सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

स्वतंत्रता दिवस आप सबको मुबारक

लीजिए, एक और स्वतंत्रता दिवस आ गया। ये वाला 72 वर्ष है। वैसे आजादी के 71 साल हो गये। अगर देशों की उम्र के हिसाब से बात करें तो देश युवा से गया है, परिपक्व, मजबूत, आत्मविश्वास से भरपूर। और हो भीं क्यूं ना, आखिरकार देश की प्रधान जनसंख्या युवाओं की ही तो है, नयी सोच, जोश और उत्साह से भरी हुई, भविष्य को एक नया नजरिये और विश्वास से बोलती हुई, सपनों और हकीकत से फासला कम करती, इस देश की नई पीढी।
 वैसे देखें तो इन 71 सालों में हमनें बहुत कुछ पाया। विज्ञान, तकनीक, समाज, अर्थव्यवस्था, हर क्षेत्र में हमने अभूतपूर्व और अकल्पनीय तरक्की के बारे में बात करने लगे, तो शायद इस पत्रिका के पन्ने कम पड़ जायेंगे।
 71 सालों में हमने बहुत कुछ पाया। लेकिन इस 72वें स्वतंत्रता दिवस के पड़ाव पर कुछ सवाल है जो आज भी हमारे सामने मुंह बाये खड़े खासकर कि पिछले कुछ सालों में जबकि अतिवादिता ने अचानक ही अपने पंख, या यों कहें अपने नुकीले र्डेने हमारे समाज में भेद दिये हैं।
 आसान होगा अगर हम इस लेख को सांम्रदायिकता, जाति भेद, लिंगभेद, रंगभेद या फिर राष्ट्रवाद के विवाद का अखाड़ा बता दें। पर उसके लिए तो आप को शाम को टीवी देख ही सकते हैं जहाँ टी.आर.पी. ;ज्त्च्द्ध की खातिर तथाकथित पत्रकार पत्रकारिता के मूल्यों का नित्य ही मजाक बनाते हैं।
 सवाल यह नहीं की कौन गलत, कौन सही। सवाल यह भी नहीं कि किसकी राष्ट्रवादिता किससे बढ़ी। और यह भी नहीं कि कौन सा धर्म बड़ा और कौन सा छोटा।
 सवाल छोटा है, मगर महत्वपूर्ण है। सवाल है आजादी का। सवाल है, इस देश में आजादी के मायने, उन मूल्यों का जो हमारे संविधान की नींव और जिनका मूल ध्येय इस देश की  एकता और सहिष्णुता बनाये रखना।
 आजादी कोई पेचीदी चिड़िया नहीं जिसे समझने के लिए ग्रंथों का अध्ययन करना पड़े। आजादी तो हमारे मूल अधिकार है, न केवल इस देश, इस आजाद देश के नागरिक होने के नाते, बल्कि एक इंसान होने के नातें आजादी अपने भगवान को पूजनें, चाहे वो जिस भी नाम से जाना जाता हो या न पूजने को, अगर वैसी इच्छा है आजादी सोच की, आजादी बोलने की, सुनने की, सांस लेने की। 
 क्यूं इतना मुश्किल हो गया हमारे लिए दूसरों को आजाद रहने देना। क्यूं चाहते है हम कि वो हमारी तरह सोचे, हमारी तरह जियें, और अगर नहीं तो वो तुरन्त ‘वो’ जाते है, वो जो हमसे अलग है और बस इसलिए हमें बांमपंथ या फिर अतिवादी नजरिए से कहें तो हमारे दुश्मन हैं।
 कोई भी धर्म, संप्रदाय, सोच, यहाँ तक कि समाज और सरकार पूरी तरह सही या गलत नहीं होते। हर सोच में विचारधारा से कोई न कोई खामी होती है। और कुछ अच्छाईयाँ होती है। अंग्रेजी में इसे ही ग्रे एरिया कहते है। समस्या यह है कि हम इस ग्रे एरिया को नहीं देखना चाहते हैं। हमारे लिए सबकुछ काला या सफेद मेरी सोच सफेद उसकी काली। मेरा धर्म सफेद उसका काला। और किसी न किसी स्वरूप में यह समस्या सबकी है, अब चाहे वो बहुमत में हो या अल्पसंख्यक। 
 हम यह मानना ही नहीं चाहते कि सबमें कमियाँ हो सकती है। उनमें भी ! हममें भी ! और सिर्फ इसलिए क्यूंकि हम उनसे सहमत नही या हमें वो समझ नहीं आते, इसका मतलब यह कि ‘वो’ हमेशा गतल है। या हमेशा हमारे दुश्मन अतिवादिता हर तरह से बुरी है। फिर चाहे वो  सेक्यूलर हो या सांप्रदायिक। क्योंकि अतिवादी सोच ग्रे एरिया नहीं मानती। वो सिर्फ दूसरे को गलत ठहराती है। नतीजा होता है असहिष्णुता, नकारात्मकता और हिंसा, अब वो चाहे प्रतीकात्मक ही क्यूं ना हो।
 असहिष्णुता का अंत और असहिष्णुता नहीं कर सकती और अतिवादिता का एकलौता जवाब इंसानियत है। क्यूं कि काले-सफेद की इस लड़ाई में हम भूल जाते है आखिरकर हर घर्म, हर सोच, हर विचारधारा के पीछे है तो इंसान ही। अगर हम खुद इंसान बन सके और दूसरों को इंसान रहने की आजादी दे सकें। उनकी गलतियों के साथ अपनी खुद की कमियों के साथ हम एक दूसरे को आजाद रहने दे सके तो शायद वो सबसे बड़ा स्वतंत्रता दिवस होगा, हमारे संविधान को हमारी सच्ची श्रद्धांजलि।
 72वां स्वतंत्रता दिवस आप सबको मुबारक। उम्मीद करते है, इस वर्ष हम थोड़े और आजाद हों! 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति