सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सदगुरू के समान कोई अपना सगा नही है

सतगुरू सवाँ न को सगा, सोधी सई न दाति।
हरि जी सवाँ न को हितु, हरिजन सन न जाति।।
कबीरदासजी इस साखी में कहते है, ‘‘ सदगुरू के समान कोई अपना सगा नही है। विद्वान के समान कोई देने वाला नही है, भगवान के समान कोई हितैषि नही है और भक्त के समान कोई जाति नही है।
ग्रीस के दार्शनिक प्लेटो से दूर-दूर के लोग कुछ सीखने आते थे, पर वे बताने के साथ-साथ वह बात उनसे भी पूछते थे जो उन्हे नही आती थी। लोगो ने कहा- ‘‘ जो आपसे पूछने आते है, आप उनसे भी जानने का प्रयत्न करते है। इसमें आपकी इज्जत घटती है। प्लेटो ने कहा- मैं जीवन भर विद्यार्थी बने रहना चाहता हूँ। यह पदवी मुझे सबसे अच्छी लगती है।
जब प्लेटो जैसे दार्शनिक जीवन भर विद्यार्थी बने रहने की इच्छा रखते है और उन्हंे यह पदवी सबसे अच्छी लगती है। तो वास्तव में विद्यार्थी को कभी अपनी इच्छा, कुछ जानने की, कुछ सीखने की, पढ़ने की, ज्ञान अर्पन करने की कमजोर नही पड़ने देना चाहिए।
स्वामी रामकृष्ण परमहंस कहा करते थे कि लोटे की चमक को बनाये रखने के लिए उसे बार बार माँजना पड़ता है, नित्य प्रति उसकी रगड़ाई करनी पड़ती है। जिसके कारण चमक बनी रहती है। समय का सही उपयोग और निरन्तर अभ्यास ही हमें सफलता की ओर ले जाती है। हर इंसान में अपार क्षमता और प्रतिभा होती है। लेकिन वह उसके भीतर ही दबी पड़ी रहती है जैसे कि उसे इस बात की भनक ही नही है। वह सब कुछ पाने और करने में सक्षम है। आदमी के लिए असम्भव कुछ भी नही है जिस पल वह ठान ले सफलता वही से निश्चित हो जाती है।
लक्ष्य - लक्ष्य जीवन की दशा और दिशा दोनो निर्धारित करता है। लक्ष्य को पहचान कर गुरू के सानिध्य में वह कार्य किया जाय तों वह शत प्रतिशत सफल होता है। यदि एक कुशल मार्गदर्शक मिल जाये तो लक्ष्य प्राप्ति बहुत आसान हो जाती है परिश्रम तो सभी करते है लेकिन सही दिशा में किया गया श्रम अवश्य परिणाम तक पहुचता है। शिक्षण प्रणाली पूरी तरह बदल चुकी है पहले के समय में शिष्य पूरी तरह से गुरू के सानिध्य रहकर उनके साथ पूरी निष्ठा लगन और कठोर परिश्रम से ज्ञान प्राप्त करते थे। 
 आदर्श शिक्षक मात्र अध्यापन नही कराते छात्र को उस विद्या में  ऐसा पारंगत कर देते है कि वह स्वर्ण के समान बनकर निखर उठता है। पाण्डवों और कौरवों के गुरू एक ही थे गुरू द्रोणाचार्य लेकिन भविष्य में कोई दूसरा अर्जुन नही हुआ।
 गीता में कहा गया है “नहि ज्ञानेन सदृशं पवित्रमिह विद्यते।“ अर्थात इस संसार में ज्ञान से बढ़कर कोई श्रेष्ठ पदार्थ नही है। आत्मनिर्माण की, चरित्रगठन की, सुंदर संस्कार की, सत्प्रवृतियों की भावनाएँ जागृत करने वाले सदविचारों को सच्चा ज्ञान कहा जा सकता है। यही जीवन को सफल बनाने वाला सवश्रेष्ठ पदार्थ है। 
 “ ज्ञान लाभ का उद्देश्य पूर्ण करने वाला सर्व सुलभ साधन है।“ 
गुरू हमें सिखातें हैं कि विभिन्न शास्त्रों के ज्ञान के लिए हमें किस प्रकार व्याकुल रहना चाहियें, किस प्रकार पागल जैसा बनना चाहियें। शिष्य को यह प्रतीत होता हैं कि गुरू मानों अनन्त ज्ञान की मूर्ति है, गुरू मानों एक प्रतीक होते है, गुरू मानों एक ज्ञान पिपासा है, गुरू मानों अनन्त ज्ञान की विकलता है, गुरू मानों सत्य के ज्ञान की उत्कंटता है। हमारे गुरू का न आदि है न अन्त हमारा गुरू परिपूर्णतः है।
सद्गुरू विरलो को सौभाग्य से मिलते है पूर्वजन्म के संचित संस्कार एवं ईश्वर-इच्छा ही ऐसा सौभाग्य जुटाती है हमारा सारा योगक्षेम वहन करने हेतु हमें अपने जीवन में गुरू से साक्षात्कार हो पाता है। जिस सीमा तक शिष्य का समर्पण होता है, उतना ही गुरू आगे बढ़कर शिष्य पर आने वाली आपत्तियों की, संकटो की परिस्थितियों से जूझने का ज्ञान देता है।
सद्गुरू भगवान के समान है हमारे मन अंतःकरण के स्वामी है तथा हमारी आध्यात्मिक प्रगति ही उनका लक्ष्य है।
 समय बदलने के साथ युग बदलने के साथ शिक्षण पद्धति भी बदल गयी है गुरू शिष्य परंपरा बदल गयी है।आज कम्यूटर का युग है बड़ी- बड़ी टेक्नोलाॅजी हर रोज विकसित हो रही हैं लेकिन गुरू के महत्व पे इन सब का कोई प्रभाव नही है। गुरू ही हमें भगवान से मिलाने का, ज्ञान प्राप्त कराने का सद्बुद्धि देने का एकमात्र माध्यम  है। गुरू की महिमा का बखान करते करते कलम थक जायेगी कागज कम पड़ जायेगें लेकिन उनकी महिमा का अन्त नही होगा। तभी तो कहा गया है-
सब धरती कागद करू लेखनी सब बनराय।
सात समुद्र की मसि करू गुरू गुन लिखौ न जाय।।


      
 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति