सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्वालिटी विचारधारा को अपनाकर ही भावी पीढ़ी उन्नति कर सकती है


सिटी मोन्टेसरी स्कूल, कानपुर रोड कैम्पस, लखनऊ के तत्वावधान में चल रहे चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय स्टूडेन्ट्स क्वालिटी कन्ट्रोल सर्किल सम्मेलन (आई.सी.एस.क्यू.सी.सी.-2019) का दूसरा दिन देश-विदेश से पधारे क्वालिटी विशेषज्ञों के सारगर्भित विचारों से ओतप्रोत रहा। इन प्रख्यात विशेषज्ञों ने युवा पीढ़ी को जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में 'क्वालिटी की भावना' को आत्मसात करने पर जोर देते हुए इसे जीवन के सर्वोच्च शिखर पर पहुँचने का सशक्त माध्यम बताया। क्वालिटी विशेषज्ञों ने छात्रों को जीवन में उत्कृष्टता लाने के लिए पढ़ने की प्रणाली व जीवन शैली में सुधार लाने के लिए प्रेरित किया, साथ ही चरित्र निर्माण, टीम वर्क, सहयोग की भावना, विचारों के आदान-प्रदान के महत्व पर भी जोर दिया। इसके अलावा देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने कोलाज एवं केस स्टडी प्रजेन्टेशन प्रतियोगिताओं में अपनी प्रतिभा का जोरदार प्रदर्शन किया। 
 इससे पहले, आई.सी.एस.क्यू.सी.सी.-2019 के दूसरे दिन का शुभारम्भ प्रख्यात शिक्षाविद् एवं लेखिका श्रीमती अनीता अराथून के सारगर्भित अभिभाषण से हुआ। देश-विदेश से पधारे क्वलिटी विशेषज्ञों एवं प्रतिभागी छात्रों को सम्बोधित करते हुए श्रीमती अराथून ने कहा कि 'क्वालिटी विचारधारा' को अपनाकर ही भावी पीढ़ी उन्नति कर सकती है। बच्चों में क्वालिटी की भावना का समावेश करने में शिक्षकों की अहम भूमिका है क्योंकि आधुनिक युग में शिक्षकों की भूमिका गुरू से फेसिलिटेटर की हो गई है। शिक्षक ही छात्रों के मस्तिष्क को प्रकाशित कर उन्हें क्वालिटी परसन बनाते हैं। डा. ए. सेन्थिल कुमारान, चीफ कान्फ्लएन्सर, द लर्नस कान्फ्लुएन्स, ने कीनोट एड्रेस देते हुए कहा कि किसी भी विद्यालय में गुणवत्ता लाने के लिए अच्छा वातावरण होना चाहिए। स्कूल का वातावरण ही इस बात द्योतक है कि शिक्षक कितनी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान कर रहा है। श्री कुमारन ने कहा कि शिक्षा वह है जो बच्चों को स्कूल में प्रसन्नता का अनुभव कराये। इस अवसर पर स्वागत भाषण देते हुए सी.एम.एस. कानपुर रोड की प्रधानाचार्या व इस अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन की सह-संयोजिका श्रीमती रोली त्रिपाठी ने कहा कि हमें केवल समस्याओं के बारे में नहीं सोचना है बल्कि उनको वैज्ञानिक व शान्तिपूर्ण तरीके से कैसे सुलझाया जाए, यह भी सोचना है। हमें निर्णय लेने की शक्ति अर्जित करनी है, एवं अनुशासन में रहना और सकारात्मक सोच रखना सीखना है। विनम्रता से हम सहज रूप से आगे बढ़ सकते हैं।
 सम्मेलन के ओपनिंग प्लेनेरी सेशन में देश-विदेश से पधारे क्वालिटी विशेषज्ञों ने 'न्यू ट्रेंड्स इन एजूकेशन क्रिएटिंग एन इफेक्टिव पेडागोजिकल इन्वायर्नमेन्ट' पर व्यापक चर्चा-परिचर्चा की। सेशन का संचालन डा. एस. बी. पुरोहित, सेक्रेटरी, क्यू.सी.एफ.आई., दिल्ली चैप्टर ने किया। परिचर्चा में अपने विचार रखते हुए प्रो. एम आर कबीर, प्रो वाइस-चांसलर, यूनिवर्सिटी आॅफ एशिया पैसिफिक, बांग्लादेश, ने कहा कि शिक्षकों का विनम्र व्यवहार अत्यन्त आवश्यक है। शिक्षकों का व्यवहार ही बच्चों को सीखने में मदद करता है। विशेषकर प्राईमरी के बच्चों को अपने शिक्षक से भयभीत नहीं होना चाहिए। श्री मोहनदास टीलक, फाउण्डर एवं एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर, फिजिकली एवं मेन्टली चैलेन्ज्ड स्टूडेन्ट क्वालिटी सर्किल, माॅरीशस, ने कहा कि प्रोद्योगिकी से शिक्षा प्रदान करने में सुगमता आती है। शिक्षा बच्चों के सीखने का क्षेत्र सुनिश्चित करने वाला होना चाहिए। आयरलैण्ड से पधारी सीनियर स्पीच एण्ड लैग्वेज थेरेपिस्ट सुश्री एजिजाबेथ वैगस्टाफ ने कहा कि हमें बच्चों के चरित्र निर्माण को लेकर हमेशा सचेत व सजग रहना चाहिए एवं बच्चों को सतत अभ्यास कराते रहना चाहिए। श्रीमती इन्दु डोगरा, पूर्व प्रोफेसर, गवर्नमेन्ट मोहिन्द्रा कालेज, इण्डिया, ने कहा कि एक शिक्षक मूलरूप से एक सीखने वाला एवं परिचयकर्ता होता है। शिक्षक ही समाज का मुख्य स्तम्भ है। इसी प्रकार श्री मधुकर नारायण, चेयरमैन, एम.एस.क्यू.सी.सी., माॅरीशस, श्री राजकुमार महाराजन, क्वेस्ट, नेपाल,  श्री ली गौशाई, डेप्युटी सेक्रेटरी जनरल, चाइना एसोसिएशन आॅफ क्वालिटी, चीन, श्री ए.के.एम. सैमसुल हुडा, वाइस प्रेसीडेन्ट, बी.एस.टी.क्यू.एम., बांग्लादेश एवं श्री शकील अहमद काकवी, मैनेजर, एम.ई.एस. इण्डियन, स्कूल, कतर समेत कई क्वालिटी विशेषज्ञों ने अपने सारगर्भित विचारों से छात्रों, शिक्षकों व उपस्थित जन-समुदाय का मार्गदर्शन किया।
 सम्मेलन के अन्तर्गत आज देश-विदेश से पधारे प्रतिभागी छात्रों ने कोलाज एवं केस स्टडी प्रस्तुतिकरण प्रतियोगिताओं में अपनी रचनात्मक क्षमता का भरपूर प्रदर्शन किया। जहाँ एक ओर केस स्टडी प्रजेन्टेशन के माध्यम से देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने घर, विद्यालय व समाज की विभिन्न समस्याओं पर 'क्वालिटी सर्किल' के माध्यम से रचनात्मक समाधान प्रस्तुत कर सभी को आश्चर्यचकित कर दिया, तो वहीं क्वालिटी पर आधारित कोलाज प्रतियोगिता द्वारा छात्रों ने अपने अन्दर छिपी क्वालिटी पर्सन बनने की इच्छा को चित्रों द्वारा प्रकट किया, जिसमें  प्रतिभागी छात्रों ने दिखाया कि क्वालिटी सर्किल अपनाकर किस प्रकार जीवन में क्रान्तिकारी परिवर्तन और चारित्रिक गुणों का विकास किया जा सकता है।
 सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि विश्व के विभिन्न देशों से पधारे प्रख्यात क्वालिटी विशेषज्ञों का सारगर्भित अभिभाषण कल भी जारी रहेगा। इसके अलावा, 'वेज टु मेक इंग्लिश टीचिंग मोर इन्ट्रेस्टिंग' एवं 'मास्टर क्लास लीडरशिप' विषयों पर कार्यशाला का आयोजन किया जायेगा, साथ ही विभिन्न विद्यालयों से पधारे शिक्षकों व शिक्षाविद्ों द्वारा पेपर प्रजेन्टेशन किया जायेगा। देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों के लिए कल 29 नवम्बर को वाद-विवाद, पोस्टर एवं स्लोगन मेकिंग एवं नुक्कड़ नाटक प्रतियोगिताएं आयोजित की जायेंगी।



 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति