सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आत्मविश्वास या उत्साह में की गई लाहपरवाही भी खतरनाक साबित हो सकती है

लखनऊ मण्डल के आयुक्त व नोडल अधिकारी कोरोना मुकेश मेश्राम ने बचत भवन के सभागार, रायबरेली में देर रात्रि कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु अधिकरियों को निर्देश दिये कि आमजनमानस लाॅकडाउन व सोशल डिस्टेन्सिंग का जिनता अधिक पालन करेंगे उतना ही कोरोना वायरस से दूर रहेंगे। उन्होंने कहा कि डरने की जरूरत नही है बल्कि उसे आत्मविश्वास के साथ सामाजिक दूरी बनाकर कोरोना को परास्त करना है। कोरोना के खिलाफ जारी जंग में जनपद, प्रदेश, देश में की जीत सुनिश्चित करने के लिए हमे लाॅकडाउन व सोशल डिस्टन्सिंग का पालन कराना अनिवार्य है साथ ही कोरोना योद्धाओं जिसमें चिकित्सक व उनका समुचित स्टाफ, सफाई कर्मचारी, पुलिस आदि का कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए बड़ा ही सहयोग है। कोरोना योद्धाओं के अथक कोशिश के साथ ही आम जनमानस द्वारा समाजिक दूरी बनाना घरों में रहकर सुरिक्षत रहना परिणाम स्वरूप अब इस संक्रमण कोरोना वायरस की जड़े कमजोर होने लगी है। कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए अभी लाॅकडाउन व सोशल डिस्टन्सिंग का पालन कराना बहुत ही जरूरी है। ज्यादा से ज्यादा लोग अपने-अपने घरों में ही रहे। 
 मण्डलायुक्त ने कहा कि प्रवासी जनों, क्वारंटीन में रखे गये व एल-1 में रखे गये पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कम्युनिटी किचन आदि में जा खाना तैयार किया जा रहा है उसमें गुणवत्ता व सवाद में किसी  प्रकार की कमी न आये। उत्तर प्रदेश सरकार का स्पष्ट निर्देश है जो भी खाना क्म्युनिटी किचन में तैयार किया जा रहा है जो क्वारंटीन में रखे गये लोगों, प्रवासी जनों को दिया जा रहा है उसको अधिकारी चख कर अवश्य देखें। उन्होंने एडीएम एफआर को निर्देश दिये कि हाॅट-स्पाटस आदि क्षेत्रों में जो खाना जा रहा है।  वहां कहा से बनवाया जा रहा है कौन उसका ठेकेदार है खाना किस दर पर तैयार कर रहा है। खाना कब से दिया जा रहा है। उसका पूर्ण रूप से पारदर्शी तरीके से लेखा-जोखा रहा जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि सीएमओं आदि के माध्यम से जो भी स्वास्थ्य सम्बन्धी उपकरण आ रहे है या खरीदे जा रहे है। उसका सत्यापन व स्टाक रजिस्टर अवश्य देख लें। अधिकारियों की बैठक हो तो गठित विभिन्न स्वास्थ्य टीमों के नो.डल अधिकारी बैठक में अवश्य आये। वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ देश की जनता डट कर लोहा ले रही है और इसमें सफलता भी मिल रही है। लेकिन ध्यान यह भी देना होगा कि आत्मविश्वास या उत्साह में की गई लाहपरवाही भी खतरनाक साबित हो सकती है। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि उनके द्वारा जो डाक्टर टेलीमेडिसिन सेन्टर जैसे जिला चिकित्सालय में फिजीशियन डा0 एस0के0 जैन 9415190269, आर्थो सर्जन डा0 भूपेन्द्र सिंह 9919670348, चेस्ट फिजीशियन डा0 बीरबल 9415954585, नाक कान गला रोग विशेषज्ञ डा0 शिवकुमार 9455665752, फिजीशियन डा0 राजेश गुप्ता 9335436232, फिजीशियन डा0 बृजेश सिंह 9335463231 की ड्यूटी प्रातः 10ः00 बजे से मध्यान्ह 12ः00 तक समयावधि में टेलीमेडिसिन सेन्टर, जिला चिकित्सालय, स्त्रीरोग विशेषज्ञ डा0 सुमेधा रस्तोगी 9670759019, चेस्ट फिजीशियन डा0 डी0के0 मिश्रा 8840518426, नाक कान गला रोग विशेषज्ञ डा0 राजेन्द्र शर्मा 9415034105, चर्म रोग विशेषज्ञ डा0 यू0सी0 शर्मा 9415034305, बाल रोग विशेषज्ञ डा0 आशुतोष सिंह 9554433666, फिजीशियन डा0 सत्य प्रकाश 9415034986 की ड्यूटी 12ः00 बजे अपरान्ह 02ः00 बजे तक, स्त्रीरोग विशेषज्ञ डा0 गीता शर्मा 9415091202, मानसिक रोग विशेषज्ञ डा0 सुधीर कुमार 8410843501, बाल रोग विशेषज्ञ डा0 हेमन्त कुमार सिंह 9415034343, फिजीशियन डा0 ए0आर0 त्रिपाठी 9415034039, स्त्रीरोग विशेषज्ञ डा0 हिमानी रस्तोगी 9452080953, फिजीशियन डा0 डी0आर0 मौर्या 7618812037 की ड्यूटी अपर.ान्ह 02ः00 बजे से 04ः00 बजे तक, आर्थो सर्जन डा0 डी0पी0 सरोज 7376170679, मानसिक रोग विशेषज्ञ डा0 जी0एस0 वर्मा 9415003584, सर्जन डा0 जे0के0 लाल 9415743241, डेन्टिस्ट डा0 अपूर्वदत्त 9451765218, बाल रोग विेशेषज्ञ डा0 डी0एस0 चन्देल 9415034815, चेस्ट फिजीशियन डा0 के0पी0 वर्मा 9936657267 की ड्यूटी 04ः00 बजे से सांय 06ः00 बजे तक की समयावधि में टेलीमेडिसिन सेन्टर, जिला चिकित्सालय रायबरेली लगायी गयी है। सामान्य मरीज को चिकित्सकों से उनके मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क कर परामर्श देने के निर्देश दिये गये है। इन चिकित्सकों से प्रतिदिन पूछा जाये कि इनके यहा कितने लोगों ने टेलीमेडिसिन सेन्टर से परामर्श किया गया उसका भी रिकार्ड रजिस्टर में रखा जाये। उन्होंने कहा कि होम्यो पैथिक और योग आयुष का हिस्सा है। अतः आयुवैदिक चिकित्साधिकारी योग गुरूओं को कोरेन्टाइन सेन्टरों सहित अन्य स्थलों पर योग के लिए भेजे। प्रत्येक तहसील में योग प्रशिक्षण की लिस्ट भी दे दें। स्कलों में दरी आदि बिछवाकर सामाजिक दूरी बनाकर योग करवाये तथा लोगों को काढ़ा आदि पिलवाकर आमजन की इम्युनिटी बढ़वाये। उन्होंने कहा कि योग व आयुवैदिक व यूनानी पैथी की तरफ पूरी दुनिया देख रही है। जिसका भारतीय आयुवैदिक व यूनानी योग आदि अपना महत्वपूर्ण रोक अदा कर सकते है।
 बैठक में मण्डलायुक्त व जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना को आयुवैदिक अधिकारी डा0 अरूण कुरील ने तेज पत्ता, दाल चीनी, सोठ, गिलोए, चिराए, तुलसी, अजवाईन आदि मिक्स काढ़ा की सीसी दी और कहा कि यह सीसी व काढा सामग्री महत्वपूर्ण स्थलों पर पहुचा दी गई है। उन्होंने कहा कि इस काढ़े को गरम पानी में मिलवाकर पीना होगा। इसके अलावा अन्य बिन्दुओं गेहूँ खरीद, राशन आपूर्ति आदि पर विस्तार से चर्चा की गई। इस मौके पर जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना व पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगाई, अपर पुलिस अधीक्षक नित्यानन्द राय, अपर जिलाधिकारी प्रशासन राम अभिलाष, एडी सूचना प्रमोद कुमार आदि कोरोना वायरस से सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति