सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वोटरशिप आफ द इयर 2020 की हार्दिक बधाइयाँ!

कल के साथ चले! वोटरशिप की ही अब आपस में चर्चा करें! वोटरशिप आॅफ द इयर 2020 की हार्दिक बधाइयाँ। वैसे, हीरा तो हम पहले से ही थे लेकिन हमें हीरे की पहचान नहीं थी। देश की सारी प्राकृतिक संसाधन का असली मालिक देश का प्रत्येक वोटर है। यदि देश की समस्त प्राकृतिक सम्पदा में प्रत्येक वोटर की धनराशि का हिस्सा निकाला जाये तो उसके हिसाब से देश का प्रत्येक वोटर करोड़पति है। इसलिए वोटर की तरक्की को अब चाहिए नया आर्थिक आजादी का नजरिया। 
 देश का वोटर नये वर्ष 2020 में बड़ी उम्मीद तथा विश्वास से प्रवेश कर रहा है। वोटरों ने विरासत मंे मिली चुनौतियाँ का स्थायी समाधान वोटरशिप अधिकार कानून के शीघ्र गठन के रूप में सामने आयेगा। इस विकसित तकनीकी युग में जब सारा काम मशीने, कम्प्यूटर तथा रोबोट कर रहे हैं तो ऐसी स्थिति में इंसान का काम मशीने कर रही हैं। कई इंसान के काम को एक आधुनिक मशीन अकेले कर दे रही हैं। मशीनों से पैदा हो रहा धन मशीन मालिक के पास जा रहा है। इस कारण से इंसान को बेरोजगारी से उत्पन्न आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है। 
 मशीनों से पैदा हो रहे धन को कानून बनाकर मशीन मालिक से टेक्स लगाकर क्षतिपूर्ति के रूप में वसूला जाना चाहिए और उस धन को पीड़ितों में बांटना चाहिए। सबसे बड़ा धर्म प्रत्येेक वोटर को आर्थिक आजादी दिलाना है। वोटरशिप लागू होने से प्रत्येक परिवार में आर्थिक समृद्धि आने का मार्ग स्वतः ही हो जायेगा। अभी आर्थिक आजादी का महाप्रश्न वोटरशिप अधिकार कानून बनाकर सुलझाना बाकी है, उस दिशा की ओर पूरे सामथ्र्य के साथ आगे बढ़ा जा रहा है। 
 हम राजनीति सुधारकों की टेªनिंग के द्वारा चुनौतियों को चुनौती देने में लगे हैं। राजनीति सुधरे तो जगत सुधरे। हमने देश सहित पूरे विश्व को विरासत में मिली वैश्विक समस्याओं का तत्काल समाधान वोटरशिप अधिकार कानून के गठन के रूप में प्रस्तुत किया है। गरीबी दूर करने का सबसे बड़ा कारण गलत कानून भी हैं। वोटरशिप अधिकार कानून बनाकर हम देश के सभी गरीबों को 100 प्रतिशत स्थायी तथा बेहतर सामाजिक सुरक्षा दिलाने के लिए रात-दिन बहुत तेजी से कार्य कर रहे हैं। इस पुनीत अभियान में आप भी अपनी भूमिका निभाने के लिए आगे आये। 
 बड़े ही अफसोस की बात है कि उत्तर प्रदेश के भविष्य निधि घोटाला, जमीन खरीद घोटाला आदि के पीछे कई उच्च अधिकारियों की गिरफ्तारियाँ हुई हैं। सोचे! हम शिक्षा के द्वारा कैसे जीवन मूल्य अपने बच्चों को दे रहे हैं? जो उच्च शिक्षा प्राप्त करके ऊँचे पदों बैठकर जनता के धन को हड़प लेना चाहते हैं? देश के प्रत्येक वोटर का अब जागना तथा दूसरों का जगाना होगा। 
 हमने अपने पूरे जीवन का निचोड़ को राजनीति सुधारक की टेªनिंग में समायोजित किया है। इस ट्रेनिंग के देश प्रत्येक वोटर के अनिवार्य किया जाना चािहए ताकि वोटर की सम्पूर्ण क्षमताओं का पूरा विकास हो। वोटर ही देश का असली मालिक तथा लोकतंत्र शासन पद्धति का निर्माता है। उसे ही तय करना है कि सरकारी तथा जनता के धन की कैसे सुरक्षा हो? क्योंकि प्रशासनिक उच्च पदों पर बैठे भ्रष्ट अधिकारियों से जनता के धन को बचाकर सही लोक कल्याणकारी योजनाओं में लगाना एक बड़ी चुनौती है।
 विश्व परिवर्तन मिशन प्रत्येक वोटर को लोकतंत्र की पुनर्खोज, जीवन मूल्यों और आदर्शांे का पाठ  नरन्तर पढ़ाता रहेगा। हमें वोटरोें के सहयोग से आर्थिक आजादी की नई इबादत लिखना है। महापुरूषों की मंशा के अनुरूप हमारा सारा फोक्स समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को वोटरशिप अधिकार कानून बनाकर आर्थिक आजादी से जोड़ना है। 
 विश्व परिवर्तन मिशन तथा वी0पी0आई0 का कार्य वोटरशिप अभियान को जन-जन के बीच ले जाने की दिशा में सराहनीय ही नहीं, वरन् अनुकरणीय है। प्रधान सेवक का कथन है कि सरकारें काम अटकाने के बजाय सुलझाने का माध्यम बने। हमें आशा है कि वर्तमान सरकारें अपनी करनी तथा कथनी में फर्क नहीं करेगी। देश के प्रत्येक वोटर से जुड़ा वोटरशिप अधिकार कानून का मामला संसद में चर्चा होने से अटका हुआ है।  
 वोटरशिप विचार के जन्मदाता विश्व परिवर्तन मिशन का परम दायित्व है कि वह केवल वर्तमान पीढ़ी के लिये ही नहीं, बल्कि आगे जन्म लेने वाली पीढ़ियों के सुरक्षित तथा उज्जवल भविष्य को ध्यान में रखकर काम करें। इस दिशा में हम अपनी जिम्मेदारियों का सही ढंग से निर्वहन कर रहे हैं। हमारा मिशन प्रत्येक वोटर को सुशासन तथा लोकसेवा की टेªनिंग देता है। इसकी प्रशंसा देश में ही नहीं विदेशों मंे भी हो रही है। 
 वोटरशिप अभियान से जुड़कर सम्पूर्ण अभिव्यक्ति का अवसर मिलने से साधारण वोटर भी असाधारण बन सकता है। पूरी दुनियां उसकी खूबियों की कायल बन जाती है। वोटरशिप और विश्व संसद की बात करने वाला राजनेता ही अब देश का तथा सारे विश्व का भावी प्रधानमंत्री बनेगा। अन्त में एक शेर के द्वारा हम आपसे विदा चाहेगे - 'कुछ लोग थे जो वक्त के सांचे में ढल गये, कुछ लोग थे जो वक्त के सांचे बदल गये।''


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति