सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आ अब लौट चलें

कोरोना के संक्रमण में सारे प्रवासी अब अपने घरों को लौट रहे है । आखिर वो कौन सा कारण है कि इस बीमारी से लोग इतना डर गए है और अपने गाँव को लौटने को मजबूर है,  मिट्टी की सुगंध उनको अपनी ओर क्यो खींच रही है। अगर पुरानी पहले की बाते याद करे तो देखते है कि हमारे बड़े बुजुर्गों ने हमे बताया था कि प्लेग, हैजा, चेचक के चलते पूरा का पूरा गांव साफ हो जाता था, लोग गाँव छोड़कर सिवान में बस जाते थे बाग-बगीचे, खलिहान में रहने के लिए चले जाते थे। उस समय भी संक्रमण एक दूसरे से ही फैलता था लोग साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखते थे। परिस्थितियां लगभग वही है केवल रोग बदल गया है, रोग के लक्षण बदल गए है, उस समय भी इन रोगों का कोई सटीक उपचार नहीं था और आज भी कोरोना की कोई दवा नही है। 
आज के आर्थिक युग मे लोगों द्वारा किसी न किसी तरह से प्रकृति के नियमो का पालन न करना और प्रकृति के विरूद्ध कार्य करना, प्रकृति के साथ खिलवाड़ करना उसका दुरूपयोग व दोहन करना इस बीमारी को और विकराल बनाती है। प्रकृति अपने को संतुलित करती है । अब जबसे पूरी दुनियाँ में सर्व बंदी (लाॅकडाउन) हुई है तबसे वातावरण स्वच्छ, पर्यावरण साफ, प्रदूषण समाप्त चाहे वो वायु या ध्वनि हो, नदियां स्वच्छ निर्मल, ओजोन परत भर गई। पहले आपको एक और उदाहरण देता हूँ जो मैंने अपनी आँखों से देखा लेकिन उस चेतावनी को लोग समझ नही पाते  क्योकि लोग भागम-भाग में कुछ देखते व समझते ही नही, बात सितंबर 2013 की है मैं बनारस गया था तो देखा कि अस्सी घाट पर गंगा जी के किनारे मिट्टी व गंदगी का अंबार लगा हुआ है तो पता चला कि गंगा जी मे बाढ़ आई थी और बाढ़ के उतरने के बाद ये मलवा यही रह गया इसका मतलब की गंगा जी अपने को स्वयं ही साफ कर लिया। 
 कुछ इसी तरह प्रकृति ने अपने को साफ-सुथरा कर लिया चाहे वो कोरोना ही कारण क्यो न बना हो। कोरोना का प्रकोप उन देशों या उन क्षेत्रों में ज्यादा हुआ जहां लोग पूरी तरह से प्रकृति से दूर रहे, चाहे वो रहन-सहन हो या खान-पान हो। हम इसको भारत से जोड़ते है भारत के गाँवो से जोड़कर देखते है। गाँव मे बच्चे मिट्टी में खेलते है और उसका लाभ ये होता है कि बच्चो के अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। रात की बची रोटी अगली सुबह खाते थे वो भी हमारे लिए लाभकारी होता है, दोपहर में गुड़ का शर्बत खाने के लिए लाई चना लेते थे। भोजन करने की जगह की नियमित गाय के गोबर से लिपाई होती थी, व्यक्ति हाथ पैर धुलकर भोजन करने बैठता था। लेकिन शहरी जीवन मे लोग जूता-चप्पल पहन कर कुर्सी मेज पर बिना सफाई किये खाने बैठ जाते है । वहीं आज क्या है कि कोई 8 घंटे की बासी रोटी नही खाता वही 4 दिन का बासी पावरोटी 8 दिन बासी बन, महीनों बासी रस्क बड़े चाव से खाता है, आज बच्चे पास्ता, केक, बर्गर, पिज्जा, चाॅकलेट आदि बड़े चाव से खाते है और मांए भी जल्दी के मारे भूखे बच्चे को 2 मिनट वाली नूडल्स-मैग्गी खिलाती हैं। बच्चो के सवेरे उठने रात में सोने का कोई समय नहीं रहा। खेल के मैदान में अब खेल नहीं रहा, उसकी जगह घरों के अंदर मोबाइल ने ले लिया। इससे कितना मजबूत बच्चा होगा और ये ही नहीं दूध के नाम पर बाजार का दूध जो गाय और भैंस का मिश्रण होता है और शुद्धता पता नही उसमे स्वाद लाने के लिए कोई चूर्ण जो हार्लिक्स, बूस्ट आदि नामो से आता है को मिलाकर बच्चो को पिला दिया जाता है। आपको गाय भैस पालते बहुत ही कम लोग दिखेगे लेकिन दूध, पनीर, छाछ, मिठाई जितनी चाहिए उतने मिल जाएगी इसी से इसकी शुध्दता का अंदाजा लगा लीजिये। 
 अब देखते है कि लोग अपने घरों को क्यो लौट रहे आखिर एक ही बात सबके दिमाग मे एक साथ कैसे आ गयी । इसका कारण है शहरों का दिखावटी जीवन, भागम-भाग वाली दिनचर्या, रिश्तों का कोई महत्व नहीं रह गया, यानी समाज से, रिश्तों से दूरी स्थापित हो गयी। बाहर रह रहे लोगों के बच्चे गाँव को जानते ही नही, वो अपनी पहचान से भी दूर हो गए है, लेकिन कोरोना के डर ने लोगांे को वापस अपने जड़ो से जुड़ने के लिए मजबूर कर दिया। ये बात तो साफ हो गयी कि हमारे गाँव का जीवन ही असली जीवन है, गाँव मे पैसा कम है पर रिश्तों की डोर मजबूत है।
 भारत मे कोरोना का प्रकोप कम क्यो है इसको देखते है तो ध्यान दीजिए कि ठंड के बाद ही होली के समय हम होलिका दहन करते है जिसमे रेड़ का पेड़ होता है यही रेड़ का पेड़ बहुत तरह के वायरस को समाप्त कर देता है। उसके बाद नवरात्रि आती है जिसमे जगह-जगह हवन होते है वो हवन भी बहुत तरह के वायरस को समाप्त करते है और फैलने से रोकते है। बरसात के बाद फिर शारदीय नवरात्रि आती है जिसमे हवन होता है जो हमें पूरे वर्ष हमको सुरक्षित रखते है। हमारा सादा जीवन ही हमारे जीवन का आधार है। इससे एक बात साफ हो गयी कि लोग प्रकृत के पास प्रदूषण से दूर रहना चाहते है अपनी संस्कृति, परंपरा, रीति-रिवाज, त्योहार, खान-पान से जुड़ना चाहते है यही सारी बाते लोगों को अपने गाँवो में लौटने को मजबूर कर रही है, कोरोना तो माध्यम बन गया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति