सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जादूगर ने जादू के माध्यम से गंगा यात्रा के महत्व को बताया

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गंगा को स्वच्छ बनाये रखने एवं गंगा के संरक्षण हेतु नमामि गंगे परियोजना लागू कर गंगा की निर्मलता एवं अविरलता पर बल दिया है। गंगा की निर्मलता के लिए अनेक परियोजनाएं संचालित की गई हंै जिनमें सीवरेज इन्फ्रास्ट्रक्चर, माड्युलर एसटीवीएस, जैविक उपचार, ग्रामीण स्वच्छता, औद्योगिक प्रदूषण में कमी, घाटों व मोक्षधाम का विकास, नदी सतह सफाई, नदी तट विकास, घाट सफाई, जैव विविधता संरक्षण, वनीकरण, रिसर्च एण्ड प्रोजेक्ट डेवलपमेंट, गंगा टास्क फोर्स आदि प्रमुख हैं। गंगा की निर्मलता के लिए लागू परियोजनाएं गुणवत्तापूर्ण कार्य कर रही हैं। कई परियोजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं।
 गंगा की स्वच्छता और पवित्रता बनाये रखने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आमजन को जोड़ने का कार्य किया है। उनके अथक प्रयास से ही आज गंगा में नगरों व गांवों की गंदगी जाना बन्द हो गई है। गंगा अपने प्रवाह के दौरान सबसे अधिक दूरी 1140 किलोमीटर उत्तर प्रदेश से तय करती है, जिसके किनारे 27 जिले, 21 नगर निकाय एवं 1038 ग्राम पंचायतें पड़ती हैं। जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना व मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार, डीएफओ तुलसीदास शर्मा द्वारा बतया गया कि प्रदेश सरकार ने नमामि गंगा कार्यक्रम के तहत उत्तर प्रदेश में 10341.82 करोड़ रुपये की स्वीकृत 45 सीवरेज परियोजनाओं में 12 परियोजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं, कुछ मार्च, 2020 तक पूर्ण होंगी, अन्य निर्माणाधीन हैं। गंगा किनारे के सभी शहरों के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लाण्ट की शोधन क्षमता ठीक की जा रही है। कानपुर की सभी टेनरियों को बन्द कर दिया गया है। सबसे बड़ा सीसामऊ नाले को टैप करते हुए गंगा में गिरते गन्दे पानी को रोका गया। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने स्वयं वहां जाकर सीसामऊ नाले पर बने सेल्फी प्वाइंट से सेल्फी ली। वह स्थान अब साफ-सुथरा है। प्रदेश सरकार के निर्देश पर जनपद रायबरेली के  गंगा किनारे के 29 गंाव सहित प्रदेश के समस्त 1038 ग्राम पंचायतों के प्रत्येक घरों में शत-प्रतिशत व्यक्तिगत स्वच्छ शौचालयों का निर्माण कराते हुए गंगा में जाने वाली गन्दगी को रोका गया है। उसी तरह गंगा के दोनों तटों के किनारों पर ‘‘गंगा हरीतिमा’’ कार्यक्रम के तहत वृहद वृक्षारोपण किया गया है। गंगा को प्रदूषण से बचाने के लिए प्रदेश सरकार ने दाह संस्कार से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए मोक्षधामों का निर्माण कराया है। गंगा नदी में अन्य स्तरों से होने वाली गन्दगी को रोकने के लिए जागरूकता कार्यक्रम चलाये गये हैं, इससे लोगों में काफी जागरूकता आई है। लखनऊ से आये 7 सांस्कृतिक दलो जिसमें जादूगर द्वारा गंगा किनारे ग्रामों सहित महत्वपूर्ण स्थानों पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से गंगा यात्रा के साथ ही सरकार द्वारा चलाई जा रही महत्वपूर्ण योजना व उपलब्धियों का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है।
 भारत की सांस्कृतिक पहचान की गंगा नदी-गंगा माँ उत्तराखण्ड में हिमालय से लेकर बंगाल की खाड़ी सुन्दरवन तक देश के विशाल भू-भाग को सींचती है। गंगा नदी देश की प्राकृतिक सम्पदा ही नहीं, जन-जन की भावनात्मक श्रद्धा और आस्था का आधार भी है। सामाजिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक और आर्थिक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण गंगा का अति विशाल उपजाऊ मैदान अपनी घनी जनसंख्या के कारण भी जाना जाता है। भारत के पौराणिक ग्रन्थों और साहित्य में इसके सौन्दर्य की प्रशंसा गौरवमयी व वैभवशाली इतिहास और जन-जन से जुड़ाव का भावुकतापूर्ण वर्णन किया गया है। गंगा की घाटी में एक ऐसी सभ्यता का उद्भव और विकास हुआ, जिसका प्राचीन इतिहास गौरवमयी तथा वैभवशाली रहा है। इस घाटी में ज्ञान, धर्म, अध्यात्म एवं सभ्यता एवं संस्कृति की ऐसी किरण प्रस्फुटित हुई जिससे न केवल भारत बल्कि पूरा संसार आलोकित हुआ। पाषाण, प्रस्तरयुग का जन्म और विकास इस घाटी में होने के अनेक साक्ष्य मिले हैं। इसी घाटी में रामायण और महाभारत कालीन युग का उद्भव और विलय हुआ। वैदिक काल में अनेक ग्रन्थों में गंगा को गंगा माँ का सम्बोधन करते हुए वर्णन किया गया है। प्राचीन मगध महाजनपद का उद्भव गंगा घाटी में ही हुआ, जहां से गणराज्यों की परम्परा विश्व में पहली बार प्रारम्भ हुई। यही भारत का वह स्वर्ण युग विकसित हुआ जब मौर्य और गुप्तवंशीय राजाओं ने यहां शासन किया। मुस्लिम शासकों, मुगल काल में भी गंगा घाटी एवं गंगा नदी का महत्व रहा। अंग्रेजों के शासन में भी राजस्व, यातायात आदि का बड़ा óोत गंगा नदी-गंगा घाटी रही।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति