सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भगवान शिव को क्यों प्रिय है सावन

सावन माह शिवजी को अत्यंत प्रिय है। सावन आते ही सारी पृथ्वी गर्मी की ज्वलंत ज्वाला से मुक्त होकर वर्षा  के जल से सराबोर हो जाती है ज्योतिष मान्यता के अनुसार सूर्य जेष्ठ मास मे जब आद्र्रा नक्षत्र मे प्रवेश करता है, तो भगवान शिव रूदन करते है, सूर्य के आद्र्रा नक्षत्र मे प्रवेश के साथ ही बारिस शुरू हो जाती है। परन्तु चन्द्र के महीने सावन मे पूरी प्रकृति तृप्त होकर खुशी से झूम उठती है। मनुष्य तो मनुष्य पृथ्वी, जल वायु पशु-पक्षी किसान, पेड़ पौघे सभी मग्न हो कर सृष्टि की नवीन रचना मे लग जाते है। पौराणिक मान्यता के अनुसार सतयुग मे इसी माह मे देवताओं और दैत्यों के द्वारा समुद्र मंथन हुआ था तो मंथन मे सर्व प्रथन अग्नि के समान जलता हुआ कालकूट नामक विष निकाला जिसकी गर्मी से देव दानव पशु-पक्षी, पेड़-पौधे, जलचर, नभचर सभी व्याकुल हो गये सारे संसार को भयानक विष से बचाने के लिये भगवान शिव ने उस विष का पान किया परन्तु उसे गले मे ही रोक लिया जिससे उनका कंठ नीला पड़ गया विष की ज्वाला व गर्मी से भगवान शिव व्याकुल हो गये तब प्रकृति ने वर्षा उत्पन्न करके उन्हें विष की अग्नि से मुक्त किया तब से भक्त शिवजी के लिंग पर सावन माह मे जल दूध आदि अर्पण करते है, जिनसे शिवजी सरलता से प्रसन्न हो जाते है। कुछ अंय पौराणिक कथाओं के अनुसार सावन के माह मे ही माता पार्वती जी ने कठोर तपस्या करके भगवान शिव को प्राप्त किया था भगवान शिव ने माता पार्वती को दर्शन देकर उन्हें स्वीकार किया था तथा फाल्गुन माह शुक्ल त्रयोदशी को माता पार्वती और परमेश्वर शिवजी का विवाह सम्पन्न हुआ यह पवित्र पर्व शिवरात्रि कहलाता है। सावन मे भगवान शिव की उपासना से संबधित अनेक पर्व, त्योहार व्रत आदि होते है। कुछ भक्त इस माह मे रूद्राभिषेक कराते है। कुछ सोमवार का व्रत करते है। कुछ कुंवारी लड़कियाँ सावन के सोमवारों का व्रत रख कर उनकी कथा सुनकर शिव पूजन करती है। कुछ भक्त कालसर्प दोषशांति नाग शांति आदि करवाते है। क्योंकि नाग व सर्प शिवजी के भक्त व उपासक माने जाते है। अतः इस माह मे इन दोषों की शांति करवाने से शिवजी की कृपा से भक्तों को इन दोषों से मुक्ति मिलती है अविवाहित महिलाओं तथा ऐसे विवाहित जोड़े जिनका वैवाहिक जीवन कलह पूर्ण होता है वे श्रावन मास मे मंगला गौरी व्रत करती है। सावन मास मे भक्तों द्वारा उनका पूजन किये जाने से वे शीघ्र प्रसन्न हो जाते है। भगवान शिव भोले भंडारी है। उनकी पूजा मे किसी विशेष सामग्री की आवश्यकता नही होती है, वे थोड़े से फल-फूल, जल, दूध आदि चढाने से ही वे प्रसन्न हो जाते है। श्रावन माह का दूसरा महत्वपूर्ण त्योहार रक्षा बंधन है। जो सावन पूर्णिमा को पड़़ता है यह भाई-बहन के अटूट प्रेम पवित्रता का पर्व है। जिसमे बहन भाई का पूजन करके उसे राखी का पवित्र धागा बांधती है और मिष्ठान पकवान खिलाती हें और भाई उसकी हर संकट और मुसीबत से रक्षा का वचन देता है। सावन मे गांव गांव मे झूले पढ़ जाते है। जिसमे कुंवारी कन्यायें, नवविवाहितायें और बच्चे खूब झूला झूलते हैं।
 भगवान का पूजन आप धूप बत्ती, अगरबत्ती, सफेद चंदन, रोली, हल्दी, सफेद फूल, सफेद कपड़ा, बेल के पत्ते जो भगवान को अति प्रिय है पानी वाला नारियल, धतूरा, भंाग, गन्ना, लईया, ईलायची दाना, दूध, चावल, मिष्ठान आदि से करें व शिव चालीसा, रूद्राष्ठक, शिव कवच तथा शिवजी के किसी भी मंत्र का जाप करें महामृत्युजंय और शिवजी के पंचाक्षर मंत्र ऊँ नमः शिवाय का जाप करें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति