सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है अदरक का पानी

अदरक सेहत के लिए एक लाभकारी बहुत है, अदरक में एंटी-इंफ्लेमेट्री, एंटी-बैक्टीरियल आदि गुण होते हैं इसलिए सूजन को कम करने और सर्दी-जुकाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए अदरक का पानी पीना फायदेमंद होता है। अदरक को अन्य रुप में सेवन नहीं कर पाते हैं तो सुबह-सुबह खाली पेट अदरक का पानी पी सकते हैं जिससे आप पूरा दिन ऊर्जा से भरपूर रहते हैं। आइए जानते हैं कि अदरक का पानी सेहत के लिए कैसे लाभकारी होता है।
पाचन के लिए उपयोगी:- अदरक को रातभर पानी में डालकर रखें और सुबह उस पानी को पी लेने से पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है और जी मिचलाने और अपच की समस्या नहीं होती है। इसके अलावा आपको मॉर्निंग सिकनेस की समस्या भी नहीं होती है।
वजन कम करता है:- अदरक का पानी वजन कम करने के लिए भी लाभकारी होता है। अदरक का पानी ब्लड शुगर को नियंत्रित रखता है जिससे डायबिटीज की बीमारी नहीं होती है साथ ही इसे पीने से भूख कम लगती है जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है।
बालों और त्वचा के लिए लाभकारी:- अदरक के पानी में पर्याप्त मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं इसलिए इसका सेवन करने से शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन ए और सी मिलता है जो कि बालों और त्वचा को खूबसूरत बनाने के लिए लाभकारी होते हैं। 
मसल्स को अराम मिलता है:- बहुत से लोगों को वर्कआउट करने के बाद मसल्स में बहुत दर्द होता है। अदरक का पानी पीने से मसल्स को आराम मिलता है और मसल्स का दर्द कम होता है।
मधुमेह को कंट्रोल करता है:- अदरक का पानी डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके नियमित सेवन से रीर का ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल होता है। इतना ही नहीं इससे आम लोगों में डायबिटीज होने का खतरा भी कम होता है।
दर्द से राहत:- अदरक का पानी नियमित रुप से पीने से ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है और मसल्स में होने वाले दर्द से राहत मिलती है। साथ ही सिर दर्द में भी ये बहुत फायदेमंद होता है।
कैंसर से रक्षा:- अदरक में कैंसर से लड़ने वाले तत्व पाए जाते हैं। इसका पानी फेफड़ें, प्रोस्टेट, ओवेरियन, कोलोन, ब्रेस्ट, स्किन और पेन्क्रिएटिक कैंसर से रक्षा करता है।
रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है:- अदरक का पानी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। हर रोज इसे पीने से सर्दी-खांसी और वायरल इंफेक्शन जैसी बीमारियों के खतरे कम हो जाता है। इसके अलावा यह कफ की समस्या को भी दूर करता है।
महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द में भी लाभकारी:- अदरक डिसमोनोरिया के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। डिसमोनोरिया मासिक धर्म के दौरान होने वाला दर्द है। अदरक में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं इसके अलावा अदरक को प्राकृतिक दर्दनाशक के रूप में भी जाना जाता है। इसलिए अदरक के पानी का उपयोग मासिक धर्म के दर्द को कम करने के लिए किया जा सकता है।
कोलेस्ट्रॉल को कम करे:- अध्ययनों से पता चलता है कि अदरक के पानी का उपयोग कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है। आपके द्वारा उच्च कोलेस्ट्रॉल आहारों का उपभोग करने के बाद अदरक का पानी पीना फायदेमंद हो सकता है। उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने पर शरीर में कुल कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड्स और कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन को बढ़ाया जा सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार अदरक के पानी का उपभोग करने पर यह शरीर में उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। इस तरह से आप अपने शरीर और हृदय को स्वस्थ्य रखने के लिए अदरक के पानी का सेवन कर सकते हैं।
अदरक का पानी कैसे बनायें:- अदरक के पानी बनाना बहुत ही आसान है इसके लिए आपको अदरक और 3 कप पानी की आवाश्यकता होती है। आप किसी बर्तन में पानी को गर्म करें और उसमें अदरक के कुछ टुकड़ों को डालें। इस पानी को अच्छी तरह से पकने दें। जब पानी अच्छी तरह से पक जाए तो पानी को छान लें और इसमें नींबू के रस को निचोड़े। इस अदरक के पानी को अधिक प्रभावी बनाने के लिए आप इसमें 1 चम्मच शहद भी मिला सकते हैं। पूरे दिन ऊर्जा प्राप्त करने और विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक करने के लिए यह बहुत ही प्रभावी पेय माना जाता है। इस प्रकार अदरक का पानी पीना सेहत के लिए बेहद लाभकारी होता है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति