सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

स्वायत्त शासन की भावना का विकास अमेरिका की भौगोलिक स्थिति


क्या आपको जानकारी है? क्रिस्टोफर कोलम्बस ने अमेरिका का पता लगाया था। अमेरिका का पता लगने के बाद यूरोप के बड़े-बड़े धनवान लोगों ने अमेरिका को बांटना शुरू कर दिया। स्पेन, पुर्तगाल, हॉलैंड, फ्रांस और इंग्लैंड ने वहाँ अपनी बस्तियाँ बसायीं। अमेरिका में अंग्रेजों के 13 उपनिवेश थे, उपनिवेशों में रहने वाले अंग्रेज स्वतंत्रता-प्रेमी थे। वे अपनी स्वतंत्रता की रक्षा के लिए मातृभूमि छोड़कर उपनिवेशों में जा बसे थे, लेकिन जब जॉर्ज तृतीय ने उपनिवेशों पर अपना निरंकुश शासन लादना चाहा तो स्वतंत्रता-प्रेमी उपनिवेशवासियों ने विद्रोह कर दिया। ऐसा माना जाता है, किसी भी देश में क्रांति की बीज वहाँ की सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और धार्मिक अवस्थाओं में छिपा रहता है जो अनुकूल परिस्थिति पाकर प्रस्फुटित होता है।
 अमेरिका के स्वतंत्रता संग्राम ने सर्वप्रथम  यह उदाहरण उपस्थित किया कि जागृत राष्ट्रीय भावना को कुचलना मुश्किल है। अमेरिका के स्वतंत्रता संग्राम ने पूँजीवाद को बढ़ाने का मौका दिया। अमेरिका पहला देश बना जिसने वंशानुगत राजतंत्र का अंतकर प्रजातंत्र की स्थापना की। अमेरिकी उपनिवेशों और इंग्लैंड के बीच संघर्ष अनिवार्य था। इसके पीछे कारण यह था कि उनके राजनीतिक, आर्थिक, सामजिक और धार्मिक जीवन में इतना अन्तर था कि अधिक दिनों तक उनके बीच मधुर सम्बन्ध कायम नहीं रह सकता था। यदि अमेरिका में होने वाले स्वातंत्र्य-संग्राम के कारणों की बात करें तो संक्षेप में हम इन कारणों को निम्नवत रूप से रख सकते हैं।
 धार्मिक मतभेद उपनिवेशवासियों और अंग्रेजों के धार्मिक दृष्टिकोण में भिन्नता क्रांति का एक महत्त्वपूर्ण कारण थी। इंग्लैंड के अधिकांश निवासी का झुकाव था, वे बिशप और धर्म के आधिपत्य पर विश्वास रखते थे। उपनिवेशवासी प्यूरिटन मतावलम्बी थे, बिशप-व्यवस्था और धर्म के आधिपत्य के विरोधी थे, धार्मिक भिन्नता के कारण उपनिवेशवासी इंग्लैंड के साथ किसी प्रकार का सम्बन्ध नहीं रखना चाहते थे।
 सामाजिक भिन्नता अमेरिका की सामाजिक संरचना इंग्लैंड की सामाजिक संरचना से भिन्न थी.इंग्लैंड का समाज सामंती था जबकि अमेरिका का समाज जनतंत्रात्मक था। इंग्लैंड का समाज रुढ़िवादी और कृत्रिम था, जबकि अमेरिका का समाज मौलिक और आदर्शवादी था, रुढ़िवादी और प्रगतिशील समाज में कभी समन्वय नहीं हो सकता। अंग्रेजों की राजनीति पर धनिकों का प्रभाव था, अंग्रेजी राजनीति में गरीबों के लिए कोई स्थान नहीं था। अमेरिका के समाज में अमीर-गरीब की भावना नहीं थी।
असंतोषजनक शासन-प्रणाली उपनिवेशों में बसने वाले अंग्रेज अपने साथ इंग्लैंड की मान्यताये और संस्थायें भी लेते आये थे, उपनिवेशों की शासन-प्रणाली असंतोषजनक थी, कार्यकारिणी और व्यस्थापिका में निरंतर संघर्ष होता रहता था, उपनिवेश का गवर्नर इंग्लैंड के राजा नियुक्त होता था, गवर्नर को विशेषाधिकार प्राप्त था, वह व्यवस्थापिका सभा भी गवर्नर के वेतन को रोककर उस पर नियंत्रण रख सकती थी, उपनिवेशवासी व्यवस्थापिका सभा को सर्वशक्तिशाली संस्था मानते थे लेकिन ब्रिटेन की सरकार उसे अधीनस्थ एवं स्थानीय संस्था मानती थी, फलतः दोनों में संघर्ष स्वाभाविक था।
 उपनिवेशवासियों को राजनीतिक अधिकारों से वंचित रखा गया था। ब्रिटिश शासकों का विचार था कि उपनिवेशवासियों में शासन करने की योग्यता नहीं है. इसलिए बड़े-बड़े पदों पर अंग्रेजों को ही नियुक्ति किया जाता था, ब्रिटिश सरकार की इस नीति से भी उपनिवेशवासी असंतुष्ट थे।
 जातीय समानता उपनिवेशवासियों की धमनियों में भी अंग्रेजी रक्त प्रवाहित हो रहा था, वे भी अंग्रेजों की तरह स्वतंत्रता और स्वराज्य के पुजारी थे और गुलामी की जंजीर को तोड़ देना चाहते थे, अपनी ही जाति के लोगों द्वारा शासित होना उपनिवेशवासियों को अरुचिकर प्रतीत होता था।
 उपनिवेशवासियों का ब्रिटेन के प्रति रुख इंग्लैंड के सताए हुए कैथोलिक और प्रोटेस्टेंट ही उपनिवेशों में जाकर बसे थे. वे वहाँ स्वतंत्रता की साँस लेना चाहते थे। परन्तु जब इंग्लैंड की सरकार ने उपनिवेशों को भी अत्याचार और अन्याय का अखाड़ा बना दिया तो वे विद्रोह कर उठे।
 स्वायत्त शासन की भावना का विकास अमेरिका की भौगोलिक स्थिति के कारण इंग्लैंड की सरकार उपनिवेशों के मामलों में दिलचस्पी नहीं ले रही थी। दूरी और यातायात के साधनों के अभाव के कारण इंग्लैंड की सरकार उपनिवेशों पर नितंत्रण रखने में असमर्थ थी, इसलिए उपनिवेशवासियों ने शासन सम्बन्धी समस्याओं का समाधान स्वयं खोज निकला और उनमें स्वशासन की भावना जगी। इंग्लैंड की प्रजातांत्रिक परम्परा में पीला उपनिवेशवासी उत्तरदायी शासन के गुणों का उपयोग करना चाहते थे।
 बुद्धिजीवी वर्ग का नेतृत्व जनक्रांति का नेतृत्व हमेशा ही बुद्धिजीवी वर्ग करता है। उपनिवेशवासियों को संघर्ष का नारा अंग्रेजों से ही मिला था। जॉन लॉक, रूसो, वाल्टेयर, मांटेस्क्यू जैसे दार्शिनकों का प्रभाव उपनिवेशवासियों पर पड़ा था। टॉमस पेन, जेम्स ओरिस जैसे लेखकों ने राजा के दैवी अधिकार के विरुद्ध आवाज उठाई, इससे भी लोगों में जागरण आया।
 व्यापारिक एवं औद्योगिक प्रतिबंध उपनिवेशों के वाणिज्य-व्यवसाय पर अनेक प्रकार के प्रतिबंध लगाए गए थे। वे इंग्लैंड के साथ व्यापारिक प्रतिद्वंद्विता नहीं कर सकते थे और न इंग्लैंड के शत्रु-देशों के साथ व्यापारिक सम्बन्ध कायम कर सकते थे। वस्तुओं के आयात-निर्यात पर भी प्रतिबंध लगा हुआ था। इंग्लैंड और उपनिवेशों के बीच तथा उपनिवेशों एवं अन्य  यूरोपीय देशों के बीच वस्तुओं का आयात-निर्यात ब्रिटिश जहाजों के द्वारा ही होता था, कुछ व्यापार सम्बन्धी कानून भी थे। कुछ वस्तुएँ कपास, चीनी, तम्बाकू केवल इंग्लैंड ही भेजी का सकती थीं, वस्तुओं के उत्पादन पर भी प्रतिबंध लगाया गया था। उपनिवेशवासी लोहा, सूती कपड़ों जैसी आवश्यक वस्तुओं का उद्योग अपने यहाँ अलग नहीं कर सकते थे, औद्योगिक एवं व्यापारिक प्रतिबंधों के कारण उपनिवेशों की औद्योगिक एवं व्यापारिक प्रगति नहीं हो रही थी। इससे उपनिवेशवासी काफी असंतुष्ट थे और वे परतंत्रता की बेड़ी को तोड़ देना चाहते थे।
 सप्तवर्षीय युद्ध के परिणाम इस युद्ध के परिणामस्वरूप उपनिवेशवासियों में आत्मविश्वास की भावना जगी, अमेरिकन सैनिकों ने अंग्रेज सैनकों के साथ मिलकर फ्रांस का मुकाबला युद्ध में किया था, उन्हें विश्वास हो गया कि वे अंग्रेजों से अच्छा लड़ सकते हैं। आर्थिक स्थितियाँ में सुधार और शिक्षा के विकास के कारण उपनिवेशों में मध्यम वर्ग का जन्म हुआ जो राजनीतिक स्वतंत्रता के लिए प्रयास करने लगा, इस वर्ग के लोग स्वतंत्रता के इस संग्राम के अग्रदूत बने।
 तात्कालिक कारण अमेरिका के स्वतंत्रता-संग्राम का तात्कालिक ग्रेनविल के कुछ आपत्तिजनक कार्य थे, सप्तवर्षीय युद्ध के परिणामस्वरूप आर्थिक संकट पैदा हो गया था। किसान और मजदूर अपनी सीमा से बाहर जाकर आदिवासियों की भूमि आबाद करना चाहते थे, लेकिन ग्रेनविल ने इस पर प्रतिबंध लगा दिया। ग्रेनविल ने नेविगेशन एक्ट कड़ाई से लागू किया, चोरबाजारी सम्बन्धी मामलों की जाँच के लिए कोर्ट की स्थापना की गई। 1733 में डवसंेे मे एक्ट बना। ग्रेनविल ने चुंगी की वसूली में सख्ती दिखलाई, बंदरगाहों पर अंग्रेज कर्मचारी तैनात किए गए और टैक्स नहीं देने वालों के घर की तलाशी ली जाती थी।  1765 में स्टाम्प एक्ट बनाया गया। अब अखबारों, कानूनी कागजातों, बंधक सम्बन्धी दस्तावेजों और इश्तहारों पर सरकारी टिकट लगाना अनिवार्य कर दिया गया। इस कानून के कारण उपनिवेशों के पात्र-प्रकाशकों, इश्तहार निकालने वालों, वकीलों, व्यापारियों को भारी क्षति उठानी पड़ी। उपनिवेशवासियों के विरोध के कारण 1766 में स्टाम्प एक्ट को बंद कर दिया गया। लेकिन यह स्पष्ट कर दिया गया कि ब्रिटिश सरकार को उपनिवेशों पर कर लगाने का अधिकार है।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति