सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सभ्यता और संस्कृति कभी न भूलें

पुराने माहौल में जब देश में एमबीए, बीटेक, एमसीए जैसे गिने चुने डिग्री धारको के हाथों-हाथ लिया जाता था। इन डिग्रीयों के बगैर आपको कोई नामलेवा भी नही मिलेगा। इसलिए समय के मुताबिक आजों के युवाओं ने अपने आप ढाला और ढाल रहे है।
 देश में इन दिनों कम्प्यूटर- आईटी सेक्टर, हैवी इंडस्ट्री व दूसरी माल इंडस्ट्री में ऐसे ही लोगांे की जरूरत है जो अपने काम से देश की अर्थव्यवस्था को और बेहतर बनाने में अपना सहयोग दे सकें।
 कुछ कारणवश आज भी बहुत से ऐसे लोग है जो रेगुलर क्लासेज, ऊँची-ऊँची फीस की वजह से उनकी पढ़ाई में बड़ी चुनौतियाँ आती थी लेकिन इसका बहुत अच्छा विकल्प निकला ‘‘करेस्पान्डेन्स या डिस्टेंस ऐजुकेशन‘‘ जिसमें न रेगुलर क्लास की जरूरत ना बड़ी-बड़ी फीस का खर्च।
 देश के कई यूनिवर्सिटी इस क्षेत्र में लगभग सभी विषयों में कोर्स आॅफर करती है तो कुछ अपना किसी खास विषय में स्पेशलाइजेश। इसी में बहुत ही जाना पहचाना नाम बन चुका ‘‘इग्नू‘‘ इन्होने अपने 77 से ज्यादा ऐकेडमिक, प्रोफेशनल, अवरनेय जेनरेटिंग प्रोग्राम के जरिये देश के लाखों छात्रों को लाभान्वित कर रहा है।
 शिक्षा के क्षेत्र में इस तरह के प्रयास को देखकर खुशी होती है स्वतंत्र भारत के कर्णधारों, हमारे महापुरूषों ने भी शिक्षा के साथ जुड़ी रहने वाली एक बहुत ही महत्वपूर्ण कड़ी को हमेशा ध्यान में रखा वह है अनुशासन और शिक्षा के साथ दीक्षा भी हो-
 ‘‘ शिक्षा अनुशासन की पूर्णता है तो दीक्षा बुद्धिमत्ता के आकाश के अंत तक पूर्णता पहुचाने की प्रक्रिया है। बिना शिक्षा और दीक्षा के मनुष्य पूर्ण नही बन सकता।‘‘ जीवन में आने वाली समस्याओं से विद्यार्थी जो भविष्य का नागरिक है तभी वह हर परिस्थिति का सामना कर सकता है जब उसकी शिक्षा के साथ दीक्षा, विद्या सुंस्कारिता का समावेश हो। हम बहुत आगे बढ़े खूब पढ़ंे लेकिन भारत की जो पहचान है यहाँ की सभ्यता और संस्कृति इसको कभी न भूलें।
 स्वामी विवेकानन्द कहा करते थे कि ‘‘वर्तमान समय में हम कितने ही राष्ट्रों के विषय में जानते है, जिनके पास विशाल ज्ञान का भण्डार है, परन्तु इससे क्या वाद्य के समान नृशंस है, बर्बरों के समान है क्योंकि उसका ज्ञान संस्कार में परिणत नही हुआ है। सभ्यता की तरह ज्ञान भी चमड़े की ऊपरी सतह तक सीमित है, छिछला है और खरांेच लगते ही नृशंस रूप् से जाग उठता है हमें अपने विशाल राष्ट्र के लिए ऐसी शिक्षा नीति बनानी होगी, जिसमें शिक्षा और विद्या सभ्यता  और संस्कृति का सचमुच मेल हो।
 जहाँ शिक्षा और शिक्षाक्षेत्र से जुड़े विषयों पर इतनी बातें हो और वहाँ डाॅ0सर्वपल्ली राधाकृष्णन का नाम न आयें ऐसा नही हो सकता।
 डाॅ0 सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म 5 सितम्बर 1888 को तमिलनाडु के पवित्र तीर्थस्थल तिरूतनी ग्राम में हुआ था। राधाकृष्णन की पढ़ाई क्रिश्चयन मिशनरी संस्था लूथर मिशन स्कूल तिरूपति में हुआ। इसके बाद उन्होने वेल्लूर और मद्रास कालेजों में शिक्षा प्राप्त की। राधाकृष्णन को संविधान निर्मात्रि सभा का सदस्य बनाया गया। वह 1947 से 1949 तक इसके सदस्य रह इसी बीच वे ख्यातिप्राप्त विश्वविद्यालयों के चेयरमैन भी नियुक्त किये गये।
 शिक्षा और राजनीति में उत्कृष्ठ योगदान देने के लिए भारत के प्रथम राष्ट्रपति डाॅ0 राजेन्द्र प्रसाद जी ने महान दार्शनिक शिक्षाविद् और लेखक डा0 राधाकृष्णन को देश का सर्वौच्च अलंकरण ‘‘ भारतरत्न‘‘ प्रदान किया। इनके मरणोपरान्त इन्हे 1975 में इन्हे अमेरिकी सरकार द्वारा ‘टेम्पलन पुरस्कार‘ से सम्मानित किया गया था। जो धर्म के क्षेत्र में उत्थान के लिए प्रदान किया जाता है। इस पुरस्कार को ग्रहण करने वाले यह प्रथम गैर ईसाई सम्प्रदाय के व्यक्ति थे।
 उन्हे आज भी शिक्षा के क्षेत्र में आदर्श शिक्षक के रूप में याद किया जाता है। आज भी उनके जन्मदिवस के उपलक्ष्य में सम्पूर्ण भारत में 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस मनाकर डा0 राधाकृष्णन को सम्मान व्यक्त किया जाता है। इस दिन देश के विख्यात और उत्कृष्ट शिक्षको को उनके योगदान के लिए पुरस्कार प्रदान किया जाता है।



          


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति