सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पत्रकारिता एक मिशन है

देश व समाज के विकास में पत्रकारों व पत्रकारिता की भूमिका महत्वपूर्ण रही है। इलेक्ट्रानिक्स मीडिया तो अभी जल्दी आया है इस पूर्व प्रिन्ट मीडिया ने अपने सशक्त समाचारों विचारों से लोगों को जागरूक कर आगे बढ़ाने का कार्य कर देश व समाज के विकास में योगदान दिया है जो आज भी कर रहे है। समाचार पत्र, पत्रिका का क्लेवर, फोटो सेटिंग, समाचार का रचनात्मक, सकारात्मक, विश्वनियता, पारदर्शिता, विस्तृत अन्दाज, फोटो, गुणवत्ता, निष्पक्षता, सत्यता, नियमितता आदि, सबका साथ सबका विकास वाली पठनीय साम्रगी को पाठक पसंद करते है। समाचार पत्रों प्रिन्ट मीडिया का भविष्य, भूत, वर्तमान उज्जवल रहा है आगे भी उज्जवल रहेगा। पत्रकारिता का महत्व इसलिए अधिक है कि पत्रकार या उनके संवादसूत्र दूर दराज क्षेत्रों में समाज के अंतिम व्यक्ति से पैठ बनाकर उसका दुख दर्द, परेशानी आदि को जानकर समाचार पत्र में स्थान देकर शासन प्रशासन के सम्मुख लाकर समस्या का निवारण दुख दर्द दूर करने में अहम रोल निभाते है। कई बार बहुत सी जानकारी मीडिया प्रतिनिधियोें से ही आसानी से मिल जाती है जोकि कानून व शांति व्यवस्था को सुदृढ रखने में बहुत ही कारगर होती है। उन्होंने कहा कि प्रतिस्पधा्र के क्षेत्र में तीन बाते विन्रमता, कर्मण्यता, निष्पक्षता को तीन मंत्र ध्यान में रखकर मेहनत, लगन से कार्यो को कर आगे बढ़े। 
 यह विचार एक हिन्दी दैनिक समाचार पत्र (प्रज्ञांश न्यूज) के विमोचन पर सहायक निदेशक सूचना प्रमोद कुमार द्वारा समाजिक दूरी बनाते हुए व्यक्त किया गया। एडी सूचना प्रमोद कुमार ने कहा कि समाचार पत्र का क्लेवर संयोजन, फोन्ड तथा ईयररिंग समाचार व फोटो, तस्वीर की छपाई जो स्वयं में खबर कहती है सभी को आंखों में बसा लेती है। यह मायने नही रखता कि समाचार पेज 10 या अधिक पेज का हो। कई जनपदों से आने वाले अखबार आदि जिसका क्लेवर समाचार का विस्तृत अन्दाज, फोटो, गुणवत्ता, निष्पक्षता, पाठक पसन्द करते है जिसका लोग इंतजार करते है। इसी प्रकार दैनिक आज, हिन्दुस्तान, अमर उजाला, दैनिक जागरण, लोक भारती, पायनियर, निष्पक्ष जनएकता, जदीद आवाज, उर्दू दैनिक सत्ता, सत्ता एक्सप्रेस, नवभारत टाइम्स, टाइम्स आॅफ इण्डिया, हिन्दुस्तान टाइम्स, स्वतन्त्र चेतना, दैनिक शाश्वत टाइम्स, स्वतंत्र भारत, नगर छाया, अवध नामा, जनमोर्चा, जनसंदेश टाइम्स, दैनिक राजपथ, तरूण मित्र, देश की आन, ऊँची खोज, दै0 पब्लिक पावॅर, परिवर्तन टाइम्स, पंजाब केशरी, दैनिक भास्कर, राष्ट्रीय सहारा, राष्ट्रीय स्वरूप, वर्कर्स हेरल्ड, दैनिक देवव्रत, स्पष्ट आवाज, स्पूतनिक, जदीद मरकज, वहीद भारत टाइम्स, नगराज दर्पण, सरिता, बूमेनइरा, टाइम्स, इंडिया टुडे, प्रतियोगिता दर्पण, कम्पटीशन सक्सेस रिब्यू, ब्राइटकैरियर, कम्पटीशन रिफ्रेसर, कम्पटीशन साइंस रिफ्रेसर, रोजगार समाचार, इम्पलाइमेंट, उत्तर प्रदेश संदेश, इण्डियन स्पीड, तरूणमित्र, उत्तर प्रदेश आदि समाचार पत्रों/पत्रिकाओं के पाठक अपने पसन्द के अखबारों/पत्रिकाओं, मैंगजीन का बेसब्री से इंतजार करते देखे जाते है। जिसका क्लेवर समाचार, सामान्य ज्ञान, इवेन्ट, करंट टापिक्स आदि का विस्तृत अन्दाज, साक्षात्कार, फोटो, गुणवत्ता, निष्पक्षता, पाठक पसन्द करते है। समाचार पत्रों में पाठक की चिट्ठी, आपके विचार, पाठकनामा आदि नामक कालम में आम आदमी अपनी बात को बाखूबी से रखता है। प्रतिस्पर्धा माहौल में गुणवत्ता, निष्पक्षता, सत्यता, सकारात्मकता, रचनात्मकता होगी तो लोग सराहना करते है समाचार पत्र का छापना संचालन करना जितना मुश्किल है उतना आसान भी नही है। पत्रकारिता एक मिशन है मिशन की भांति कार्य करेंगे तो निश्चय ही सफलता मिलेगी। उन्होंने कहा कि समाचार पत्रों में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जागरूकता के लिए अधिक से अधिक सामग्री प्रकाशित कर आमजन को जागरूक भी किया जाये तथा कोरोना चैन को प्रत्येक दशा में तोड़ने में आगे आये। 
सम्पादक सीधर कुमार मिश्रा, आदर्श कुमार अवस्थी, चन्द्रभान वर्मा, ज्ञान तिवारी ने कहा कि मीडिया समाज की समस्याओं को उजागर करने में आगे जहां आते वही विकास व रचनात्मक कार्यो सरकार की कल्याणकारी योजनाओं, कार्यकर्मो, उपलब्धियों का बखान कर उसका आमजनों को लाभान्वित करने में भी सहयोग करते है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता एक बडी शक्ति व ताकत है देश के महान नेता गांधी जी, बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर, लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक, जवाहर लाल नेहरू, अटल बिहारी बाजपेई आदि पत्रकारिता से जुडे थे जिसके माध्यम से समाज को जागरूक कर अंग्रेजों के खिलाफ जनमत तैयार करने में अपनी अहम भूमिका निभाई है। परिणामस्वरूप देश को आजादी शीघ्रता शीघ्र मिलभ् है। अब जिम्मेदारी है कि इसके निर्माण और विकास, उन्नति में अग्रणी भूमिका निभाई जाये साथ ही समाज में व्यापत अन्धविश्वास, पाखण्ड, कुरीतियों, असमानता आदि के विरूद्ध जागरूकता पैदा कर इसको जड से समाप्त किया जाये तथा रचनात्मक, सकारात्मक कार्यो से देश व समाज के विकास के साथ ही राष्ट्रीय एकता और अखण्डता को अधिक मजबूत प्रदान करने में सहयोग दें। इसके अलावा पर्यावरण संरक्षण, जल संरक्षण, वन संरक्षण आदि के लिए भी जागरूकता कर संरक्षण किया जाये। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति