सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शनि शांति के लिए निम्न उपचार करना चाहिये

- शनि मंत्र का जाप करें।
- शनि योगकारक हो तो साढे पांच रत्ती का नीलम पंचधातु मे शनिवार को मध्यमा उंगली मे धारण करें।
- शनिवार के दिन काला चावल, उड़द की दाल, काले तिल का दान करें।
- भैंस को चारा दें। तथा श्रमिकों को भोजन करायें।
- हनुमान जी को चमेली के तेल मे सेंदूर मिला कर अर्पित करें।
- शनिवार को या नित्य सूर्योदय के पूर्व पीपल पर पानी चढायें।
- शनि देव पर सप्तधान्य चढायें।
- हर शनिवार को छाया दान करें। किसी स्टील या लोहे की कटोरी में थोड़ा सा तेलव काले तिल डाल कर उसमे एक रूपया डालंे उस तेल मे अपना चेहरा देखकर तेल डकौत या जोषी पंडित को दान कों। या शनि देव पर चढायें।
- हर शनिवार शाम को घर से पष्च्छिम दिषा मे स्थित पीपल के पेड़ के नीचे मट्टी के दिये मे सरसों के तेल का दिया जलायें। इस क्रिया को करते हुये रास्ते मे आते जाते हुये ना किसी से बोलें ना कही रूकें।
- शुक्रवार को सवा पाव काले चने पानी मे भिगो कर शनिवार का निकाल कर उन्हें काले कपडे़ मे बांध लें साथ मे एक रूपया, एक कच्चे कोयले का टुकड़ा आध पाव काले तिल मिला कर बांध उें फिर 7 या 11 वार अपने सर से उतारें। और नदी मे प्रवाहित कर दें।
- सुंदरकांड का प्रतिदिन पाठ करें।
- काले उर्द, काले तिन, कंबल, काले चने का दान करें।
- हर शनिवार की रात को हाथ पैरों के नाखुनों मे सरसों का तेल लगायें।
- कोई असाध्य रोग हो जाने पर महामृत्यृ का जाप करें या करवायें।
- एक रोटी पर सरसों का तेल चुपड़ कर काले कुत्ते या काली गाय को खिलायें।
- सोमवार का षिवलिंग पर दूध, दही, जल, गंगाजल, तुलसी व शहद ये अभिषेक व स्नान करवायें।
- श्रमिको, नौकरों, दासयों तथा अधीनस्थ कर्मचारियों के साथ उत्तम व्यवहार करें।
- शराब, सभी नषें, मांसहार व तामसिक भोजन ना करें।
- भैरव जी या माता काली की पूजा करंे।
- भैरव जी या माता काली की पूजा करंे।
- यदि नीलम ना पहन सके तो उसका उपरत्न, नीली, लार्जवर्त, कटैला या जमुनिया, सिट्रीन या ब्लु टोपाज शनिवार को धारण करे।
- हर शनिवार को किसी गरीब को काला जाम या गुलाब जामुन खिलायें।
- चुकंदर या बैगन की सब्जी का दान करें। 
- नित्य शनि चालीसा व शनि गायत्री की एक माला जाप करें।
- नित्य सुबह-शाम शनि कवच का जाप करें।
- नीले, आसमानी, गुलाबी, क्रीम, हरे या सफेद वस्त्र धारण करें। पीला, लाल, नारंगी, गोल्डन कभी ना पहनें।
- नित्य हनुामन जी की उपासना करें। हनुमान चालीसा, बजरंग बाण, हनुमान जी का कवच का पाठ करें।
- प्रतिदिन 9 माला निम्न मंत्र का जाप करें।
‘‘ऊँ श्री रामदूताय नमः ऊँ’’
- 33 संख्या के शनि यंत्र को लोहे के पत्र मे खुदवा कर या अंगूठी बनवा कर उसका पूजन करें शनिवार को धारण करें।
- काले फल, काले फूल, छाता, चमड़े के जूते, चप्पलें, काले वस्त्र कुलथी की दाल, लोहा, नीलम, काली बाय दान करें।
- 43 दिन तक कौवों को रोटी खिालयें।
- हर शनिवार को गाय को रोटी और उर्द की दाल से बनी कोई खिलायें और उसका एक कौर तोड़ कर उस पर सरसों का तेल लगा कर कौवो को खिलायें।
- शनिवार को पीपल की जड़ मे काले तिल डालें। तथा पीपल की सात परिक्रमा करें।
- कोई रोग घेर ले तो किसी तानब के किनारे एक हँडिया मे सरसों के तेल भर कर तालाब मे गाड़ें।
- नारियल के गोले मे तिल व गुड़ भरकर या काले तिल व शक्क्र की पंजीरी जिसे तिरूचल्ली भी कहते हैं नारियल के गोल मे भर कर कर मैदान मे बिना बोलें सात शनिवार मे रख आयें इस क्रिया को करते हुये रास्ते मे आते जाते हुये ना किसी से बोलें ना कही रूकें।
- अमावस्या की रात को किसी वीरान चैराहें पर एक आदमी का भोजन व पानी रख कर सरसों के तेल का चैमुखा दिया जलाकर अपनी गलतियों की क्षमा मंगकर चले आयें इस क्रिया को करते हुये रास्ते मे आते जाते हुये ना किसी से बोलें ना कही रूकें।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति