सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शिक्षा के शक्तिशाली हथियार द्वारा बाल मजदूरी के विरूद्ध जागरूकता

बाल मजदूरी के प्रति विरोध एवं जगरूकता फैलाने के मकसद से हर साल 12 जून को बाल श्रम निषेध दिवस मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र संघ की इकाई अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के जागरूकता पैदा करने के लिए 2002 में विश्व बाल श्रम विरोधी दिवस के रूप में मनाने की शुरूआत की। संगठन के अनुमान के मुताबिक विश्व में 21 करोड़ 80 लाख बाल श्रमिक हैं। जबकि एक आकलन के अनुसार भारत में ये आंकड़ा 1 करोड, 26 लाख 66 हजार 377 को छूता है। इन बच्चों का समय स्कूल में काॅपी-किताबों और दोस्तों के बीच नहीं बल्कि होटलों, घरों, उद्योगों में बर्तनों, झाड़ू-पोंछे और औजारों के बीच बीतता है। भारत में यह स्थिति बहुत ही भयावह हो चली है। दुनिया में सबसे ज्यादा बाल मजदूर भारत में ही हैं। सभी बाल श्रमिकों का 60 प्रतिशत कृषि के क्षेत्र में पाया जाता है। लम्बे काम के घण्टे, भारी बोझ या उनकी शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए उनकी उम्र के लिए अनुचित और हानिकारक व्यावसायिक जोखिम को उजागर कर रहे हैं जब हम बाल श्रम के बारे में बात करते है तो ग्रामीण बच्चों की इस तरह की स्थितियों से अवगत कराया जाना आवश्यक है।  मजदूरी के दलदल में फंसा बचपन:- बचपन, इंसान की जिंदगी का सबसे हसीन पल, न किसी बात की चिंता और न ही कोई जिम्मेदारी। बस हर समय अपनी मस्तियों में खोए रहना, खेलना-कूदना और पढ़ना। लेकिन सभी का बचपन ऐसा हो यह जरूरी नहीं। बाल मजदूरी की समस्या से आप अच्छी तरह वाकिफ होंगे। कोई भी ऐसा बच्चा जिसकी उम्र 14 वर्ष से कम हो और वह जीविका के लिए काम करे बाल मजदूर कहलाता है। गरीबी, लाचारी और माता-पिता की प्रताड़ना के चलते ये बच्चे बाल मजदूरी के इस दलदल में धंसते चले जा रहे हैं।    


विद्यालय अथवा कार्यस्थल स्तर पर पैरोकार के रूप में कार्य करें:- बाल-श्रम विरोधी विश्व दिवस 12 जून के अवसर पर सभा आयोजित कर चर्चा करें कि विद्यालय के बच्चे विशेषकर लड़कियों के जीवन में बाल-श्रम उन्मूलन का क्या महत्त्व है। सर्वशिक्षा संबंधी कार्यक्रम का आयोजन कर चर्चा करें कि गुणवत्ता युक्त सार्वजनिक शिक्षा एवं बाल-श्रम से कैसे निपटा जाए। विद्यालय के पाठ्यक्रम में बाल-श्रम मुद्दा शामिल हो इसके लिए विद्यालय प्रबंधन समिति एवं स्थानीय अधिकारियों एवं प्राधिकारियों के साथ चर्चा करें। बच्चों, उनके अभिभावकों एवं शिक्षकों को उनके अधिकारों एवं बच्चे विद्यालय में बने रहें, इस तथ्य के प्रति संवेदित करें। शिक्षा के महत्त्व एवं बाल-श्रम के दुष्परिणामों के प्रति जागरूकता फैलायें। वादविवाद, चित्रकला एवं नाट्य प्रतियोगिताओं का आयोजन करें। बाल-श्रम के मुद्दों को अपने शैक्षणिक कार्यक्रमों एवं संगठन की योजनाओं में शामिल करें और बाल-श्रम विरोधी विश्व-दिवस के अवसर पर कार्यवाही करें। बाल-श्रम विरोधी नीतियों को अपने संगठन में अंगीकृत करें और उसके सदस्यों को बाल-श्रम के खिलाफ कार्यवाही करने हेतु प्रोत्साहित करें। विद्यालय अथवा संगठन विश्व भर की पत्र-पत्रिका में इण्टरनेट, सोशल मीडिया, प्रिन्ट तथा इलेक्ट्रानिक मीडिया के माध्यमों से बाल-श्रम उन्मूलन के संबंध में लोगों को जागरूक करें।   सामुदायिक स्तर पर अपने समुदाय में सम्मिलित रहकर:- समुदाय में बाल-श्रम के संबंध में सभी से चर्चा करें, इसके खिलाफ एकजुट होने के लिए प्रोत्साहित करें तथा बाल-श्रम विरोधी विश्व दिवस में सहभागिता के लिए प्रेरित करें। बाल-श्रम उन्मूलन के संबंध में स्थानीय समाचार-पत्रों का सहयोग लें। बच्चों के शोषण के खिलाफ अभियान चलायें। बाल-श्रम की निगरानी के लिए परिवारों एवं समुदाय के साथ कार्य करे। बाल-श्रम के खिलाफ कार्यरत संगठनों में स्वयंसेवक की तरह जुटें। बाल-श्रम संबंधी नाटकों की रचना, मंचन एवं संचालन में मदद करें। विद्यालय में बच्चों के दाखिले के संबंध में सहयोग करें। अपने समुदाय में बाल-श्रम संबंधी परिस्थितियों की निगरानी करें।  न्यायपूर्ण विश्व व्यवस्था बनाने के लिए सीएमएस विगत 60 वर्षों से प्रयासरत:- वर्तमान वैश्विक परिस्थितियों में संयुक्त राष्ट्र संघ को और मजबूत किये जाने की आवश्यकता है, जिससे यह संस्था युद्धों को रोकने, अन्तर्राष्ट्रीय विवादों का निपटारा करने, आतंकवाद को रोकने नाभिकीय हथियारों की समाप्ति एवं पर्यावरण संरक्षण आदि तमाम वैश्विक समस्याओं को प्रभावशाली ढंग से सुलझाने में सक्षम हो सकें क्योंकि तभी विश्व में शान्ति व एकता की स्थापना संभव हो सकेगी। विश्व एकता व विश्व शान्ति के प्रयासों के तहत ही सी.एम.एस. विगत 19 वर्षों से लगातार प्रतिवर्ष ‘मुख्य न्यायाधीशों का अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन’ आयोजित करता आ रहा है जिसमें अभी तक दुनिया के दो-तिहाई से अधिक देशों की भागीदारी हो चुकी है। इसके अलावा प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले 28 अन्तर्राष्ट्रीय शैक्षिक समारोह के माध्यम से भी सी.एम.एस. विश्व के बच्चों को एक मंच पर एकत्रित होकर एकता व शान्ति का संदेश देता है। साथ ही विभिन्न सामाजिक जागरूकता के कार्यक्रमों जैसे बाल श्रम, पर्यावरण, बालिकाओं की शिक्षा, किशोरों व युवाओं के चारित्रिक उत्थान आदि अनेकानेक ज्वलन्त मुद्दों पर पुरजोर ढंग से अपनी आवाज उठाता रहा है।  सभी को साामाजिक न्याय सहजता से सुलभ हो:- सी.एम.एस. विगत 60 वर्षों से लगातार विश्व के दो अरब से अधिक बच्चों के सुरक्षित भविष्य हेतु विश्व एकता व विश्व शान्ति का बिगुल बजा रहा है। अब यू.एन.ओ. के आॅफिसियल एन.जी.ओ. का दर्जा मिलने के बाद विश्व पटल पर इसकी प्रतिध्वनि और जोरदार ढंग से सुनाई देगी। सी.एम.एस. की सम्पूर्ण शिक्षा पद्धति का मूल यही है कि सभी को सामाजिक न्याय सहजता से मिल सके, मानवाधिकारों का संरक्षण हो, भावी पीढ़ी के सम्पूर्ण मानव जाति की सेवा के लिए तैयार किया जा सके, यही कारण है सर्वधर्म समभाव, विश्व मानवता की सेवा, विश्व बन्धुत्व व विश्व एकता के सद्प्रयास इस विद्यालय को एक अनूठा रंग प्रदान करते हैं, जिसकी मिसाल शायद ही विश्व के किसी अन्य स्कूल में मिल सके। वास्तव में बाल श्रम उन्मूलन के लिये कानून को न्यायालय की चार दीवारी से बाहर आना होगा। जो व्यक्ति अशिक्षा, आर्थिक अभाव या किसी भी अन्य कारणों से न्यायालय नहीं पहुंच पाता है उसे भी न्याय मिले इस बात को हम सभी को मिलकर सुनिश्चित करना है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति