सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हमारा भाग्य पुराने कर्माें पर आधारित होते हैं

हमारा यह जन्म पृथ्वी लोक पर एक बहुत ही महत्वपूर्ण समय में हुआ है, जब ईश्वर स्वयं ही सारे हृदय में अवतरित होकर हनुमान जी के रूप में हम सबका कल्याण करने आ गये है। इसके लिये उन्होंने हमें अपने जीवन के उद्धार के लिए ''हनुमान उपाय'' वरदान के रूप में दिया है। इसी 'हनुमान उपाय' के अन्तर्गत उन्होंने हमें प्रसाद रूप में चींटी दाना डालने का एक बहुत ही सहज और सरल तरीका भी बताया है। चींटियों को दाना डालना हनुमान उपाय का अत्यन्त प्रभावशाली एवं महत्वपूर्ण अंग है। यह है तो एक सहज छोटी-सी प्रक्रिया परन्तु इससे होने वाला लाभ बड़ा ही अनमोल है। हनुमान जी ने साक्षात रूप में यह दिखाया है कि सारी सृष्टि के कल्याण की प्रार्थना करते हुये चींटियों को दाना डालने से बहुत ही पवित्र ईश्वरमयी तरंगें निकलती हैं। ये पवित्र एवं अलौकिक तरंगें बड़ी ही तीव्र गति से ब्राह्माण्ड में पहुँच जाती हैं। इन तरंगों में एक बहुत ही अद्भुत शक्ति होती है। जो हमारे पुराने पाप कर्माें के पहाड़ आसानी से और तीव्र गति से चूर-चूर कर देती है तथा नये कर्मों को बनने नहीं देती है। इस प्रक्रिया के महत्व को आप इस तरह से समझ सकते हैं कि हमारे जीवन में तीन प्रकार के कर्मों की धाराएँ निरन्तर बहती रहती हैं। हमारे अच्छे-बुरे कर्मों की तीन धाराओं के नाम हैं- संचित, प्रारब्ध और वर्तमान। संचित कर्मधारा पिछले सारे जन्मों के कर्मों का संग्रह है। जिन कर्माें का फल हम अपने इस वर्तमान जन्म में लेकर आये हैं वह है प्रारब्ध कर्मधारा! वर्तमान कर्मधारा वह है जो नये कर्म हम इस जीवन में कर रहे हैं! यह तीनों धाराएँ जीवन्त एवं अत्यन्त सक्रिय हैं तथा हमारे जीवन को हर क्षण प्रभावित करती रहती हैं। हमारा भाग्य भी पूरी तरह से निश्चित नहीं और न ही पत्थर पर खींची लकीर की तरह स्थायी एवं ठोस है। हमारा भाग्य तरल नदी की धारा की तरह है जो सदैव परिवर्तनशील है। हमारा भाग्य पुराने कर्माें पर आधारित होते हुए भी स्वछन्द और स्वतन्त्र है और बहती नदी की तरह हर पल नये रूप में ढलता हुआ सदैव नये-नये आयामों की तरह अग्रसर होता रहता है। इस बहाव पर हमारे तीनों प्रकार के कर्मों का एक विशेष प्रभाव पड़ता हैं।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति