सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मां गंगा दिवस के अवतरण पर गंगा का उदगम विषय परिचर्चा

शाश्वत सांस्कृतिक साहित्यिक एवं सामाजिक संस्था द्वारा आयोजित आनलाइन परिचर्चा मां गंगा दिवस के अवतरण पर गंगा का उद्गम विषय परिचर्चा हुई जिसमें मुख्य वक्ता के रूप में वरिष्ठ रंगकर्मी एवं अधिवक्ता ऋतंधरा मिश्रा जी ने कहा की  गंगा का उद्गम गोमुख जिसके हम सशरीर दर्शन करके आते हैं। वह असली गोमुख नहीं है वो तो मात्र संसार को वही तक रोकने का एक उपाय है क्योंकि वास्तविक गोमुख को हमेशा बचाकर सुरक्षित रखना है सदियों से लोग सशरीर वहीं से प्रणाम करके वापस आ जाते हैं क्योंकि असली गोमुख तक शरीर जाना संभव ही नहीं।
पूरी गंगा अल्केमिकल प्रयोग है इस जगत में एक मात्र अनूठा अनुपम क्योंकि गंगा एक ऐसी इकलौती नदी है जो उद्गम से लेकर अंत तक एक रासायनिक द्रव्य में बदल दी गई थी जिसके जल में यह विशेषता पैदा कर दी गई थी कि सालों तक उसका जल बाहरी जीवाणुओं से प्रभावित नहीं हो सकता था। गंगा ही एक ऐसी नदी है जिस के जल में यह विशेषता पाई जाती है कि यदि उसमें आप अस्थियों को प्रवाहित करें तो वह पूर्णतया घुल जाती है इसलिए सनातन ने अस्थि विसर्जन के उपयुक्त केवल गंगा को कहा पर हड्डियों को गलाने की क्षमता रखते हुए भी गंगा अपने भीतर और बाहर दोनों जगह पर पल रहे जीवन को पालती है और पोषित भी करती है गंगा पहाड़ों से बहती हुई कोई सामान्य नदी नहीं है बल्कि सुनियोजित प्रयोग के तहत एक बहाई गई नदी है क्योंकि गंगा के ठीक बगल से उसी पहाड़ से निकलने वाली नदी अलकनंदा में तो वह गुण नहीं पाई जाती जैसा कि गंगा में पाए जाते हैं जिसके आचमन और स्नान के तुरंत बाद यदि मंदिरों और तीर्थों में शरीर प्रवेश करें तो इस शरीर के अवचेतन और अंतर्मन की यात्रा प्रारंभ कराई जा सकती है गंगा के जल में तो खूबियां पैदा की गई थी कि इसके प्रयोग से शरीर के अंदर और बाहर कुछ समय के लिए चित की दशा और दिशा में परिवर्तन कर इस शरीर को आगे की साधना के लिए तैयार किया जा सके इसीलिए हिंदुओं के सारे तीर्थ इसी नदी पर बसाए गए गंगा हिंदुओं द्वारा पांच महा भूतों में से एक जल पर किया गया अब तक का सबसे गहरा प्रयोग है जिसमें कुंजी छिपी थी इस शरीर के साथ चेतना के दूसरे स्वरों तक जाने की वह हमें परमात्मा के द्वार तक भी ले जा सकती थी परंतु अब शायद हो कुंजी हमसे गुम हो गई वास्तव में सर शरीर असली गोमुख तक जाना असंभव है पर यदि सूक्ष्म शरीर की चेतना को ऊंचाई प्रदान की जाए तो निसंदेह आज भी उस प्रयोगशाला को देखा जा सकता है। जहां एक सामान्य जल को इतने विस्तृत और लंबे समय के लिए इतने कीमती जल में बदल दिया गया कि सदियों सदियों तक उस जल की वह गुणवत्ता आज भी ना सिर्फ कायम है बल्कि आने वाली पीढ़ियों को आश्चर्य से अभिभूत कर रही है। इसके अतिरिक्त  चर्चा में कैंब्रिज कालेज की प्रधानाचार्य वंदना जी ने अपनी बात रखी तथा इस आनलाइन पर चर्चा में हिस्सा लिया साधना प्रतिभा सुमित अखिलानंद दिवेदी अमिताभ आमेश संजय सक्सेना महक जौनपुरी ने अपने विचार व्यक्त किए परिचर्चा कार्यक्रम का संचालन श्रीमती रचना सक्सेना ने किया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति