मन के प्रति घृणा से भर गया वही पागल थी। जो अपनी बिसात से बढ़कर उन लोगों की मदद को आधी रात को दौड़ी जाती थी। दलितों की बस्ती में कौन सा ऐसा घर था जो उनके एहसान तले न दबा था। रामी चाची ने यह गाँव छोड़ने का फैसला कर लिया गाँव वालों के बहुत रोकने पर भी वह रूकी नहीं। जाते-जाते बस इतना कह गयी मैं वापस आऊंगी, जल्दी ही आऊंगी... कुछ ही महीनों बाद जब वे गहनों से लदी भारी-भरकम साड़ी पहने गाड़ी से उतरी तो सारे गाँव में खलबली मच गयी। बूढ़े, बच्चे, जवान सभी अपना-अपना काम छोड़कर उन्हें देखने के लिए उमड़ पड़े थे। उनकी थोड़ी सी जमीन पर और छुट्ट-पुटट सामान जो भी उनके पास था, उन्होंने जरूरत मंदों में बांट दिया। गाँव के इज्जतदार कहे जाने वाले सब लम्पट बदमाशों के कलेजे पर सांप लोटता छोड़कर गाड़ी की धूल उड़ाती वह अपने बूढ़े जमींदार पति के साथ चली गयी। फिर कभी उस नरक में लौट कर न आने का संकल्प लिये।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति