संक्रमण कोरोना वायरस की जड़े कमजोर होने लगी है

लखनऊ मण्डल के आयुक्त व नोडल अधिकारी कोरोना मुकेश मेश्राम व आईजी एस0के0 भगत ने बचत भवन के सभागार, रायबरेली में देर रात्रि कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु अधिकरियों को निर्देश दिये कि अधिकारी स्वास्थ्य सम्बन्धी सभी मूलभूत सुविधाओं से पूरी तरह से लैस रहे। जिन अधिकारियों की डियूटी निरीक्षण व क्वारंटीन सेन्टर में लगाई गई है। ऐसे सभी कर्मचारियों को सीएमओं सभी भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकाल व गाईड लाईन के अनुरूप उपकरण, माक्स, सेनेटाइजर, पीपीटी किट आदि सभी व्यवस्थाओं को मुहैया कराये तथा प्रशिक्षण देकर उन्हें ड्यूटी के लिए तैयार करें। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए कोरोना वायरस की चैन तोड़ना जरूरी है। उन्होंने कहा कि आमजनमानस लाॅकडाउन व सोशल डिस्टेन्सिंग का जिनता अधिक पालन करेंगे उतना ही कोरोना वायरस से दूर रहेंगे। उन्होंने कहा कि डरने की जरूरत नही है बल्कि उसे आत्मविश्वास के साथ सामाजिक दूरी बनाकर कोरोना को परास्त करना है। कोरोना के खिलाफ जारी जंग में जनपद, प्रदेश, देश में की जीत सुनिश्चित करने के लिए हमे लाॅकडाउन व सोशल डिस्टन्सिंग का पालन कराना अनिवार्य है साथ ही कोरोना योद्धाओं जिसमें चिकित्सक व उनका समुचित स्टाफ, सफाई कर्मचारी, पुलिस आदि का कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए बड़ा ही सहयोग है। जनमानस को आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कराया जाये।
 मण्डलायुक्त ने कहा कि कोरोना संक्रमण की प्रत्येक चैन को तोड़ना है तथा मेडिकल इन्फेकक्शन न फैले सभी कोरोना योद्धाओं स्वास्थ्य कर्मियों को भली-भांति प्रशिक्षण देना है साथ में उन्हें यह भी बताया है कि कोरोना योद्धाओं के अथक कोशिश के साथ ही आमजनमानस द्वारा समाजिक दूरी बनाना घरों में रहकर सुरिक्षत रहना परिणाम स्वरूप अब इस संक्रमण कोरोना वायरस की जड़े कमजोर होने लगी है। कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए अभी लाॅकडाउन व सोशल डिस्टन्सिंग का पालन कराना बहुत ही जरूरी है। ज्यादा से ज्यादा लोग अपने-अपने घरों में ही रहे। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक क्षमता वाले क्वारंटीन सेन्टर और आश्रय स्थलों की व्यवस्था में किसी भी प्रकार की कोताही न बरती जाये। शेल्टर होम में 14 दिन का क्वारंटीन पूर्ण करने वालों की जांच कराकर होम क्वारंटीन के लिए घर भेजा जाये। मेडिकल टेस्टिंग के लिए पूल टेस्टिंग व रैंडम टेस्टिंग का प्रयोग किया जाये। जिलाधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, एसडीएम क्व.रंटीन सेन्टर व आश्रय स्थलो का निरीक्षण करें तथा वहा पर रहने व खाने पर विशेष ध्यान देकर नजर रखी जाये। प्रवासीजनों, क्वारंटीन में रखे गये व एल-1 में रखे गये पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कम्युनिटी किचन आदि में जा खाना तैयार किया जा रहा है उसमें गुणवत्ता व सवाद में किसी प्रकार की कमी न आये। 
 मण्डलायुक्त ने मुख्य पशुचिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि गौशालाओं में निराश्रित पशुओं के लिए बारिश आदि को देखते हुए आगामी 6 माह के लिए चारा के इंतेजाम कर स्टोर कर लिया जाये। श्रम विभाग सरकार द्वारा श्रमिकों को दी जा रही प्रति माह 1 हजार धनराशि के लिए देख लिया जाये कि कोई भी पात्र लाभार्थी न छुटे। उन्होंने यह भी कहा कि निजी स्कूल, कालेज बन्द है अपने टीचर चतुर्थ श्रेणी स्टाफ को वेतन दें यदि न दिया गया हो तो अवगत कराया जाये। कन्ट्रोल रूम पर जो शिकायते प्राप्त हो रही है उन शिकायतों का निस्तारण गुणवत्ता व मानक के अनुरूप तथा युद्ध स्तर पर करें। 
 इस मौके पर जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना व पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगाई, अपर पुलिस अधीक्षक नित्यानन्द राय, अपर जिलाधिकारी प्रशासन राम अभिलाष, एडी सूचना प्रमोद कुमार आदि कोरोना वायरस से सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।