सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

होली में तंत्र का महत्व

भारतीय तंत्र शास्त्रों के तंत्र मूहर्तो में तीन रात्रियों का विषेश महत्व है। कालरात्रि (महानिषा) दीपावली की रात्रि कार्तिक अमावस्या, नवरात्रि तथा होलिका रात्रि। इन रात्रियों में की गई छोटी सी साधना भी अधिक फल प्रदान करती है। प्रत्येक मनुष्य कठिन, जटिल और लम्बी तंत्र साधना नहीं कर सकता है। इस बात को समझते हुये, हमारे पूवजों ने हजारों वर्ष पूर्व ही हजारों सरल साधनाओं और कष्ट निवारण तरीकों को विकसित किया किया था। इनमें टोना-टोटका का विषेष महत्व है, जो सारे संसार में पाये जाते हैं। टोने में स्थानीय भाषा के मंत्रों का प्रयोग किया जाता है। तथा टोटका में बुरे प्रभाव को हटाने व शुभ प्रभाव को पैदा करने के लिये कुछ खास वनस्पतियों, खनिजों तथा जीव-जन्तुओं का विषेष मूहूर्त तथा विषेष तरीके के प्रयोग किया जाता है। इनकी संख्या लाखों में है। यहाँ पर हम जीवन की समस्याओं से सम्बन्धित कुछ सरल उपायों का वर्णन है। जो कि होली की रात्रि में सरलता से फलीभूत हो जाते हैं।
शत्रु बाधाः-  यदि व्यक्ति शत्रुओं से परेषान चल रहा हो तो व्यक्ति को होली की रात्रि में लाल या सफेद गुंजा (रत्ती) के 7 दाने लेकर पीले वस्त्र में बाँधकर जलती होलिका के सात चक्कर लगाकर बाँह में बाँध ले या पास रखे तथा होली को प्रणाम करे।
- लाल गँुजा के दाने होली जलने के पूर्व सूर्यास्त में परस्पर मिलाकर शत्रु के घर या कार्यालय में रख दें। शत्रु आपसी कलह में नष्ट हो जायेगा।
- धन संचयः- होली की रात एक रुपया का सिक्का तथा काली गुँजा का एक बीज लेकर जमीन में दबा दें। यदि कोई शत्रु बार-बार आप पर या घर पर कहीं कोई तंत्रिक वस्तु रखकर टोना-टोटका करता है, तो होली को मुख्य द्वार पर लाल वस्त्र में 7 दाने लाल गुँजा के बाँधकर लटका दें। घर पर तथा आप पर होने वाले तंत्रिक प्रहार बेअसर हो जायेंगे। यदि प्रमोषन में बाधा आ रही हो तो जितने वर्ष की नौकरी हो चुकी हो उतने गोमती चक लेकर ऊँ सूर्याय नमः मंत्र का जाप करते हुये जलती होली की परिक्रमा करते जायें और एक गोमती चक होली मे डालते और अपनी मनोकामना याद करते रहे। या होली के दिन सायंकाल को दक्षिणावर्ती शंख स्थापित करके इसमें लाल रंग के चावल, कागज पर अपना नाम गोत्र पिता का नाम व मनोकामना लिखकर शंख को लाल वस्त्र मे लपेटकर रखें नित्य धूप-दीप दिखायें। मन चाहे तबादले हेतु घर मे सूर्य यंत्र स्थापित करके 41 दिन तक लाल पुष्प से पूजा करें।     
- वर या कन्या विवाह में अड़चन आ रही हो तो रामचरित मानस का षिव-पर्वती विवाह प्रसंग का पाठ होली से प्रारम्भ कर नित्य 41 दिन षिव परिवार के चित्र के सामने करें।
- आपके काम बनते-बनते बिगड़ जाते हो तो होली की रात आटे का एक चैमुखी दीपक बनायें उसमें सरसों का तेल, सेन्दूर, एक सिक्का, एक बताषा डालें तथा होली की आग से इसे जलाकर किसी चैराहे पर रख आयें। बाधा दूर होगी।
- यदि आपका कोई काम सरकारी विभाग में लटक गया हो है। तो होली दहन के पूर्व मदार जड़ के 7 टुकड़े लेकर होली की उलटी परिक्रमा करें। प्रत्येक परिक्रमा पर एक टुकड़ा होली में डालते जायें। बिना बोले घर आ जायें।
- षिक्षा में बच्चा फेल होता होता हो या पढ़ने में मन ना लगे या कम नम्बर आते हो तो होली दहन के पूर्व होली को सूती धागे से चारो ओर नाप कर उसकी बत्ती बनाकर होली मे दहन के समय डाले व बच्चे को चार मुखी रुद्राक्ष या गणेष रुद्राक्ष धारण करा दे।
- यदि आपका उधार दिया धन डूब गया हो तो जली होली का कोयला लेकर किसी वीरान जगह पर कोयले से उस व्यक्ति का नाम लिखें। उस नाम को हरे गुलाल से ढक दें। वापस आ जाये। आपका धन मिल जायेगा। 
- पत्नी या प्रेमिका रूठ गई हो तो होली की रात काली गुँजा के 3 या 5 दाने एक छोटी शीषी में डालकर शहद भरकर व कागज मे उसका नाम लिखकर रखेलें। उस स्त्री का ध्यान करते रहे। पत्नी वापस आ जायेगी। शहद की सीषी में कागज और गुंजा के दाने डालें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति