सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

21वीं सदी की शिक्षा के बारे में महापुरूषों के प्रेरणादायी एवं शक्तिदायी विचार!


 शिक्षा हमें मिल-जुलकर रहना सीखाती है:- महात्मा गाँधी -सदाचार और निर्मल जीवन सच्ची शिक्षा का आधार है तथा जैसे सूर्य सबको एक-सा प्रकाश देता है, बादल जैसे सबके लिए समान बरसते हैं, इसी तरह विद्या-दृष्टि सब पर बराबर होनी चाहिए। हरबर्ट स्पेंसर, शिक्षा का उद्देश्य चरित्र निर्माण है। स्वामी विवेकानन्द, मनुष्य में जो सम्पूर्णता गुप्त रूप से विद्यमान है उसे प्रत्यक्ष करना ही शिक्षा का कार्य है तथा शिक्षा विविध जानकारियों का ढेर नहीं है। प्लेटो, शरीर और आत्मा में अधिक से अधिक जितने सौदंर्य और जितनी सम्पूर्णता का विकास हो सकता है उसे सम्पन्न करना ही शिक्षा का उद्देश्य है।   
शिक्षा द्वारा युवा पीढ़ी अपने समक्ष मानव जाति की सेवा का आदर्श रखे:- हर्बर्ट स्पेन्सर, शिक्षा का महान उद्देश्य ज्ञान नहीं, कर्म है। बर्क, शिक्षा क्या है? क्या एक पुस्तकों का ढेर? बिल्कुल नहीं, बल्कि संसार के साथ, मनुश्यों के साथ और कार्यों से पारस्परिक सम्बन्ध। अरस्तु, जिन्होंने शासन करने की कला का अध्ययन किया है उन्हें यह विश्वास हो गया है कि युवकों की शिक्षा पर ही राज्यों का भाग्य आधारित है। महामना मदनमोहन मालवीय, युवकों को यह शिक्षा मिलना बहुत जरूरी है कि वे अपने सामने सर्वोत्तम आदर्श रखें। एडीसन, शिक्षा मानव-जीवन के लिए वैसे ही है जैसे संगमरमर के टुकड़े के लिए शिल्प कला। निराला, संसार में जितने प्रकार की प्राप्तियाँ हैं, शिक्षा सबसे बढ़कर है। प्रेमचन्द, जो शिक्षा हमें निर्बलों को सताने के लिए तैयार करे, जो हमें धरती और धन का गुलाम बनाये, जो हमें भोग-विलास में डुबोये, वह शिक्षा नहीं भ्रष्टता है। नेलशन मण्डेला, विश्व में शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है जिससे सामाजिक बदलाव लाया जा सकता है।   प्रत्येक बच्चे का दृष्टिकोण सारी मानव जाति की भलाई का बनाना चाहिए:- महात्मा गांधी, एक दिन आयेगा, जब शांति की खोज में विश्व के सभी देश भारत की ओर अपना रूख करेंगे और विश्व को शांति की राह दिखाने के कारण भारत विश्व का प्रकाश बनेगा। डाॅ.बी.आर. अम्बेडकर, कानून और व्यवस्था किसी भी राजनीति रूपी शरीर की औषधि है और जब राजनीति रूपी शरीर बीमार हो जाये तो हमें कानून और व्यवस्था रूपी औषधि का उपयोग राजनीति रूपी शरीर को स्वस्थ करने के लिए करना चाहिए। डाॅ. राम मनोहर लोहिया, विश्व विकास परिषद’ का गठन किया था जो कि सम्पूर्ण विष्व में षांति स्थापित करने के लिए विश्व सरकार के गठन की ओर एक महत्वपूर्ण कदम था। डाॅ. सर्वपल्ली राधाशणन् , निःसंदेह आज हम एक एकताबद्ध विश्व की ओर अग्रसर है, जिसमें एक केन्द्रीय प्राधिकरण की स्थापना होगी, जिसके आगे बल प्रयोग के सभी कारकों का समर्पण किया जायेगा और सभी स्वतंत्र राष्ट्रों को, सम्पूर्ण विश्व की सुरक्षा के हित में, अपनी स्वायत्ता के कुछ अंश का परित्याग करना होगा। मार्टिन लूथर किंग, या तो हम संसार में रहने वाले सभी भाई-बहिन की तरह मिलकर रहे अन्यथा हम सभी मूर्खों की तरह एक साथ मरेंगे। जाॅन एफ. कैनेडी, हमें मानव जाति को महाविनाश से बचाने के लिए विश्वव्यापी कानून बनाना एवं इसको लागू करने वाली संस्था को स्थापित करना आवश्यक होगा और विश्व में युद्ध और हथियारों की दौड़ को विधि विरूद्ध घोषित करना होगा। विन्सटन चर्चिल, यदि हम विश्व सरकार न बना पाये, तो तृतीय विश्व युद्ध से संसार को कोई नहीं बचा पायेगा।      


सबसे अधिक शक्तिशाली वह विचार है जिसका समय आ गया है:- यू थाॅन्ट, संयुक्त राष्ट्र संघ के पूर्व महासचिव, कानून की डोर से बंधा हुआ विश्व पूर्णतया वास्तविक है तथा इसे प्राप्त किया जा सकता है। अल्बर्ट आइंस्टीन, केवल विश्व कानून एक सभ्य व शंातिपूर्ण समाज की ओर ले जाने की गांरटी दे सकता है। मिखाईल गोर्वाचोव ने कहा है कि एक विश्व सरकार की जरूरत की बारे में जागरूकता तेजी से फैल रही है। एक ऐसी व्यवस्था जिसमें विष्व के प्रत्येक देश अपना-अपना योगदान करेंगे। ड्वाइट डी. आइजनहाॅवर, एक ऐसा कानून होना चाहिए, जो सभी राष्ट्रों पर लागू होता हो क्योंकि बिना ऐसे कानून के विश्व सिर्फ अपूर्ण न्याय ही दे सकेगा जैसे एक बाहुबली के द्वारा कमजोर को दी गई दया की भीख। पोप जाॅन पाल द्वितीय,अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को अंतर्राष्ट्रीय संबंधों को नियमित करने के लिए कानून की व्यवस्था का समर्थन करना चाहिए। बर्टेन्ड रसेल, मैं फिर से कहता हूँ कि ‘हमारा लक्ष्य’ एक विश्व सरकार के गठन का होना चाहिए। जैन टिनबरजन, मानवजाति की समस्याओं का हल अब राष्ट्रीय सरकारों द्वारा सम्भव नहीं है। आज विश्व सरकार के गठन की आवश्यकता है। यह संयुक्त राष्ट्र संघ को अधिक शक्तिशाली बनाकर ही सम्भव है, अर्थात यह तभी संम्भव है जबकि संयुक्त राष्ट्र संघ से वीटो पावर व्यवस्था समाप्त कर दी जाए। विक्टर ह्यूगो, विश्व की सारी सैन्य शक्ति से अधिक शक्तिशाली वह विचार है जिसका समय आ गया है। नेलशन मण्डेला, शिक्षा संसार का सबसे शक्तिशाली हथियार है। सीएमएस, विश्व एकता की शिक्षा की इस युग में सर्वाधिक आवश्यकता है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति