ठिठुरन व गलन के साथ ही कड़ाके की ठण्ड रहेगी जारी निराश्रित, वृद्ध व बच्चों पर दे विशेष ध्यान

कड़ाके की ठण्ड व शीतलहर को देखते हुए जिलाधिकारी रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने समस्त एसडीएम, तहसीलदार को निर्देश दिये है कि रैन बसरों में सभी सुविधाए उपलब्ध कराने के साथ ही अलाव जलाने की भी व्यवस्था दुरूस्त रखें। नगर पालिका/पंचायत, आगंनबाड़ी केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, ग्राम सभा आदि भी अलाव जलाने एवं निराश्रित असहाय लोगों को ठण्ड से निजात दिलाने के लिए अलाव जलाने के साथ ही कम्बल वितरण भी करते रहे। उन्होंने ठिठुरन व गलन के साथ ही कड़ाके की ठण्ड जारी है मौसम विभाग के अनुसार 31 दिसम्बर से प्रदेश में बादलों का ढेरा पड़ने के साथ ही 3 जनवरी के बीच विभिन्न क्षेत्रों में बदली व बारिश की सम्भावना हो सकती है। अतः सभी लोगों ठण्ड के बचाव के लिए सर्तक करें। वृद्धजनो और बच्चों को घर से बाहर न जाने दें। अत्याधिक आवश्यकता हो तो तभी उनको घर से बाहर जाने दें और गर्म कपड़ों से लैस रखे। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि ऐसी व्यवस्था रहे कि आमलोगों के साथ ही किसी भी भी ठण्ड, भोजन, वस्त्र आदि की कमी के कारण किसी भी मृत्यु न हो। इसके अलावा उन्होंने बेजुबान पशुओं को भी ठण्ड से बचाने के लिए उन्हें उनके हातो में रखने के साथ ही उनके निकट अलाव व बोरे व गर्म कपड़ों आदि उढ़ाकर रखें।  
 जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने त्रिपुला स्थित कान्हा गोवंश विहार एवं तहसील महाराजगंज स्थित पशु आश्रित केन्द्र में जाकर स्थलीय निरीक्षण कर वहां की व्यवस्थओं के जायजा लेने के साथ ही सम्बन्धित अधिकारियों को उचित दिशा निर्देश दिये। सीवीओं को निर्देश दिये कि ठण्ड को देखते हुए केन्द्रों अच्छे से ढ़क कर रखा जाये। समय-समय पर पशुओं के निकट गर्माहट की व्यवस्था भी करते रहे। इसके अलावा पशुओं की ठण्ड से बिमारी आदि न हो सके इसी जांच भी पशु चिकित्साधिकारी से कराते रहे। गौवंशों के खान-पान चारा आदि की भी व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखा जाये। अगर कोई गौवशं निराश्रित शहर में घुमते मिले तो उसे तत्काल गौशालाओं में पहुचकर उनकी उचित देख-रेख करें। इसी दौरान जिलाधिकारी ने काई गौवंशो को गुड़ आदि भी खिलाया।