सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बैंक बैलेंस बढ़मि कमीशनम् नमामि

देश के लोगों के कल्याण के लिए पशु-पक्षी और जन-जन में दलाल के कंसेप्ट का प्रसार और विस्तार करने का व्रत लेकर निरंतर विचरण करने वाले कमीशनाधिपति ऋषिगणों को मैं खुलकर प्रणाम करता हूँ। कमीशनश्री के मूर्धन्य सम्मान से विभूषित परम आत्माओं को मैं पुनः-पुनः दण्डवत करता हूँ। एकमात्र उन्ही को सुविधा है कि वे बिना किसी रोक-टोक के कमीशन लोक के पर्याय विभिन्न मंत्रालयों व आॅफिसों में आत्म कल्याण के लोक कल्याण में बदलने के लिए अपने चरण-कमलों की रज को उनके सोफों पर छिड़क दें। वे समय-असमय भगवन् दलाल के निकट पहुँचकर अपनी सामयिक व असामयिक चुनावी घोषणाओं और वादों को दरकिनार करते हुए कमीशनावतार के रूप में पर्चा देने के लिए किसी सौदेबाजी के गर्भधारण करने का पवित्र कारज करते हैं। अतः देश के उत्तम स्वास्थ्य के लिए प्रत्येक नर-नारी को कमीशन स्रोत नियमित रूप से करना चाहिए। 
 ओम श्री इच्छामि, कोठी, कार, बैंक बैलेंस बढ़मि कमीशनम् नमामि। जो कमीशन को देने वाले दलाल देवगण का अपमान करते है, उनका तिरस्कार करते है। उनकी लुटिया हमेशा डूबती दिखी है। नाना रूपाणि कमीशननानि। एक बार मामला प्रकाश में आ जाए तो पुनः-पुनः दलाल देव की शरण में जाकर फिर कमीशन के प्रसव में मददगार बनकर पुराने दाग को रिन की चमकदार सफेदी और दूध मोती की सफेदी से भी चमकदार बनाया जा सकता है। कहा जाता है कि सौदे की दाल कमीशन का काला है। लेकिन यह कहकर कमीशन जी को अपमानित नहीं किया जाना चाहिए। दाल में कमीशन का काला नहीं है, कमीशन के मध्य कहीं सोदे का होना हो सकता है, अतः कमीशन सर्वव्यापी, सर्वशक्तिशाली है और अपना दरबार शासन व प्रशासन के बीच में जमाकर बैठा हुआ है। अतः कमीशन जी का मैं पुनः घोर समर्थन करते हुए साष्टांग दण्डवत् करता हूँ। 
 कमीशन रक्षा में है, कमीशन रक्षक में है, कमीशन दिल्ली में है, कमीशन अफसर में है, कमीशन रंगीन टेलिविजन घोटाले में भी है, कमीशन बोफोर्स के रूप में प्रकटता है तो कमीशन ‘वेस्ट एंड’ के रूप में अपना विराट स्वरूप दिखाता हैं कमीशन शिक्षा में, कमीशन स्पष्ट घुसा पड़ा है परीक्षा में।  फिर भी कमीशन धूम रहा है हमारे चिकित्सा तंत्र में। कमीशन उद्घाटन में है और वह भाषण में भी है। कमीशन चाटण में है तो कमीशन अभिनन्दन और पुरस्कार में है। स्मारिका चाहे वह किसी महाअधिवेशन की हो चाहे किसी अकादमी की हो हमारा कमीशन रत्न जड़ित आभूषण पर विराजमान है। कमीशन इल्म में है तो कमीशन इश्क में है। कमीशन तो हमारी प्यारी-प्यारी फिल्म में भी है। मगर यह चोरी-चोरी, चुपके-चुपके दिखते हुए खुलेआम है। अतः अगेन अहम् कमीशनैः नमो नमः एण्ड कमीशन शरणं गच्छामि कहो कहः।
 कमीशन सचिवालय में है तो कमीशन मंत्रालय में है। कमीशन औषधालय में है तो कमीशन कमीशन में है। कमीशन विदेशी हवाई जहाजरूढ़ होकर स्विस बैंकों के अभयारण्य में गुल खिलाता, तो कमीशन देर रात फाइव स्टार होटलों में अपनी प्यारी-सी पी.ए. के साथ पिए हुए इठलाता है। कमीशन हीरम तोता है जो विदेशी सैर-सपाटों का रूट चार्ट बनाने में ही मसगूल रहता है। यह निर्गुण भी है तो सगुण भी है। यह हमारे देश सेवकों का परम प्रिय है, तो अकादमियों का परम आदणीय भी। कमीशन मलेरिया में है तो, कमीशन फाइलेरिया में है।  अगर बिचारा इन बीमारियों में भी न होता तो स्वास्थ्य मंत्रालय इतना फिट आखिर किस तरह रहता? अतः वंस अगेन आई एम नतमस्तक अगेंस्ट कमीशनश्री।
 समस्त शिक्षा का सार! समस्त देश सेवा का सार! सभी तरह की राजकीय सेवा का सार! क्षितिज और ऊध्र्वाधर सहित दसों दिशाओं में व्याप्त कमीशनश्री चमकता है, दमकता है और पुनरूद्भाक्ति  होता है। जो मूरख है, करम का फूटा है, गोबर का गणेश है, गुबरैला है, धरम का फूटा है, शरण का फूटा है, वही कमीशन जी का अनादार करता है और अंततः भयंकर गरीबी के एडृस का शिकार होकर कमीशन के पितृदेव दलाल श्री के शाप से तड़प-तड़प कर मरता है। अतः कमीशनावतार के नए रहस्य को जानने पर ओम नमस्तस्यै-नमस्तस्यै नमस्तुभ्याम् नमो नमः कमीशन् च दलालम् नमाभिः। सर्व मंगलकारी सर्व दुःखहारी कमीशन तेरी जय हो! दलाल तेरा कल्याण करे।    


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति