सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जनमानस की दृष्टि मे शनि


शनि अति घीमी गति से चलने वाला ग्रह है, जो राशि चक्र को करीब 30 वर्ष और एक राशि को ढाई वर्ष या 30 माह मे तथा एक माह मे एक अंश चलता है। शनि जहाँ एक और दीर्घायु प्रदान करता है वही दुःख रोग व दुर्भाग्य देता है। शनि को पापी और क्रूर ग्रह कहा गया है, जो तामसिक और महान दुःखदायक ग्रह है। शनि जातक के अहंकार का विनाश करता है। विनम्र प्रकृति के लोंगों पर शनि का दुष्प्रभाव कम होता है। अंहकार विनाश का शनि जातक को गहन विचार करके समस्या के सही कारण को तलाश कर उसका समाधान कराता है। शनि आकृति मे खिड़की के समान, तीक्ष्ण, ठंडा, स्त्री, नपुंसक, मलेच्छ जाति, काला वर्ण, वायु तत्व, तमो गुणी, लंबाई मे छोटा, बूढा, झुर्रियों वाला, नसें देखने वाला, आलसी, तिरछी नजर, अधोदृष्टि वाला ग्रह है। इसमे गतिशीलता, स्थिरता दोनो गुण है। यह 36 व 47 वर्श की  अवस्था मे अपना विशेष फल देता है।
प्रभाव:-
संघर्ष का कारक होने के कारण शनि व्यक्ति को जीवन मे आने वाले कष्टों और संकटों से झूझने तथा जीवन की समस्याओं को हल करके जीवन मे उन्नति करने का अवसर देता है। शनि जिस भाव मे बैठता है। उस भाव की वृद्धि करके उस भाव के उत्तम फल देता है। परन्तु जिस जिस भाव पर उसकी पूर्ण दृष्टि पड़ती है। वहां के तत्वों का भारी विनाश, संकट तथा दुर्भाग्य, उस भाव की वस्तुओं से संबधित अनेक समस्याओं या उस भाव मे फलो को अति विलंब से या कभी-कभी पूर्णतः वंचित भी कर देता है। यह व्यक्ति को नीचे गिराता है। कुसंगति और अपमान देता है। कभी-कभी नशेड़ी बना कर जीवन बरबाद कर देता है। अत्यंत मंद गति के कारण जीवन में प्रगति रूक जाती है। यह व्यक्ति के जीवन मे घृणा, शत्रुता, ईष्र्या, निराशा, नीरसता के बीज बोता है। त्रिषड़ाय भावों मे (3, 6, 11 भाव मे) सदैव शुभफल प्रदान करता है। शनि का घुटनों, दांतों, स्नायुमंडल तथा अस्थियों पर गहरा असर पड़ता है। जिससे रोग होता है। शरीर कमजोर होता है। शनि प्रधान व्यक्ति उत्तम धर्मोदेशक, शिक्षक, भवन निर्माता, कृषि, मैकेनिक होते है।
शनि के द्वादश भाव फल:-
1. प्रथम भाव मे षनि कुरूप, क्रोधी कामुक, दरिद्री, रोगी, व्यभिचारी होता है। मकर तुला का लग्नस्थ शनि धनी बनाता है। अंत मे गंभीर बनाता है।
2. द्वितीय भाव का षनि दंत रोगी, मुख रोगी, आलसी, धनहीन व द्ररिद्री बनाता है। सम्मान की हानि करता है। यदि कुंभ या तुला का हो तो लाभदायक होता है।
3. तृतीय भाव मे शनि भाई बहनों के लिये हानिकारक होता है। किन्तु जातक को बुद्धिमान, विद्वान, भाग्यवान, दानी नेता व शत्रुहंता बनाता है। 
4. चतुर्थस्थ भाव का शनि जातक को बलहीन, अपमानित और अशिक्षित बनाता है। व्यक्ति को व्यर्थ भगाता है। माता, भूमि, भवन से दूर करता हैा माता की मृत्यु भी हो सकती है।
5. पंचम भाव का शनि जातक को बुद्धिहीन, क्रूर, सेक्सी, बनाता है। शारीरिक व मानसिक रूप से निर्बल बनाता है। टेकनिकल शिक्षा देता है। और वैवाहिक जीवन मे अलगाव देता है।
6. छठे भाव का शनि चरित्रवान धनवान, सुखी, प्रतिष्ठित, षत्रु विनाशक, परन्तु रोगी बनाता है।
7. 7 वें भाव का शनि व्यक्ति को क्रूर, कपटी, दुर्जन, विलासी, आलसी, कामुक बनाता है। वैवाहिक जीवन नष्ट करता है।
8. 8 वें भाव का शनि मोटापा, दीर्घकालीन रोग, दमा, टी. बी., मधुमेह, खांसी देता है। जातक डरपोक, झूठा, धोखेबाज होता है। 
9. नवम भाव का शनि दुबला-पतला वात रोगी, आलसी, निर्धन डरपोक, मातृहीन बनाता है। आलसी, निर्धन डरपोक, मातृहीन बनाता है। जातक तंत्र-मंत्र के चक्क्र तक रहता है। और च्यर्थ इधर-उधर घूमता है।
10. दशम भाव का शनि भाग्यषाली, धनवान, उच्च अधिकारी, यशस्वी, प्रतिष्ठा देता है। मठाधीश या सन्यासी बनाता है।
11. एकादष भाव का शनि दीर्घायु परिश्रमी, पुत्रवान, विद्वान, धनवान व सुखी बनाता है। किन्तु अषिक्षित तथा वाहनहीन करता है।
12. द्वादष भाव का शनि दुःखी आलसी अपव्ययी, नशेड़ी व रोगी करता है। बचत नष्ट हो जाती है। मामा को कष्ट मिलता है। बुढापे मे भारी कष्ट मिलते है।
द्वादष भावस्थ शनि के फल:-
1. मेष का शनि नीच का होता है। दुःखी आलसी अपव्ययी, नशेड़ी व रोगी बनाता है। दुराचारी, जिद्दी, झगड़ालु, मक्कार तथा जातक तंत्र मंत्र के चक्कर तक रहता है। व्यवसाय मे घाटा व भारी उतार चढाव होता है।
2. वृष का शनि धनी, कभी कभी निर्धन, दुःखी, एकाकी जीवन जीने वाला, भोगी विलासी, सौन्दर्य पूर्ण वस्तुओं को कारोबार करने वाला होता है।
3. मिथुन का शनि व्यापार या शिक्षा से आय पाने वाला, मानसिक रूप से चिड़चिड़ा और चिंतित होता है। असंतोष व दुर्भाग्य से पीड़ित रहता है। मेहनत का फल नही मिलता है।
4. कर्क का शनि कामचोर, आलसी, कंजूस माता के सुख से विहीन करता है। जलनखोर तथा आवास परिवर्तन कराता है। यात्रा वाले जाॅब करता है।
5. सिंह मे शनि राजा से लाभ, कार्यदक्ष, चतुर, लेखक, टीचर व धनवान बनाता है। अनेक समस्यायें साथ रहती है। विदेशो मे यश मिलता है।
6. कन्या का शनि व्यापार या शिक्षा से आय पाने वाला, मानसिक रूप से चिड़चिड़ा और चिंतित होता है। परोपकारी, लेखक, आलोचक व धनवान बनाता है। कंजूस निर्धन, दुःखी, एकाकी जीवन जीने वाला, बनाता है।
7. तुला का शनि उच्च को होता है। जो उच्च स्तर का जाॅब देता है। लोकप्रिय, यशस्वी बनाता है। उन्नति करवाता है। सम्मानित लोंगों से सम्पर्क करवाता है।
8. वृश्चिक का शनि मशीनों व औषधि से आय देने वाला, लोभी क्रूर व दृढप्रतिज्ञ होता है।
9. धनु का शनि सम्मानित पद, उच्च पद देता है। विचारक दानी, दयालु, सदाचारी, व्यवहार कुषल बनाता है। उसे धर्म और भौतिक साधनों से लगाव नही होता है।
10. मकर का शनि स्वराशि है। महत्वाकांक्षी, कूटनीतिज्ञ होता है। शत्रु नहीं होते है। वैवाहिक जीवन खराब रहता है। झूठा, असन्तुष्ट, अशिक्षित होता है।
11. कुंभ का शनि जातक को विनम्र धनी, उदार, शत्रुहन्ता, दीर्घायु ,सम्मानित बनााता है संतान सुख मे कमी लाता है। और दुर्घटनायें कराता है।
12. मीन का सम्मानित, दो से अधिक स्त्रोतों से आय पाने वाला, शांतिप्रिय सहनशील बनाता है। वैवाहिक जीवन में असन्तुष्ट व निराश रहता है। परोपाकारी व विचारक होता है। दैवज्ञ या भविष्यवक्ता हो सकता है।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति