वार्ड में जानवर को बैठा देख एफआईआर दर्ज करने के निर्देश

झाँसी। जिलाधिकारी, झाँसी आन्द्रा वामसी औचक निरीक्षण पर जिला अस्पताल पहुंचे। वहां अव्यवस्था देख कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए लगभग आधा दर्जन मेडिकल स्टाफ के वेतन रोके जाने के साथ प्रतिकूल प्रविष्टि व एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए। जिला अस्पताल की लगातार मिल रही शिकायतों को देखते हुए जिलाधिकारी अचानक मौके पर पहुंचे और प्राप्त शिकायतों की जांच की तो पाया जिला अस्पताल स्वयं बीमार है। लाकडाउन के कारण जहां मरीजों की संख्या में कमी आई है। वहीं जो मरीज आते हैं उनका पर्याप्त इलाज नहीं हो पाता। अधिकतर मरीजों का मेडिकल कालेज के लिए रेफर कर दिया जाता है। निरीक्षण में चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ व पैरामेडिकल स्टाफ के वक्त बेवक्त आने की शिकायत भी सही पाई गई। जिस पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होंने कार्रवाई के आदेश दिए।
जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने अस्पताल के निरीक्षण पर इमरजेंसी पहुंचे। वहां पेशेंट के पास ही गंदगी तथा वार्ड में जानवर को बैठा देख कड़ी नाराजगी व्यक्त की और स्टाफ नर्स श्रीमति साधना के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इमरजेंसी की लगातार सफाई होनी चाहिए, परंतु ऐसा नहीं हो रहा। जिलाधिकारी ने हृदय रोग यूनिट का निरीक्षण किया। वहां भी स्थिति संतोषजनक नहीं पाई गई। निरीक्षण में डॉक्टर सुनीता भदौरिया व डॉक्टर शिफाका जाफरीन का तत्काल वेतन रोके जाने के निर्देश दिए। जिला अस्पताल के निरीक्षण पर जिलाधिकारी ने एक्स-रे रूम व अल्ट्रासाउंड सेंटर की जांच की तो पाया कि मेंटीनेस ठीक है परंतु टेक्नीशियन बिना अनुमति लिए गैर हाजिर है और गंदगी भी अधिक पाई गई। उन्होंने व्यवस्थाएं बेहतर बनाए जाने के निर्देश दिए। जिला अस्पताल के ब्लड बैंक के निरीक्षण पर जिलाधिकारी को ढेरों मोटर बाइक खड़ी मिली। उन्होंने इस तरह गाड़ियों का पार्क रहने पर व ऐसी अवस्थाएं होने पर चेतावनी दी।
जिला अस्पताल में ढेरों अव्यवस्था होने व व्यापक गंदगी पाए जाने के साथ ही शिथिल पर्वेक्षण पर सीआईएम (सीएमएस) डा एम सी वर्मा को विशेष प्रतिकूल प्रविष्टि दिए जाने के निर्देश मौके पर दिए। इस मौके पर सीएमओ डॉक्टर गजेंद्र कुमार निगम, सीआईएस डा एम सी वर्मा सहित अन्य चिकित्सक भी उपस्थित रहे।