सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

श्रमिकों के कौशल का पूरा सद्पयोग किया जाये: मण्डलायुक्त मुकेश मेश्राम

विकास व निर्माण कार्यो को गुणवत्ता मानक व तय समय सीमा पर कराया जाये। कानून एवं शान्ति व्यवस्था को दुरूस्त रखा जाये। गांव व क्षेत्रों में झगड़ो व विवादों के सम्बन्ध में सिपाही लेखपाल व ग्राम प्रहरी को सतर्क रखने के साथ ही वाद-विवाद रजिस्टर बनाने व क्षेत्रों में एसडीएम व क्षेत्राधिकारी का भ्रमण निरन्तर रहे। प्रवासी श्रमिकों को अधिक से अधिक मनरेगा के तहत काम दिलाने के साथ ही श्रमिकों के कौशल का पूरा सद्पयोग किया जाये। गौ आश्रय स्थलों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जैव उर्वरक उत्पादन एवं मत्स्य पालन प्रोजेक्ट गौशालाओं में शुरू करवाये जाने की कार्यवाही करे। इसके अलावा कोरोना के संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए जनपद के समस्त कार्य सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने के साथ ही मास्क का उपयोग भी किया जाये। कोरोना बचाव से सम्बन्धित स्वास्थ्य प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन किया जाये। सभी जनों को इम्युनिटी बढ़ाने वाले आहार भोजन में शामिल कर नियमित रूप से हाथ धोने सोशल डिस्टेसिंग रखते हुए कार्य किया जाये। निगरानी समितियां व सेक्टर अधिकारी पूरी तरह से सर्तक रहे। प्रतिदिन मांगी गई रिपोर्ट समय से उपलब्ध कराये। इसके अलावा टर्मल स्कैनर एवं आक्सीमीटिर की उपलब्धता बनी रहे। जनपद में एक दिन में जुलाई के प्रथम सप्ताह में 40 लाख वृक्षों का रोपण किया जाना है जिसकी तैयारियां पूरी तरह से दुरूस्त रहे। इस दौरान शासन द्वारा निर्धारित वृक्षों का रोपण हो। वृक्षारोपण के दौरान आम, जामुन, पीपल, बरगद, पाकड़, कैथा एवं औषधीय पौधो को अधिक से अधिक रोपित किया जाए तथा वृक्षों की सुरक्षा हेतु नेचुरल ट्रीगार्ड या बांस के ट्रीगार्ड लगवाये जाये। 
 मण्डलायुक्त मुकेश मेश्राम विगत दिनों जनपद के भ्रमण के दौरान यह निर्देश दिये गये थे। मण्डलायुक्त ने इसके अलावा किसानों की आय को दुगनी हो इसके लिए कृषि विविधिकरण, जैवविविधता के साथ ही फूलों की खेती पर जोर दिया। उन्होंने अधिकारियों के साथ बछरावां के ग्राम गजियापुर के पाली हाउस का निरीक्षण किया। जहां जरबेरा फूलों की खेती को देखा। फूल सभी को अच्छे लगते है तथा इसकी ताजगी व सुगंध काफी वक्त के लिए बनी हुई रहती है। कुछ फूलों की खेती हेतु पाली हाउस को तैयार करके लोन आदि लेकर लाखों रूपये की आय की जा सकती है। इसके अलावा क्षेत्रों में संघन वृक्षारोपण मियाबाकी फाॅरेस्ट स्थापित करने के लिए स्थानों का चिन्हित कर लें। मियाबाकी फाॅरेस्ट तकनीकी एक विदेशी तकनीकी के माध्यम से वृक्षों का बढ़ना दुगनी गति से होता है तथा जापनी तकनीकी से वृक्षों में परस्पर सामान्जस्य बना रहता है। इससे इससे पानी सभी वृक्षों को एक साथ मिलता है। पशु पक्षियों का भी ठीक से बसेरा व उन्हें फायदा भी होता है। यह पर्यावरण के भी पूरी तरह से अनुकूल माना गया है। मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल द्वारा जरबेरा के फूल भी मण्डलायुक्त को देते हुए उसकी विशेषता बताई।


मण्डलायुक्त के निर्देश पर जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने समस्त एसडीएम व अधिशाषी अधिकारियों सहित समस्त विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये है कि वर्षाकाल में जनपद में एक दिन में 40 लाख वृक्षों का रोपण किया जाना है जिसकी समुचित तैयारियां पूर्ण कर दुरूस्त कर लें क्योकि जुलाई के प्रथम सप्ताह में किसी दिन वृक्षों का रोपण किया जाना है तथा इस संदर्भ में डीएफओ निरन्तर संम्पर्क बनाये रखे। नगर पंचायत/नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी को निर्देश दिये गये है कि अपने-अपने क्षेत्रों में साफ-सफाई, नाला-नालियां साफ-सफाई सहित पूरी तरह से क्षेत्रों को विशेष ध्यान देकर साफ-सुथरा रखे तथा कही पर जलभराव की स्थिति न उत्पन्न हो। अनलाॅक की स्थिति में नियमों का कड़ाई से पालन किया जाये। अनलाॅक-वन/लाॅकडाउन के तहत शासन द्वारा दिये गये नियमों का अक्षरशः पालन किये जाने के निर्देश दिये है। व्यवस्था निर्धारित नियम के अनुसार दुकानदार मास्क लगाकर एवं सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए नियमानुसार दुकानें खोले। एडीएम, नगर मजिस्टेªट, समस्त एसडीएम, सेक्टर मजिस्टेªट/सेक्टर आधिकारी सहित आदि को पूर्व में निर्देश दिये गये है कि नियमों का कड़ाई से अनुपालन कराया जाये। सभी प्रकार की औद्योगिक इकाईयों एवं दुकानों व उनके स्टाफ को फेस मास्क, ग्लब्स का इस्तेमाल करना अनिवार्य होगा और संक्रमण से बचाव के लिए सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने के साथ सेनेटाइजर आदि की व्यवस्था रखे, मण्डी लगने के साथ ही सोशल डिस्टेसिंग के साथ मण्डी नियमानुसार लगेंगी। नर्सिग होम मे नियमानुसार ही ओपीडी आदि कार्य किये जायेगें और नर्सिंग होम में पीपीई किट, मास्क आदि समस्त सुरक्षा उपकरण रखें जायेंगे। 60 वर्ष से अधिक आयु, गम्भीर बीमार, गर्भवती महिलाए एवं 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे घर से बाहर नही निकलें अति आवश्यकता पर ही घरों से निकले। 
 जनमानस मोबाइल में आरोग्य सेतु एवं आयुष कवच एप डाउनलोड अधिक से अधिक करना होगा। आरोग्य सेतु व आयुष कवच एप के सम्बन्ध में जागरूक करने हेतु दुकानों के बाहर बैनर व पोस्टर लगाये तथा आने वाले ग्राहकों को एप डाउनलोड करने हेतु प्रेरित करें। जिलाधिकारी समस्त औद्योगिक इकाईयों, दुकानदारों एवं जनमानस से कहा है कि एक जागरूक नागरिक के रूप में अनलाॅक-वन/लाकडाउन एवं सोशल डिस्टेसिंग का पालन करें अन्यथा अनलाॅक-वन/लाॅकडाउन के निर्देशों का उल्लघंन करने वाले लोगों के विरूद्ध आपदा प्रबन्धन अधिनियम के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति